तेंदुए ने बछडे को बनाया शिकार

तेंदुए ने बछडे को बनाया शिकार

भोपा। कस्बा भोकरहेडी गंगा खादर क्षेत्र के जंगल में गाय के बछडे को तेंदुए के द्वारा शिकार बनाकर खाने का मामला सामने आया है। सूचना मिलते ही ग्रामीण हथियारों को लेकर घटनास्थल की ओर दौड पडे। तेंदुए की मौजूदगी के चलते आसपास के क्षेत्र के ग्रामीणों में दहशत व्याप्त हो गयी है। ग्रामीणों ने वन विभागकर्मियों से तेंदुए को पकड कर वन्य अभ्यारण्य हस्तिनापुर में छोडे जाने की गुहार लगाई है। घटनास्थल पर घंटों बाद पहुंचने के बाद ग्रामीणों ने भारी नाराजगी जताई। पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेकर आला अधिकारियों को मामले से अवगत कराया है। कस्बा भोकरहेडी के मौहल्ला कुआंपट्टी निवासी सचिन पुत्र चन्द्रपाल जाट ने करीब तीन दर्जन गायों को पालकर तथा उनका दूध बेचकर अपने परिवार का पालन पोषण करता है, जिन्हें चराने के लिए वह रोजाना गंगा खादर में ले जाता है। सोमवार के दिन वह गायों को चराकर शाम के समय घर वापस लौट आया। मंगलवार की सुबह वह बाबूचर कुटी के रास्ते पर राजवाहे की पुलिया के नजदीक पहुंचा तो ग्रामीणों ने बताया कि उसका बछडा पिंकू के खेत में मरा पडा है। मौके पर जाकर देखने से पता चला कि बछडे के शरीर पर पंजों के निशान और गर्दन पर गहरे जख्म मिले तथा उसके धड से खाया गया है और जगह-जगह तेंदुए के पंजों के निशान भी मिले हैं। तेंदुए के द्वारा गाय के बछडे के शिकार की बात क्षेत्र में जंगल की आग की तरह फैल गई। जिस पर ग्रामीण हथियारों के साथ घटनास्थल की ओर दौड पडे। वहीं ग्रामीणों की सूचना पर मोरना वन रेंज के वन डिप्टी खुर्शीद, वनरक्षक बिजेन्द्र, शबी हैदर और वन चौकीदार चन्द्रपाल, जसवीर आदि के साथ घंटों बाद घटनास्थल पर पहुंचे तो ग्रामीणों ने भारी नाराजगी प्रकट की। वहीं ब्रजवीर सिंह, ललित सहरावत, नवीन सहरावत, अतीक, आकाश, ओमवीर, अजय, शैंकी, धर्मेन्द्र, तरूण आदि सैकडों ग्रामीणों ने तेंदुए को जाल लगाकर पकडकर वन अभ्यारण्य हस्तिनापुर में छोडने की मांग की है। बताते चलें कि योगेन्द्रनगर, हाजीपुर बरामदा, शुक्रतारी, फिरोजपुर, मजलिसपुर तौफीर आदि गांवों के ग्रामीणों को अनेकों बार तेंदुआ दिखाई दिया है और रात के समय गांव के नजदीक उसकी गुर्राहट को सुना गया है। जिसके चलते ग्रामीण रात में जागकर पहरा देने लगे हैं।

Share it
Top