मुजफ्फरनगर: लूटपाट का विरोध करने पर शिक्षक की हत्या

मुजफ्फरनगर: लूटपाट का विरोध करने पर शिक्षक की हत्या

मुजफ्फरनगर। कांवडों को देखने के लिये घर से निकले एक शिक्षक की अज्ञात बदमाशों ने लूटपाट के बाद गला घोटकर निर्मम हत्या कर दी। ग्रामीणों द्वारा तलाश करने पर मृतक का शव रामपुर तिराहे के निकट रोहाना रोड पर पडा मिला। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया। देर सायं गमगीन माहौल में शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया।
जानकारी के अनुसार शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव जट नंगला निवासी 32 वर्षीय सुनील चौधरी पुत्र महावीर सिंह मलीरा अड्डे पर स्थित सनलाईट पब्लिक स्कूल में शिक्षक था। कांवड यात्रा के कारण इन दिनों स्कूलों में अवकाश चल रहा है। बीती देर रात्रि लगभग साढे दस बजे वह अपने घर से अन्य ग्रामीणों के साथ रामपुर तिराहे पर कांवड देखने पहुंचा था। आसपास के दर्जनों गांवों के लोग बडी संख्या में रामपुर तिराहे पर कांवड देखने पहुंचते हैं। बताया जा रहा है कि मध्य रात्रि लगभग बारह बजे जब वह वापस लौट रहा था, तो रोहाना रोड पर गुरू बिरजानंद इंटर कालेज के सामने उसे बदमाशों ने घेर लिया और तमंचों के बल पर लूटपाट शुरू कर दी। शिक्षक द्वारा लूटपाट का विरोध किया गया और वह बदमाशों के बीच से निकलकर भागने लगा, लेकिन उसे बदमाशों ने दबोच लिया और उसके साथ मारपीट करते हुए गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि इस दौरान शिक्षक ने शोर भी मचाया, लेकिन कांवड यात्रा के कारण शोरशराबा होने से कोई उसकी आवाज नहीं सुन सका। घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश वहां से भाग गये। गांव से आये अन्य ग्रामीण सुनील को अपने बीच न पाकर तलाश करने लगे, लेकिन वह नहीं मिल सका। सभी ग्रामीण गांव में पहुंच गये तो उसके घर पता किया गया। वह अपने घर भी नहीं मिला। इसके बाद सैंकडों ग्रामीण हाथ में लाठी-डंडे व टॉर्च लेकर वापस गांव से उसे ढूंढने के लिये निकल पडे। मलीरा अड्डे से रामपुर तिराहा रेलवे क्रासिंग ओवर ब्रिज तक सुनील को तलाश किया गया। अलग-अलग टोलियों में ग्रामीण सुनील की तलाश करते हुए उसे आवाज लगाते रहे। ग्रामीणों ने देखा कि थाना छपार क्षेत्र के अंतर्गत रेलवे ओवर ब्रिज की तरफ से रोहाना की ओर मुडने वाले रास्ते पर बनी दुकानों के पास सुनील पडा हुआ है। ग्रामीणों ने उसे हिला-डुलाकर देखा तो वह अचेत अवस्था में था। इसी बीच पुलिस को भी सूचना दी गई। पुलिस ने एम्बूलेंस बुलाकर सुनील को जिला चिकित्सालय पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव को पंचनामा भरकर परीक्षण के लिये भेज दिया। शिक्षक की हत्या होने पर ग्रामीणों ने हंगामा भी किया और पुलिस के साथ मिलकर बदमाशों की तलाश भी की, लेकिन कोई सफलता नहीं मिल सकी। ग्रामीणो के अनुसार मृतक सुनील अविवाहित था और उसके माता-पिता की पहले ही मृत्यु हो चुकी है। उसका छोटा भाई दिल्ली में नौकरी करता है, जबकि सुनील गांव में अकेला ही रहता था। पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है। इस सम्बन्ध में अज्ञात हत्यारों के खिलाफ तहरीर भी दे दी गई है।

Share it
Top