छोटूराम इंटर के धरनारत शिक्षकों ने साधा डीआईओएस पर निशाना...लगाया प्रवक्ता दम्पति को संरक्षण देने का आरोप

छोटूराम इंटर के धरनारत शिक्षकों ने साधा डीआईओएस पर निशाना...लगाया प्रवक्ता दम्पति को संरक्षण देने का आरोप

मुजफ्फरनगर। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पर जारी चौधरी चरण सिंह इंटर कालेज के अध्यापकों व लिपिकों का धरना सातवें दिन भी जारी रहा। धरने पर बैठे अध्यापकों ने आरोप लगाते हुए कहा कि संस्था के कार्यवाहक प्रधानाचार्य नरेश प्रताप सिंह व उनकी पत्नी श्रीमती शैलजा सिंह प्रवक्ता पद पर कार्यरत हैं। इन्होंने एक अगस्त 2017 को शिक्षकों के साथ गाली-गलौज व मारपीट की। इसके विरोध में दो अगस्त 2017 से भी शिक्षक व लिपिकगण अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गये। प्रधानाचार्य द्वारा विद्यालय में की जा रही वित्तीय अनियमितताओं की शिकायत पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने समितियां बनाकर जांच करायी। जिसमें कार्यरत प्रधानाचार्य को दोषी पाया गया, परंतु अज्ञात कारणों के चलते जिला विद्यालय निरीक्षक के द्वारा आज तक प्रधानाचार्य के विरूद्ध किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं की गयी, बल्कि इसके विपरीत पीड़ित शिक्षकों व लिपिकों का उत्पीड़न प्रारंभ कर दिया।
शिक्षकों ने आगे आरोप लगाते हुए कहा कि कालेज में कार्यरत श्रीमती शैलजा सिंह, जो कि भारतीय जनता पार्टी की पूर्व महिला जिलामंत्राी रही हैं, इनके दबाव में जिला विद्यालय निरीक्षक व प्रबंध संचालक भी पीड़ित शिक्षकों व कर्मचारियों का उत्पीड़न करने में लगे हैं। इन्होंने पीड़ितों की उपस्थिति की सूचना एवं किसी भी प्रकार की डाक व किसी भी प्रकार की सूचना लेने से इंकार कर दिया। जिसको रजिस्टर्ड डाक से भेजना पड़ रहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक कोई भी बात सुनने को तैयार नहीं हैं। जिससे छात्रों का अहित हो रहा है। छात्रों की पढ़ाई के हो रहे नुकसान का संपूर्ण दायित्व डीआईओएस का है। आज के धरने पर चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी भी शामिल हुए। धरने पर योगेंद्र सिंह मलिक, रविंद्र कुमार, सुरेंद्र सिंह, वेदप्रकाश, बिजेंद्र सिंह, संतराम, अमन कुमार, राजेंद्र कुमार, अरविंद कुमार, सत्येंद्र कुमार, नरेंद्र कुमार, नैन सिंह, राकी, दिग्विजय सिंह, प्रवेश कुमार, अमर सिंह, संजीव कुमार, संतोष कुमार सिंह, अनिता रानी, वंशराज, मुनेश कुमारी व सरला आदि उपस्थित रहे।

Share it
Top