भाकियू ने रोडवेज बस रोककर किया प्रदर्शन...आरएम के लिखित आदेश मानने को रोडवेज वाले तैयार नही

भाकियू ने रोडवेज बस रोककर किया प्रदर्शन...आरएम के लिखित आदेश मानने को रोडवेज वाले तैयार नही

पुरकाजी। ब्लॉक के गांव सुवाहेड़ी निवासी कारी नासिर दिल्ली से मुजफ्फरनगर डिपो की बस में पुरकाजी के लिए सवार हुए बस परिचालक ने जबरदस्ती पुरकाजी की जगह फलौदा का टिकट देकर पुरकाजी बाईपास उतारने की जिद की सवारी ने एआरएम मुजफ्फरनगर बीपी अग्रवाल को फोन पर शिकायत की। एआरएम के फोन पर परिचालक और चालक भड़क गए और सवारी से खूब अभद्रता की। विरोध में भाकियू ने बाईपास पर बस रोककर विरोध प्रदर्शन किया। एआरएम के कार्यवाही करने के आश्वासन पर बस को जाने दिया गया।
पुरकाजी के सुहेड़ी गांव के कारी नासिर को पुरकाजी के बजाय फलौदा का टिकट देकर जबरन बाईपास उतारने की कोशिश करना मुजफ्फरनगर डिपो की बस संख्या के चालक परिचालक को उस समय भारी पड़ गया, जब इस मामले की शिकायत सवारी ने भाकियू सलाहकार जहीर फारुकी एडवोकेट से की। फारुकी ने तुरन्त मुजफ्फरनगर एआरएम अग्रवाल को फोन पर चालक परिचालक की शिकायत की। एआरएम ने परिचालक को पुरकाजी अंदर से जाने की हिदायत की, जिस पर परिचालक ने सवारी से अभद्रता की अभद्रता की। शिकायत पर भाकियू कार्यकर्ताओं ने जहीर फारुकी एडवोकेट और भाकियू नगर अध्यक्ष रियासत खलीफा के नेतृत्व में भुराहेड़ी कट पर बस को साइड लगवाकर विरोध प्रदर्शन किया। वहां पहले से मौजूद टीआई ने भी अधिकारियों से इस बस के लगातार बाईपास से जाने की शिकायतें की। एआरएम द्वारा सख्त कार्यवाही के आश्वासन पर बस को जाने दिया गया। चालक परिचालक को खरी खोटी सुनाई गयी। गौरतलब हो कि पुरकाजी बाईपास बनने के बाद से अधिकतर रोडवेज बसे बाईपास से होकर जाती हैं। पुरकाजी क्षेत्र के हजारों यात्रियों को रोजाना रात बेरात को जंगल में बाईपास पर उतार दिया जाता है। यात्रियों को भारी असुविधा को देखते हुए भारतीय किसान यूनियन के भाकियू सलाहकार जहीर फारुकी एडवोकेट ने कई बार पुरकाजी में कई दिन तक धरना प्रदर्शन किया, जिसमें एआरएम खतौली, एआरएम मुजफ्फरनगर सहित कई एआरएम धरने पर आये थे और लिखित में आश्वासन दिया था कि रोडवेज की सभी बसें पुरकाजी बाईपास से नहीं जायेगी कस्बे में अंदर से होकर जायेगी। ऐसा ही एक आदेश आरएम सहारनपुर ने बड़े-बड़े बोर्ड पर लिखवाकर पुरकाजी बाईपास पर लगवा रखें हैं, लेकिन रोडवेज वाले अपने उच्च अधिकारियों के आदेश भी न मानकर रोजाना छात्रा-छात्राओं और सवारियों को बाईपास पर जंगल में उतारकर चले जाते हैं। बाईपास से कस्बे में अंदर आने में भारी असुविधा और सुनसान जंगल का रास्ता होता है। सवारियों से रात बेरात में लूटपाट की घटनाएं भी हो चुकी हैं। प्रदर्शन करने वालों में हा. मोहसिन, जगदीश, हापिफज मोईन, कुशलवीर, अरशद, साजिद, अमजद खान, आरिफ खान, नदीम् फरीदी, अजीज सिद्दीकी, आदि सैंकड़ो लोग मौजूद रहे। इस सम्बन्ध में एआरएम मुजफ्फरनगर बीपी अग्रवाल का कहना है कि चालक-परिचालक की रिपोर्ट मांग ली गयी है। रिपोर्ट आते ही सख्त कार्यवाही की जायेगी। सभी बसें पुरकाजी में अंदर से होकर जाएंगी।

Share it
Top