शामली: भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने पंचायत में एडीएम व डीसीओ को बंधक बनाकर पंचायत में बैठाया

शामली: भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने पंचायत में एडीएम व डीसीओ को बंधक बनाकर पंचायत में बैठाया

शामली। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर शामली कलक्ट्रेट में आयोजित महापंचायम में एडीएम व डीसीओ को बंधक बनाकर पंचायत में बैठा लिया। उन्होने गन्ना भुगतान तथा बिजली की समस्या को लेकर शासन प्रशासन को आडे हाथों लिया। उन्होने मौके पर ज्ञापन देकर विद्युत विभाग द्वारा किसानों का शोषण बंद किये जाने की मांग की है।
बुधवार को शामली कलक्ट्रेट में आयोजित भारतीय किसान यूनियन की महापंचायत को संबोधित करते हुए भाकियू राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि केन्द्र तथा राज्य सरकार किसानों का शोषण करने में लगी है। किसान परेशान हाल है, जिसका पुलिस तथा प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा शोषण किया जा रहा है। थानों पर लूट मची है और अधिकारी किसानों की बात सुनने को तैयार नही है। उन्होने कहा जनपद शामली का गन्ना मंत्री शामली के शुगर मिलों से किसानों का बकाया गन्ना भुगतान कराने को तैयार नही है तो अन्य जनपद के शुगर मिल मालिक क्यो भुगतान करेगे। उन्होने कहा कि विद्युत विभाग के अधिकारियों द्वारा किसानों पर बिजली के बिल बढाये जा रहे है, जिसको भाकियू बर्दाश्त नही करेगी।
उन्होने मौके पर एडीएम, डीसीओ तथा एआरटी को धरना पर बंधक बनाकर बैठा लिया और चेतावनी दी कि यदि किसानों पर हो रहे फर्जी मुकदमों को वापस नही लिया गया तो वह पूर्व की तरह जनपद शामली से एक महाआन्दोलन शुरू करेगे। उन्होने मौके पर प्रदेश के मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन एडीएम को सौंपा, जिसमें उन्होने डाक्टर स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने, और किसानों की फसल लागत का मूल्य से 60 प्रतिशत अधिक न्यूनतम समर्थन मूल्य देने का फार्मूला लागू करने की मांग की। उन्होने कहा कि डार्क जोन में किसानों को निजी नलकूपों को ऊजीकरण पर गलत तरीके से लगाये गये प्रतिबंध को समाप्त करते हुए किसानों को निजी नलकूपों को कनेक्शन जारी किये जाये। किसानों के नलकूपों सें पूरे जनपद शामली में 5 हांसपावर का बिल लिया जाये।
सामान्य योजना में किसानों को दी जाने वाली सब्सीडी बढाई जाये। विद्युत विभाग द्वारा किसानों का शोषण बंद किया जाये। जनपद में गन्ना किसानों का बकाया भुगतान मय ब्याज के दिया जाये। तीनों मिलों पर 250 करोड का भुगतान बकाया है। पिछली सरकार गलत तरीके से तीनों सत्र का भुगतान मिलने वाले ब्याज गलत तरीके से माफ कर दिया था, जिसको उच्चतम न्यायालय द्वारा निस्तर कर दिया गया था। किसानों का ब्याज सहित भुगतान कराया जाये। प्रदेश सरकार द्वारा जो ऋण माफी की गई है। यह काफी नही है। भाजपा के चुनावी घोषणा के अनुसार सभी किसानों का पूर्णतया कर्ज माफ किया जाये। भाकियू के पदाधिकारियों पर लगाये गये फर्जी मुकदमों को वापस लिया जाये। शामली बाईपास का निर्माण कराया जाये। किसान आय आयोग का गठन किया जाये। किसानों को पेंशन दी जाये। उन्होने चेतावनी दी कि यदि किसानों का शोषण होगा तो भाकियू कार्यकर्ता आन्दोलन करेगे। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष चौधरी जावेद तोमर, विनोद निर्वाल, कुलदीप पंवार, मास्टर जाहिद, चौधरी देशपाल सिंह, चिंता निर्वाल, हाजी इकराम, अक्षय देशवाल, समरपाल तोमर, विनय झाल, पुष्पेन्द्र निर्वाल, देशपाल सिंह, ईश्वर फौजी, जगबीर फौजी, ओमपाल सिंह, राजबीर, ओमबीर पटवारी, शहजाद, पदम कैडी, पप्पू कुडाना, मिर्जा अशफाक, प्रदीप त्यागी आदि मौजूद रहे।

Share it
Top