भाकियू कार्यकर्ताओं ने किया नौचंदी पर कब्जा...रेलवे स्टेशन पर तैनात रहा भारी सुरक्षा बल

भाकियू कार्यकर्ताओं ने किया नौचंदी पर कब्जा...रेलवे स्टेशन पर तैनात रहा भारी सुरक्षा बल

मुजफ्फरनगर। लखनउ में कल (आज) को होने वाली महापंचायत में भाग लेने को लेकर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं के भारी जन समूह द्वारा नौचंदी एक्सप्रेस ट्रेस से प्रस्थान किया गया। भारतीय किसान यूनियन की ओर से दिये गये एक ज्ञापन के माध्यम से रेलवे से नौचंदी में उनके लिए अलग से चार कोचों की व्यवस्था करने की मांग के चलते भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं के लिए सहारनपुर से दो अतिरिक्त कोचों की व्यवस्था की गयी। इसके बाद भी भाकियू कार्यकर्ताओं द्वारा आरक्षित कोचों पर कब्जा किया गया। किसी भी प्रकार की घटना से निपटने को लेकर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये थे। इसमें जीआरपी, आरपीएफ, पीएसी व सिविल पुलिस के जवानों सहित थाना प्रभारी व अन्य दारोगा आदि शामिल रहे। इसके अलावा रेलवे के स्टेशन अधीक्षक सहित अन्य स्टाफ भी पूरी तरह से तटस्थ रहा। ट्रेन अपने तय समय से एक घंटा पैंतीस मिनट की विलंबता का सफर तय करते हुए अपना आगमन स्टेशन पर करा पायी। जब तक ट्रेन ने स्टेशन का प्लेटफार्म नहीं छोड़ा, तब तक रेलवे के अधिकारी, कर्मचारी व सुरक्षा बल वहां से हिले तक नहीं। सकुशल ट्रेन के प्रस्थान करने के बाद सभी ने राहत की सांस ली।
कल (आज) राजधनी लखनउ में भारतीय किसान यूनियन की एक महापंचायत होने वाली है। जिसके मद्देनजर सूबे के सभी जनपदों से भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता लखनउ को कूच कर रहे हैं महापंचायत में शामिल होने के लिए। जनपद मुजफ्फरनगर से भी भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता भाकियू के जिलाध्यक्ष राजू अहलावत व गौरव टिकैत के नेतृत्व में लखनउ को कूच करने को लेकर मुजफ्फरनगर स्टेशन पर पहुंचे। स्टेशन पर नजर दौडायी जाती, वहां पर ही भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता ही नजर आ रहे थे। पूरा स्टेशन किसान यूनियन जिंदाबाद आदि के नारे से गूंजता रहा।
लखनउ की महापंचायत मंे प्रतिभाग करने को लेकर जनपद मुजफ्फरनगर के भाकियू के कार्यकर्ताओं द्वारा अपनी रणनीति बना ली गयी थी। उसी रणनीति के चलते 28 जुलाई को भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष राजू अहलावत की ओर से एक ज्ञापन स्टेशन अध्ीक्षक विपिन त्यागी को दिया गया था। दिये गये ज्ञापन में कहा गया था कि 31 जुलाई को भारतीय किसान यूनियन की एक महापंचायत लखनउ में होने जा रही है। जिसमें मुजफ्फरनगर से भारी संख्या में भाकियू कार्यकर्ता नौचंदी ट्रेन से लखनउ को कूच करेंगे। अतः नौचंदी ट्रेन में अलग से चार कोचों की व्यवस्था की जाए, ताकि भाकियू कार्यकर्ताओं के कारण यात्रियों को किसी प्रकार की असुविध न हो। साथ ही रेल संचालन में किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। उसी के चलते ट्रेन में अलग से दो कोचों की अतिरिक्त व्यवस्था की गयी थी, क्योंकि भाकियू कार्यकर्ताओं के द्वारा दिये गये ज्ञापन में कहा गया था कि यदि अलग से कोचों की व्यवस्था का प्रबंध नहीं हो पाया, तो भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता ट्रेन को तब तक नहीं चलने देंगे, जब तक कि उनके लिए कोचों की अलग से व्यवस्था नहीं हो जाती। भाकियू कार्यकर्ताओं की मांग है कि सभी किसानों का कर्जा मापफ किया जाए, बिजली के नलकूप के बिल पांच किलोवाट के हिसाब दे दिये जाए। सभी किसानों का बकाया गन्ने का भुगतान शीघ्र हो। लखनउ कूच करने वालों में राजू अहलावत, गौरव टिकैत, हरिओम, ओमपाल मलिक, अमरजीत, योगेश शर्मा, सहदेव, कल्लू, नवीन राठी, आजाद, विपुल निर्वाल, प्रताप, मदन सिंह, ईशपाल, कृष्णपाल ध्ीर सिंह, रामवीर, विकास, नीरज पहलवान, जयवीर चौध्री आदि शामिल रहे।
ऐसी कोच का मोह नहीं छोड पाये जिलाध्यक्षः भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं के लिए भले ही अलग से दो अतिरिक्त कोचों की व्यवस्था की गयी, लेकिन वह अन्य कोचों में जाने से अपने को नहीं रोक पाये। खुद जिलाध्यक्ष राजू अहलावत ऐसी कोच का मोह नहीं पाये। उन्हें सुरक्षा बलों ने ऐसी कोच से उतारा। इसके बाद वह विकलांग कोच में गये, लेकिन वहां पर जगह नहीं मिल सकी। इसके साथ ही गोरव टिकैत भी स्थान को लेकर इधर-इधर निकले। बाद में जहां पर भी स्थान मिला, बैठ लिये।

Share it
Top