एआरएम ने संभाला मोर्चा, खुलवाया जाम...पुलिस बनी रही मूकदर्शक, एसपी सिटी बने कर्मचारियों के कोप के शिकार

एआरएम ने संभाला मोर्चा, खुलवाया जाम...पुलिस बनी रही मूकदर्शक, एसपी सिटी बने कर्मचारियों के कोप के शिकार

मुजफ्फरनगर। बुधवार को मुजफ्फरनगर की रोडवेज डिपो के एक संविदा परिचालक के साथ पांच पुलिस वालों के द्वारा की गयी पिटाई के बाद डिपो पर सभी कर्मचारी आंदोलित हो उठे। जिसकी सूचना पाकर मौके पर पहुंचे पुलिस व अधिकारी घंटों मूकदर्शक बने रहे। अंत में गुस्साए रोडवेज कर्मचारियों को समझाने का जिम्मा खुद एआरएम के द्वारा संभाला गया। जिसके बाद सभी कर्मचारियों ने, जो बसों को सड़क पर आड़े तिरझा खड़ी करके हंगामा कर रहे थे, माने। जिसके बाद एआरएम के संबंधित पुलिस वालों के विरूद्ध कार्यवाही की बात कहने के बाद रोडवेज के कर्मचारियों के द्वारा जाम को खोला गया। जिसके बाद बसांे का संचालन सुचारू हो पाया।
मुजफ्फरनगर की रोडवेज डिपो दोपहर दो बजे को जंग के मैदान के रूप में नजर आने लगा। सड़क पर जिधर भी नजर दौडायी जाती, केवल रोडवेज कर्मी व यात्राी ही नजर आ रहे थे। इसके कुछ देर बाद पुलिस वाले भी नजर आये। हुआ यंू कि डिपो का संविदा पर तैनात परिचालक रामपुरी निवासी ब्रजमोहन शर्मा दोपहर साढ़े बारह बजे डिपो से बस संख्या यूपी11एटी/ 2583 को लेकर चला। जब वह शहीद बचन सिंह चौराहे पर पहंुचा, तो आरोप है कि वहां पर तैनात यातायात पुलिस के एक कर्मचारी ने चालक के साथ अभद्रता की, जिस पर परिचालक भी वहां पर आ गया। जिसके बाद पुलिस वाले ने चार अन्य साथियों को वहां पर बुला लिया। उसके बाद परिचालक को थाना सिविल लाइन ले जाकर उसके साथ मारपीट करते हुए उसकी आंख को पफोड़ने की कोशिश की। आरोप है कि पांचों ने उसका कैश से भरा थैला भी लूट लिया। जिसके बाद सूचना पाकर रोडवेज कर्मचारियों मंे आक्रोश व्याप्त हो गया। जिसके बाद उन्होंने बसों को सड़क पर आड़े तिरछा खड़ा करके जाम लगा दिया। उनका कहना था कि जब तक संबंधित पुलिस वालों के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज नहीं हो जाती, तब तक वह जाम नहीं खोलेंगे। हंगामे की सूचना पाकर पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। जिन्होंने कर्मचारियों ंको मनाने की भरसक कोशिश की, लेकिन वह नहीं माने। अंत में डिपो के सहायक क्षेत्राीय प्रबंधक बीपी अग्रवाल को मैदान में उतरना पड़ा। एक बार को तो नाराज रोडवेज कर्मचारियों ने एआरएम की बात को भी मानने से इंकार कर दिया। वहां पर आये एसपी सिटी ओमवीर सिंह को भी उन्होंने आड़े हाथों लेते हुए खरीखोटी सुनायी। जिसके बाद सहायक क्षेत्राीय प्रबंधक बीपी अग्रवाल ने उन्हें संबंधित कर्मचारियों के विरूद्धा रिपोर्ट दर्ज कराने व संबंधित रोडवेज कर्मचारी का मेडिकल कराने की बात की। जिसके बाद उनके कहने पर जाम को खोल दिया गया। जिसके बाद सभी ने राहत की सांस ली।

Share it
Top