बुलेट प्रूफ जैकेट के कारण बच सकी दरोगा व सिपाही की जान...योगीराज में मुजफ्फरनगर में पहली बार बदमाश मुठभेड में ढेर

बुलेट प्रूफ जैकेट के कारण बच सकी दरोगा व सिपाही की जान...योगीराज में मुजफ्फरनगर में पहली बार बदमाश मुठभेड में ढेर

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद मुजफ्फरनगर में पुलिस ने आज पहली बार एक बदमाश को मुठभेड में मार गिराया है। अभी तक मुठभेड में पुलिस घुटनों से नीचे गोली मारती थी, लेकिन इस बार पुलिस की गोली घुटनों से उफपर सीधे जाकर बदमाश की छाती में लगी, जिससे 50 हजार का ईनामी नितिन ढेर हो गया। बदमाश के ढेर होने के बाद मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने एसएसपी अनन्तदेव तिवारी को कंधें पर उठाकर खुशी का इजहार किया। मुठभेड में सबसे अच्छी बात यह रही कि एक दरोगा व सिपाही घायल जरूर हो गये, लेकिन बुलेट प्रूफ जैकेट के कारण दोनों की जान बच गयी। अगर दरोगा व सिपाही बुलेट प्रूफ जैकेट न पहने होते, तो पुलिस का भारी नुकसान हो सकता था। जानकारी के अनुसार आज सुबह लगभग पांच बजे सीओ जानसठ को नंगला खेपड निवासी श्यामवीर ने सूचना दी कि उसके खेत में कुछ बदमाश छुपे है, जो उसकी हत्या कर सकते हैं। इससे पूर्व वर्ष 2015 में श्यामवीर के भाई की हत्या हो चुकी है, जबकि इसी वर्ष उनके पिता शोभाराम की भी हत्या कर दी गयी थी। श्यामवीर को पुलिस सुरक्षा भी मिली हुई है। इस सूचना पर एसएसपी अनन्तदेव तिवारी के नेतृत्व में पुलिस ने बदमाश को चारों तरपफ से घेर लिया और ललकारने पर बदमाश ने फायरिंग शुरू कर दी। दोनों तरफ से फायरिंग में बदमाश ढेर हो गया, जबकि दरोगा मनोज बालियान व आरक्षी कुलवन्त घायल हो गये। दरोगा पवन शर्मा व आरक्षी दीपक के सीने में गोली लगी, लेकिन बुलेट प्रूपफ जैकेट के कारण उनकी जान बच सकी। मृतक बदमाश की शिनाख्त नितिन पुत्रा चन्द्रभान निवासी गांव पवसरा थाना अगौता बुलन्दशहर के रूप में हुई। उस पर 50 हजार रूपये का ईनाम भी था। बुलन्दशहर व हापुड में उसके खिलाफ कई मामले दर्ज थे।

Share it
Top