हत्या कर दूसरों को फंसाने की साजिश का पर्दाफाश...नूनाखेडा निवासी रामकिशन उर्फ रामा की गोली मारकर कर दी गयी थी हत्या

हत्या कर दूसरों को फंसाने की साजिश का पर्दाफाश...नूनाखेडा निवासी रामकिशन उर्फ रामा की गोली मारकर कर दी गयी थी हत्या

मुजफ्फरनगर। रंजिशन एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या करने के बाद हत्यारे ने तितावी के युवकों को नामजद कराते हुए गलत नामजदगी करा दी, जिसका जांच में खुलासा हो गया और पुलिस ने क्राईम ब्रांच के सहयोग से असली हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के अनुसार तितावी थानाक्षेत्र के गांव नूनाखेडा निवासी रामकिशन उर्फ रामा पुत्र गोरखा की विगत 16 जुलाई को प्रातः 4 बजे गांव में ही सोते समय गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी, जिसके संबंध में मृतक के पुत्र रामकिशन ने तितावी थाने पर तहरीर देकर तितावी निवासी सोनू व एक अन्य अज्ञात युवक के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर एसएसपी अनन्तदेव तिवारी के आदेश पर मामले की निष्पक्ष व त्वरित जांच शुरू कर दी। एसपी देहात अजय सहदेव व सीओ पफुगाना कालू सिंह के निर्देशन में तितावी प्रभारी निरीक्षक प्रवीण कुमार ने स्वॉट टीम प्रभारी सुनील शर्मा के साथ हत्या के खुलासे में भागदौड शुरू कर दी। जांच के दौरान तथ्य प्रकाश में आया कि ग्राम नूनाखेडा निवासी कुंवरपाल उर्फ घोला पुत्र सुरेश की पुत्राी के संबंध अपने चाचा जितेन्द्र पुत्र सुरेश के साथ बन गये थे, जिस कारण वह गर्भवती हो गयी। परिवार एवं रिश्तेदार ने बैठकर फैसला कराया कि जितेन्द्र गांव छोडकर चला जाये और जुर्माने के तौर पर 42 हजार रूपये कुंवरपाल को दे, इसकी जिम्मेदारी मृतक रामकिशन उर्फ रामा ने ली, जब कुंवरपाल को पैसे नहीं मिले, तो उसने मृतक रामकिशन पर पैसे दिलाने के लिये दबाव बनाया। मृतक रामकिशन ने कुंवरपाल से वायदा किया कि तुम्हारी पुत्राी की शादी में सामान दिलवा दिया जायेगा और अभी एक दम पैसों का इंतजाम नहीं हो पा रहा है। इस बात पर कुंवरपाल को काफी गुस्सा आया और उसने रामकिशन से कहा कि गांव में मेरी बेईज्जती भी हो गयी और पैसे भी नहीं मिले। इसी रंजिश में कुंवरपाल ने रामकिशन उर्फ रामा को मारने की ठान ली। घटना से चार दिन पूर्व मृतक रामकिशन और उसके पुत्र का बघरा में सब्जी का ठिया लगाने को लेकर तितावी के कुछ युवकों से विवाद हो गया था। इस बात की जानकारी कुंवरपाल को थी। कुंवरपाल ने इसी बात का फायदा उठाते हुए तय किया कि चार दिन के अंदर रामकिशन को मार दिया जाये, तो शक तितावी के लडकों पर जायेगा। अपनी योजना को अमलीजामा पहनाते हुए कुंवरपाल ने 16 जुलाई की सुबह 4 बजे रामकिशन उर्फ रामा को सोते समय गोली मार दी और मृतक के पुत्र को भ्रमित करते हुए ठिये को लेकर हुए झगडे की बाबत गलत नामजदगी का मुकदमा दर्ज करा दिया। पुलिस ने मामले की जांच कर अभियुक्त कुंवरपाल उर्फ घोला को तितावी तिराहे से गिरफ्तार कर लिया, उसके कब्जे से तमंचा भी बरामद किया। इस संबंध् में एसपी देहात अजय सहदेव ने जानकारी दी।

Share it
Top