मुजफ्फरनगर: महिला का अपहरण कर दुष्कर्म करने के आरोपी को दस साल की सजा

मुजफ्फरनगर: महिला का अपहरण कर दुष्कर्म करने के आरोपी को दस साल की सजा

मुजफ्फरनगर। एक विवाहिता का अपहरण कर घर में रखकर दुष्कर्म करते रहने के मामले में आरोपी सतपाल को दोषी ठहराते हुए कोर्ट ने दस साल की सजा सुनाते हुए पच्चीस हजार रूपये का जुर्माना भी किया है। इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम राजेश भारद्वाज की कोर्ट में हुई। अभियुक्त सतपाल एक हत्या के मामले में पहले से ही जेल में है। अभियोजन पक्ष की ओर से सरकार वकील सीताराम आर्य ने पैरवी की।
उल्लेखनीय है कि तीस अप्रैल 2012 को विवाहिता महिला मोहसिना का दूसरे सम्प्रदाय के व्यक्ति सतपाल ने अपहरण कर लिया था और गांव पचैंडा मुस्तफाबाद में रखकर बलात्कार करता रहा। बाद में पुलिस ने बंधक बनाई गई महिला को 12 सितम्बर, 2012 को सतपाल के घर से बरामद कर कोर्ट में बयान कराये थे, जिसमें मुस्लिम महिला ने आरोपी सतपाल पर अपहरण कर बंधक बनाकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था। इस मामले में आरोपी सतपाल पहले से ही हत्या के एक मामले में जेल में बंद है। एफटीसी प्रथम राजेश भारद्वाज की कोर्ट ने आरोपी सतपाल को दोषी ठहराते हुए दस वर्ष की सजा व पच्चीस हजार रूपये का जुर्माना किया।
इसके अलावा एक बारह वर्षीय बालक परवेज का फिरौती के लिये अपहरण करने का प्रयास करने के आरोप में एक आरोपी पंकज कुमार को दोषी मानते हुए कोर्ट ने पांच वर्ष की सजा सुनाई और उस पर पांच हजार रूपये का जुर्माना भी किया। इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट तृतीय मनोज कुमार मिश्र की कोर्ट में हुई।
ज्ञातव्य है कि 9 फरवरी, 2010 को भोपा थाना क्षेत्र के अंतर्गत भोकरहेडी में लियाकत के बारह वर्षीय पुत्र परवेज के अपहरण का प्रयास करने के मामले में रविन्द्र व पंकज कुमार के खिलाफ थाना भोपा में मुकदमा दर्ज कराया गया था। मौके से एक अपहरणकर्ता रविन्द्र पकडा गया था, जबकि पंकज फरार हो गया था। सुनवाई के दौरान रविन्द्र की मृत्यु हो गई थी। इस मामले के एक आरोपी पंकज को दोषी मानते हुए फास्ट ट्रैक कोर्ट तृतीय ने पांच वर्ष की सजा व पांच हजार का जुर्माना भी किया।

Share it
Top