मुजफ्फरनगर में हथियारों से लैस बदमाशों ने की युवक पर अंधाधुंध फायरिंग, मौत

मुजफ्फरनगर  में हथियारों से लैस बदमाशों ने की युवक पर अंधाधुंध फायरिंग, मौत

मुजफ्फरनगर। गाडी में बैठकर अपने गांव लौट रहे एक युवक पर बदमाशों ने ताबडतोड फायरिंग करते हुए गोलियों से भूनकर मौत के घाट उतार दिया। बुढाना मोड पर हुए हमले में गम्भीर रूप से घायल युवक ने उपचार के दौरान अस्पताल में दम तोड दिया। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। बताया जा रहा है कि मृतक गौरव मलिक जिला पंचायत का ठेकेदार था और उसकी हत्या ठेकेदारी की रंजिश को लेकर ही की गई है। जानकारी के अनुसार शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव पीनना निवासी गौरव मलिक पुत्र ऋषिपाल सिंह आज शहर में किसी कार्य के लिये आया था। शाम के समय जब वह गाडी में बैठकर वापस लौट रहा था तो बुढाना मोड के निकट अज्ञात बदमाशों ने उस पर ताबडतोड फायरिंग कर दी। सडक पर अचानक फायरिंग होने से हडकम्प मच गया। गाडी चालक ने भी तुरंत गाडी को रोक दिया और उससे उतरकर भाग खडा हुआ। गाडी में सवार अन्य लोग भी अपनी जान बचाकर इधर-उधर भागने लगे, लेकिन हमलावर किसी की परवाह न करते हुए फायरिंग करते रहे। स्वचालित हथियारों से आधा दर्जन फायर झोकने के बाद बदमाश वहां से फरार हो गये। फायरिंग की जानकारी मिलते ही बुढाना मोड चौकी प्रभारी सबसे पहले पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और घायल युवक को ले जाकर जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया। सूचना मिलने पर शहर कोतवाल संजीव शर्मा समेत कई पुलिस अधिकारी भी जिला चिकित्सालय पहुंचे। युवक को तीन गोलियां लगी हुई थी, जिससे उसकी हालत बेहद नाजुक होने के कारण चिकित्सकों ने मेरठ के लिये रैफर कर दिया, लेकिन परिजन भी सूचना मिलने पर जिला चिकित्सालय पहुंच गये थे, जिस कारण वे घायल युवक को भोपा रोड पर इवान हास्पिटल लेकर पहुंचे। इवान हास्पिटल में चिकित्सकों ने गम्भीर रूप से घायल गौरव मलिक को मृत घोषित कर दिया। इसी दौरान एसपी सिटी ओमवीर सिंह भी इवान हास्पिटल पहुंच गये और उन्होंने भी घटना की जानकारी ली। घायल युवक को मृत घोषित करने पर परिजनों में कोहराम मच गया। बडी संख्या पीनना गांव के लोग इवान हास्पिटल पर ही पहुंच गये। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भिजवा दिया है। पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है और घटना के कारणों की जांच पडताल में जुट गई है। बताया जा रहा है कि मृतक गौरव मलिक जिला पंचायत का ठेकेदार था और उसकी हत्या ठेकेदारी की रंजिश को लेकर ही की गई है।

Share it
Top