रामकिशोर हत्याकाण्ड में दो भाईयों सहित चार को उम्रकैद...शामली के बामनोली गांव में हुई थी सात वर्ष पूर्व हत्या

रामकिशोर हत्याकाण्ड में दो भाईयों सहित चार को उम्रकैद...शामली के बामनोली गांव में हुई थी सात वर्ष पूर्व हत्या

मुजफ्फरनगर। शामली जनपद के गांव बामनोली निवासी रामकिशोर की हत्या के मामले में दो भाईयों सहित चार हत्यारोपियों को आज कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। चारों हत्यारोपियों पर 35-35 हजार रूपये का जुर्माना भी किया गया है। वर्ष 2010 में गांव बामनोली में रामकिशोर के शव के टुकडे कर खेत में डाल दिये गये थे। इस घटना से क्षेत्रा में सनसनी पफैल गयी थी। जानकारी के अनुसार शामली जिले के आदर्श मण्डी थानाक्षेत्र के गांव बामनोली में रूपयों के लेनदेन को लेकर रामकिशोर की धारदार हथियारों से काटकर हत्या करने के मामले में आरोपी अजय उर्फ काला, अश्वनी उर्फ बाटा पुत्र विरेन्द्र सिंह, मोनू पुत्रा पवन कुमार व आत्माराम पुत्र महेन्द्र शर्मा को हत्या का दोषी मानते हुए कोर्ट ने आज उम्रकैद की सजा सुनाई है। चारों हत्यारोपियों पर 35-35 हजार रूपये का जुर्माना भी किया है। इस मामले की सुनवाई कोर्ट के जज मनोज कुमार मिश्र की कोर्ट में चली। इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से 9 गवाह पेश किये गये थे। अभियोजन के अनुसार 11 नवम्बर 2010 को शामली जिले के आदर्श मण्डी थानाक्षेत्र के गांव बामनोली में रूपयों के लेनदेन को लेकर रामकिशोर की धारदार हथियारों से काटकर हत्या कर दी गयी थी। बाद में पुलिस ने हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर एक खेत से शव के आठ टुकडे बरामद किये थे और पिफर उनका पोस्टमार्टम कराया गया था। मृतक ने उधार के रूपये देने का तकादा किया, तो उसकी हत्या कर दी गयी थी। मृतक के पिता व वादी कालूराम ने नामजद मुकदमा आदर्श मण्डी थाने में दर्ज कराया था। इस मामले को लेकर पुलिस ने बेहद गम्भीरता से लिया और त्वरित कार्यवाही करते हुए हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। इस सनसनीखेज हत्याकाण्ड को लेकर गांव में कापफी दिनों तक तनाव की स्थिति भी बनी रही थी।

Share it
Top