मुजफ्फरनगर डिपो से नहीं होगी किसी की घर वापसी...आरएम व एसएम ने किया डिपो का निरीक्षण

मुजफ्फरनगर डिपो से नहीं होगी किसी की घर वापसी...आरएम व एसएम ने किया डिपो का निरीक्षण

मुजफ्फरनगर। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पचास साल से उपर के कर्मचारियों व अधिकारियों को विरूद्ध स्क्रीनिंग की कार्यवाही ने सभी विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों की नींद उड़ा कर रख दी। इस पर कार्यवाही भी कर दी गयी है। जिसके चलते अनेक विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों को चिन्हित करके या तो उन्हंें सेवानिवृत्ति दे दी गयी है या उनकी सेवा ही समाप्त कर दी गयी है। इसी कड़ी में आज अंबेडकरनगर की रोडवेज डिपो से 11कर्मचारियों की सेवा ही समाप्त कर दी गयी है शासन स्तर से। जिसके चलते रोडवेज कर्मचारियों व अधिकारियों में खलबली मची हुई है। इस कड़ी में मुजफ्फरनगर के किसी भी कर्मचारी या अधिकारी के न होने को लेकर सभी कर्मचारियों व अधिकारियों राहत की संास ली है। वहीं दूसरी ओर मंगलवार को क्षे. प्रबंधक व सेवा प्रबंधक द्वारा डिपो का औचक निरीक्षण किया गया।
प्रदेश में इस समय पचास साल से उफपर के सभी विभागों में कर्मचारियों व अधिकारियों की जांच की जा रही है, खासकर जो अपनी कार्यप्रणाली को लेकर चर्चाओं (ब्लैक लिस्ट) रहे हैं। उनके विरूद्ध कार्यवाही कर उन्हें सेवानिवृत्ति दी जा रही है या उनकी सेवा समाप्त की जा रही है। इस बारे में मुजफ्फरनगर डिपो के एक सूत्र द्वारा बताया गया कि शासन स्तर से जो मानक दिये गये थे। उसके तहत डिपो से केवल दो ही व्यक्ति आते हैं, एक तो सहायक क्षे. प्रबंधक व सीनियर फोरमैन, लेकिन दोनों ही के विरूद्ध किसी प्रकार की प्रतिकूल प्रविष्टि नहीं है, जिसके चलते डिपो से किसी भी कर्मचारी या अधिकारी की छुट्टी नहीं होगी। जिसके चलते सभी ने राहत की सांस ली है।
उधर दूसरी ओर मंगलवार को सहारनपुर क्षेत्र के क्षेत्राीय प्रबंधक मनोज पुंडीर व सेवा प्रबंधक श्याम बाबू ने डिपो का औचक निरीक्षण किया। जिसमें उन्होंने डिपो की व्यवस्था को लेकर डिपो के सहायक क्षे. प्रबंधक बीपी अग्रवाल की पीठ थपथपाई। साथ ही डिपो में संबंधित मार्ग को लेकर छह प्लेटपफार्म बनाने का भी निर्देश दिया। डिपो के सहायक क्षे. प्रबंधक बीपी अग्रवाल के अनुसार अपने निरीक्षण के दौरान आरएम मनोज पुंडीर ने चालक-परिचालकों की उपस्थिति पंजिका देखकर नाराजगी व्यक्त की तथा अनुपस्थित पाये जाने वाले 33 चालक व 54 परिचालकों की तत्काल वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर से रिपोर्ट बनवाने के निर्देश दिये। अपने निरीक्षक के दौरान आरएम ने अनुपस्थिति के मामलेे में एआरएम को भी कड़ी कार्यवाही के लिए निर्देशित किया। साथ ही कुछ चालकों-परिचालकों का छह माह का रिकॉर्ड भी उनके कार्यालय भेजने को कहा। इसके अतिरिक्त क्षे. प्रबंधक मनोज पंुडीर ने निर्देश दिये कि निगम की बसों के डीजल औसत व लोड फैक्टर की समीक्षा वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर द्वारा की जाएगी।

Share it
Top