भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को रक्तदान शिविर लगाने से रोका

भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को रक्तदान शिविर लगाने से रोका

मुजफ्फरनगर। जनपद सहारनपुर में हुए बवाल के बाद चर्चाओं में आयी भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने आज जिला चिकित्सालय में रक्तदान शिविर लगाने का निर्णय लिया और ब्लड बैंक के पास अपने झण्डे के बैनर टांग दिये। यह देखकर पुलिस के होश उड गये और पुलिस ने उन्हें वहां से भगा दिया। जानकारी के अनुसार भीम आर्मी का पूरा नाम भारत एकता मिशन नामक संगठन है। शनिवार को जिला चिकित्सालय के ब्लड बैंक में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें भीम आर्मी द्वारा लगभग 150 लोगों के द्वारा रक्तदान करने की तैयारी की गयी। भीम आर्मी के नेता अस्पताल पहुंच गये और मुख्य द्वार पर बैनर टांग दिया। इस पर भीम आर्मी के मुख्य नेता चन्द्रशेखर आजाद उपर्फ रावण का पफोटो भी लगा हुआ था। इसके साथ ही ब्लड बैंक की छत पर भी भीम आर्मी का झण्डा लहरा दिया गया। यहां बिल्डिंग पर कई स्थानों पर झण्डे व बैनर लगाने के बाद रक्तदान शुरू हुआ। सभी कार्यकर्ताओं ने अपनी कलाईयों पर भी भीम आर्मी की पट्टी बांध रखी थी। इसकी सूचना पुलिस को मिली, तो हडकम्प मच गया। बडी संख्या में पुलिसकर्मी वहां पहुंचे और भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं व शिविर संचालक दिनेश कुमार एडवोकेट से पूछताछ शुरू कर दी। पुलिस ने उनसे रक्तदान शिविर लगाने की अनुमति दिखाने को कहा, जिस पर दिनेश ने पुलिस को बताया कि भीम आर्मी का दूसरा स्थापना दिवस होने के साथ ही आज सरदार उधम सिंह का भी शहीदी दिवस है, इसी कारण वह रक्तदान शिविर लगा रहे हैं। शिविर लगाना कोई गलत कार्य नहीं है, लेकिन पुलिस ने उनके पास कोई अनुमति न होने पर रक्तदान रूकवा दिया, जब तक चार कार्यकर्ता रक्तदान कर चुके थे। इस बात को लेकर कापफी देर तक हंगामा होता रहा और आखिरकार पुलिस ने भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को वहां से भगा दिया तथा उनके झण्डे व बैनर भी उतरवा दिये। इस दौरान उपकार बावरा अलमासपुर, कर्मवीर सिंह प्रधान कैल्लनपुर, योगेश बरवाला, महेश कुमार मुस्तफाबाद, रवि बावरा कूकडा, मोहित गौतम मुख्य रूप से मौजूद रहे। भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस के रवैये की आलोचना करते हुए कहा कि समाजसेवा के कार्यों से भी रोका जाना न्यायोचित नहीं है। इस संबंध् में प्रदेश सरकार से भी शिकायत किये जाने का निर्णय लिया गया।

Share it
Top