योगीराज में भी दर्ज नहीं हो रही बीजेपी नेताओं की एफआईआर...भाजपा नेता व पूर्व सभासद विपिन चौहान पर जानलेवा हमला

योगीराज में भी दर्ज नहीं हो रही बीजेपी नेताओं की एफआईआर...भाजपा नेता व पूर्व सभासद विपिन चौहान पर जानलेवा हमला

मुजफ्फरनगर। प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के बावजूद पुलिस-प्रशासन भाजपाईयों की ही बात नहीं सुन रहा है। बीती रात एक भाजपा नेता पर कुछ लोगों ने जानलेवा हमला कर दिया, जब पीडित ने पुलिस को फोन किया, तो उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। परेशान होकर एसएसपी, सीओ सिटी व कोतवाल तक को फोन करने के बावजूद पुलिस मौके पर नहीं पहुंची।पीडित नेता ने लखनऊ तक गुहार लगायी तब जिले की पुलिस ने उसकी पीड़ा तो सुनी पर पीडित भाजपा नेता की एफआईआर दर्ज नहीं की ।

जानकारी के अनुसार शहर कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला नयाबांस निवासी वरिष्ठ भाजपा नेता व पूर्व सभासद विपिन चौहान पर बीती रात कुछ लोगों ने रामलीला टिल्ला पर जानलेवा हमला कर दिया था। विपिन चौहान ने बताया कि वह मौहल्ला रामलीला टिल्ला में मौहल्लेवासियों से जनसमस्याओं पर विचार विमर्श कर रहा था, तभी अचानक एक बाईक पर सवार होकर आये युवकों ने उसे टक्कर मार दी और मारपीट शुरू कर दी। विपिन चौहान ने बताया कि बाईक सवार युवकों ने पहले महिलाओं से भी अभद्रता की। इसी मामले में बोलने पर उनके साथ मारपीट व गाली-गलौच की गई तथा जान से मारने की धमकी देकर हमलावर युवक फरार हो गये। इस घटना के कुछ देर बाद ही जोनी खटीक, अपने भाई व दर्जनों युवकों के साथ कट्टे व हथियार लेकर आया और उस पर जानलेवा हमला किया, जिसमें वह गम्भीर रूप से घायल हो गया और जान बचाकर वहां से भागना पडा। घटना की सूचना 100 नम्बर पर पुलिस को दी गई, लेकिन पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। घायल भाजपा नेता ने एसएसपी, सीओ सिटी व शहर कोतवाल को भी फोन किया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। भाजपा नेता ने बताया की उन्होंने मुख्यमंत्री आवास पर शिकायत भेजी, जिसके बाद डीएम व एसएसपी के पास फोन आया और पुलिस हरकत में आयी। घटना के लगभग डेढ घंटे बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। पुलिस की इस कार्यप्रणाली से भाजपाईयों में आक्रोश है।

इस संबंध में घायल भाजपा नेता ने केन्द्रीय मंत्री डॉ. संजीव बालियान, नगर विधायक कपिलदेव अग्रवाल,जिलाध्यक्ष रूपेंद्र सैनी को भी अवगत करा दिया, लेकिन विपिन का कहना है कि सभी कहते रहे कि अभी एफ.आई.आर दर्ज करा रहे है लेकिन किसी ने भी उसका साथ नहीं दिया और देर शाम तक भी उसकी तहरीर पर मुकदमा भी दर्ज नहीं हुआ था |

Share it
Top