मुजफ्फरनगर में शिक्षामित्रों पर लाठीचार्ज....डीएम कार्यालय पर मांगों को लेकर धरना देते समय हुआ हंगामा

मुजफ्फरनगर में शिक्षामित्रों पर लाठीचार्ज....डीएम कार्यालय पर मांगों को लेकर धरना देते समय हुआ हंगामा

मुजफ्फरनगर। शिक्षामित्रों का समायोजन सुप्रीम कोर्ट से रद्द होने के बाद पूरे प्रदेश में आन्दोलनरत शिक्षामित्र अब उग्र हो गये हैं। कचहरी में डीएम कार्यालय पर संयुक्त शिक्षामित्र संघर्ष मोर्चा के बैनरतले चल रहे शिक्षामित्रों के धरने पर सीओ सिटी द्वारा अभद्रता कर दिये जाने के बाद शिक्षामित्र हो गये और उन्होंने ट्रेजरी कार्यालय पर कब्जा जमा लिया। अधिकारियों के लाख समझाने के बावजूद जब शिक्षामित्र नहीं माने, तो पुलिस को लाठीचार्ज करना पडा। शिक्षामित्रों ने सीओ सिटी के निलम्बन की भी मांग की। विधायक कपिलदेव अग्रवाल व उमेश मलिक भी धरनास्थल पर पहुंचे और शिक्षामित्रों को समझाया।
जानकारी के अनुसार कचहरी में डीएम कार्यालय पर संयुक्त शिक्षामित्र संघर्ष मोर्चा के बैनर तले आज शिक्षामित्रों का धरना चल रहा था। शाम तक भी धरना समाप्त न होने पर सिटी मजिस्ट्रेट वैभव मिश्रा, सीओ सिटी हरीश भदौरिया, एसओ सिविल लाईन गिरीशचन्द शर्मा, महिला थानाध्यक्ष मीनाक्षी शर्मा समेत भारी पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंचे और धरना दे रहे शिक्षामित्रों से धरना समाप्त करने की अपील की, लेकिन शिक्षामित्र धरना समाप्त न करने की मांग पर अडे रहे। इसी बात को लेकर सीओ सिटी हरीश भदौरिया की शिक्षामित्रों के नेताओं से बहस हो गयी। कापफी देर तक हंगामा चलता रहा। इसी बीच विधायक कपिलदेव अग्रवाल व उमेश मलिक भी शिक्षामित्रों के बीच पहुंचे और उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे अपनी जिद पर अडे रहे। शिक्षामित्रों ने टेªजरी कार्यालय पर भी कब्जा कर लिया और 15 अगस्त न मनाने की घोषणा करते हुए कहा कि मंगलवार को स्कूल नहीं खोले जायेंगे। शिक्षामित्रों द्वारा उग्र रूप धारण करने पर एसपी सिटी ओमबीर सिंह व बीएसए भी धरनास्थल पर पहुंचे। सभी अधिकारियों ने धरना समाप्त करने की अपील की, लेकिन शिक्षामित्रा अपनी जिद पर अडे रहे और ट्रेजरी से बाहर नहीं निकले, जिस पर पुलिस को सख्ती से काम लेना पडा और शिक्षामित्रों पर हल्का बल प्रयोग किया, जिससे वहां अपफरा-तपफरी मच गई। घंटों की मशक्कत के बाद शिक्षामित्रों का धरना समाप्त हो सका।

Share it
Top