मुजफ्फरनगरः संदिग्ध परिस्थितियों में लच्छेडा की छात्रा ने की आत्महत्या

मुजफ्फरनगरः संदिग्ध परिस्थितियों में लच्छेडा की छात्रा ने की आत्महत्या

मंसूरपुर। थाना पुलिस को गांव के किसी व्यक्ति के द्वारा ऑनर किलिंग में युवती की हत्या किए जाने की सूचना दिए जाने पर सनसनी फैल गई। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस ने जब जांच पड़ताल की, तो मामला आत्महत्या का निकला। पुलिस ने युवती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया तथा दूसरी ओर मृतका के पिता को भी हिरासत में लिया गया है।
पुलिस व ग्रामीणों से प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव लच्छेडा निवासी मृतका का नाम 15 वर्षीय प्रिया उर्फ प्रियंका पुत्री अजय कश्यप है। युवती गांव के ही जनता इण्टर कॉलेज में कक्षा 9 की छात्रा थी। मंगलवार के दिन युवती को उसके परिजनों ने गांव के ही युवक मोनू पुत्र चंदर जो कि एक मोबाईल की दुकान करता है। उसके साथ मोबाईल पर बात करते हुए पकड़ लिया था। मोबाईल कहां से आया, की जानकारी करने पर युवती ने बताया कि यह मोबाइल मोनू ने मुझे दिया था। युवती के परिजनों ने मोनू को अपने घर बुला कर उसके साथ मारपीट की। बाद में मोनू के परिजनों को भी बुलाया गया, तो मोनू के परिजनों ने युवती के परिजनों के साथ मार पिटाई कर दी थी। बाद में दोनों पक्षों की ओर से थाने में तहरीर दे दी गई थी। बुधवार के दिन ग्राम प्रधान के मकान पर बैठकर प्रधान द्वारा दोनों पक्षों में समझौता करा दिया गया था। बृहस्पतिवार के दिन युवती ने बाथरूम में घुसकर अपने गले में कपड़े का फंदा बना आत्महत्या कर ली, जब प्रिया के परिजनों ने बाथरुम में जाकर देखा कि वह फंदा बनाकर लटकी हुई है, तो उन्होंने उसे नीचे उतारा और पुलिस को सूचना दे दी कि मोनू व अन्य ने हमारे घर आकर प्रिया की हत्या कर फरार हो गए हैं। उधर गांव के ही किसी व्यक्ति ने पुलिस को सूचना दी कि गांव में प्रेम प्रसंग के चलते एक युवती की हत्या कर दी गई है और पुलिस को बिना सूचना दिए ही शव का अंतिम संस्कार करने के लिए ले जा रहे हैं। सूचना को गम्भीरता से लेते हुए मंसूरपुर थाना प्रभारी केपीएस चाहल, चौकी इंचार्ज बेगराजपुर राकेश शर्मा मय हमराहियों के साथ घटना स्थल पर पहुंचे, जहां ग्रामीणों की काफी भीड़ लगी थी। पुलिस ने जहां शव को कब्जे में लिया, वहीं घर की जाँच पड़ताल भी की। युवती का शव घर के बाथरूम में पड़ा था। वहीं सूचना पर डॉग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम इंचार्ज हरेंद्र सिंह भी मौके का निरीक्षण करने पहुंच गये। जांच करने पर मृतका के हाथ पर लिखा हुआ पाया गया कि पापा मेरे स्कूल के बैग में रखी लाल फाइल में एक पर्चा लिखा हुआ है। उसे जरूर पढ़ लेना। पुलिस ने वह फाइल देखी, तो फाइल के अंदर एक सुसाइड नोट लिखा हुआ मिला, जिसमें लिखा था कि पापा मैं मोनू से बहुत प्यार करती हूं। उसके बिना नहीं रह सकती, इसलिए यहां से हमेशा के लिए जा रही हूं। मेरे बाद मेरे छोटे भाई बहन का ख्याल रखना। पुलिस ने सुसाइड नोट को भी अपने कब्जे में लिया और मृतका के पिता अजय को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं युवती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। थाने में युवती के पिता अजय से पूछताछ करने पर उसने बताया कि मैं जंगल में गया हुआ था। जब घर आया, तो मुझे पता चला कि मेरी बेटी ने आत्महत्या कर ली है। मेरी पत्नी व एक अन्य महिला ने बाथरूम में मेरी बेटी के फंदे से लटके हुए शव को नीचे उतारा था। मैंने सोचा कि पुलिस को अगर यह बता दिया जाए कि मोनू व उसके परिजनों ने ही मेरी बेटी की हत्या कर दी है, तो वह फंस जायेंगे, इसलिए मैंने पुलिस को फोन कर यह सब बात बताई थी। खबर लिखे जाने तक इस मामले में कोई लिखा पढ़ी नहीं की गई थी।

Share it
Top