डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सजा का ऐलान आज...मुजफ्फरनगर में बरती जा रही कडी चौकसी

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सजा का ऐलान आज...मुजफ्फरनगर में बरती जा रही कडी चौकसी

मुजफ्फरनगर। डेरा सच्चा सौदा सिरसा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को पंचकुला की सीबीआई कोर्ट द्वारा साध्वी रेप काण्ड में दोषी ठहराये जाने के पश्चात हुए बवाल को देखते हुए जनपद में पुलिस के कडे सुरक्षा इंतजाम कर रखे है। एडीजी के निर्देश पर पुलिस-प्रशासन लगातार सुरक्षा बढाने में जुटा है। सोमवार को इस मामले में सीबीआई कोर्ट गुरमीत राम रहीम को सजा सुनायेगी। इसी कारण जिले के प्रशासनिक व पुलिस अमले ने किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिये कडे सुरक्षा प्रबंध किये हैं।

एसएसपी अनन्तदेव तिवारी ने लगातार फुट पैट्रोलिंग के साथ ही गश्त बढा दी है। जनपद की पुलिस को भी अलर्ट पर रखा गया है और खुफया विभाग भी पूरी तरह सक्रिय है। डेरा सच्चा सौदा के अनुयायियों की गतिविधियों पर भी कडी नजर रखी जा रही है। साध्वी के साथ रेप करने के मामले में दोषी ठहराये गये डेरा सच्चा सौदा के संत गुरमीत राम रहीम को विशेष सीबीआई अदालत द्वारा सोमवार को सजा का ऐलान किये जाने के कारण जहां हरियाणा में सख्त सुरक्षा बंदोबस्त किये जा रहे है, वहीं डेरा समर्थकों की संख्या जनपद में ज्यादा होने पर यहां भी अलर्ट किया गया है। 20 जनपदों के लिए स्पेशल एडवाइजरी जारी करने की गयी। इसमें मेरठ जोन के सभी जनपद शामिल हैं। बता दें कि एडीजी यकानून व्यवस्था ने प्रदेश के 20 जिलों को विशेष दिशा निर्देश जारी किये हैं। इसमें मुजफ्फरनगर भी शामिल है। यहां डेरा संत राम रहीम के समर्थकों की संख्या ज्यादा मानी जाती है। सोमवार को सजा के दौरान कोई गड़बड़ी न हो इसके लिए डेरा के नाम चर्चा घरों पर नजर है। डेरा सच्चा सौदा के संत गुरमीत राम-रहीम के समर्थकों के उपद्रव को देखते उत्तर प्रदेश पुलिस ने हरियाणा-दिल्ली सीमा पर सतर्कता बढ़ा दी है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश 20 जिलों में राम रहीम के समर्थकों पर सुरक्षा बलों की विशेष नजर है। मेरठ जोन के सभी जिलों समेत मुजफ्फरनगर में निषेधाज्ञा है। इन जिलों में अतिरिक्त पुलिसबल लगाने के साथ मजिस्ट्रेट व पुलिस की पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है। एडीजी कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने पुलिस कप्तानों को निर्देश जारी किये हैं। पुलिस को आशंका है कि समर्थक सड़क मार्ग से यूपी में आ सकते हैं। इसके मद्देनजर विशेष चौकसी बरतने के निर्देश दिए गए। एडीजी ने पुलिस एवं रेलवे अधिकारियों को समन्वय बनाने के निर्देश दिए। खुफिया इकाइयों को भी सक्रिय किया गया है, ताकि बाबा समर्थकों के प्रदर्शन आदि कार्यक्रमों की सूचना समय से पहले करने लगे। उन्होंने बस अड्डों, रेलवे स्टेशन, सिनेमा हाल, शापिंग माल, सरकारी कार्यालय या भवनों एवं न्यायालय पर पर्याप्त सुरक्षा बलों के साथ ही एंटी रायट उपकरण की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा गया है। अफवाहों पर नियंत्राण के लिए सभी कदम उठाने के लिए निर्देश जारी किये गये। मेरठ जोन के मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद, बुलंदशहर, गौतमबुद्ध नगर, सहारनपुर, शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत के अलावा बरेली जोन के बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, रामपुर, आगरा जोन के आगरा, मथुरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, कासगंज में धारा 144 लगाई गई है।

एडीजी कानून व्यवस्था के निर्देशों पर अपर पुलिस महानिदेशक मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने हरियाणा और पंजाब सहित वेस्ट यूपी के गाजियाबाद आदि में छिटपुट हिंसा होने के बाद जोन में अलर्ट जारी कर दिया हैं। बाबा राम रहीम के वेस्ट यूपी में बड़ी तादाद में समर्थक हैं। मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर और शामली में बाबा के अनुयायियों के दफ्तर और डेरे भी हैं। यहां से लगातार बड़ी तादाद में लोग धार्मिक आयोजनों में हरियाणा और पंजाब जाते रहते हैं। बाबा को लेकर अदालत का आदेश आने की सूचना पर मेरठ और आसपास के जिलों से काफी तादाद में अनुयायी पंचकुला पहुंच गए थे। इसी के साथ पंजाब से सहारनपुर का हिस्सा लगता हैं। इन जिलों से बाबा के समर्थक भी विरोध दर्ज कराते हुए उग्र हो सकते हैं। खुफिया विभाग की रिपोर्ट में भी वेस्ट यूपी में राम रहीम को सजा दिए जाने पर हिंसा होने की आशंका जताई गई है। सभी जिलों के एसएसपी और एसपी को फुट पेट्रोलिंग और फ्लैग मार्च निकालने और लोगों को सुरक्षित रहने का संदेश देने के निर्देश दिए हैं। रेलवे स्टेशनों पर भी सुरक्षा में इजाफा किया गया है।

Share it
Top