डेयरियों पर चला प्रशासन का चाबुक...सिटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में पालिका की टीम व पुलिस बल ने दो डेयरियां की बाहर

मुजफ्फरनगर। आखिरकार प्रशासन का नगर में गंदगी के कारणों में से प्रमुख एक डेयरियों पर चाबुक चल ही गया। सिटी मजिस्ट्रेट के निर्देशन में नगर पालिका प्रशासन की पूरी टीम ने पुलिस बल के साथ कडी कार्यवाही करते हुए योगेन्द्रपुरी स्थित दो डेयरियों को बाहर कर दिया। साथ ही दोनों स्थानों से पकड़े गये पशुओं को मैडिकल कराने के बाद कांजी हाउस व गौशाला भेज दिया गया। प्रशासन व नगर पालिका की इस कार्यवाही से अन्य डेयरी संचालकों में हड़कम्प मच गया। प्रशासन की ओर से इस सम्बंध् में कई बार नोटिस दिये जाने के बाद भी डेयरी संचालकों ने इसे नजरअंदाज किया, जिसके बाद प्रशासन को यह सख्त कदम उठाने को बाध्य होना पड़ा। नगर पालिका सूत्रों के अनुसार हाईकोर्ट के निर्देश है कि नगर में खोली गई सभी डेयरियों को बाहर किया जाये, क्योंकि डेयरी संचालक पशुओं के गोबर को किसी सुरक्षित स्थान पर न डालकर नाले में बहा देते हैं, जिस कारण जल निकासी की समस्या उत्पन्न होती है। हाईकोर्ट के आदेश पर कार्यवाही करते हुए नगर पालिका की ओर से एक सर्वे कराया गया था, जिसमें शहर में लगभग 200 के आसपास डेयरियों को चिन्हित किया गया था। चिन्हित की गई डेयरियों को पालिका की ओर से नगर क्षेत्र से बाहर करने के लिये कई बार नोटिस जारी किये गये। बावजूद इसके किसी भी डेयरी संचालक ने अपनी डेयरी को नगर क्षेत्र से बाहर नहीं किया, जिसके बाद आज सिटी मजिस्ट्रेट अतुल कुमार के नेतृत्व में नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी विजय कुमार मणि त्रिपाठी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी रविन्द्र कुमार राठी व पालिका की पूरी टीम मय पफोर्स, जिसमें सीओ मंडी हरीश भदौरिया, शहर कोतवाल अनिल कप्परवान शामिल थे, सभी विकास भवन के सामने स्थित योगेन्द्रपुरी पहुंचे। जहां पर उन्होंने दो डेयरियों पर कडी कार्यवाही की। जिसमें से एक मंजूरा की 6 भैंसें व तौफीक के 3 पशुओं को जब्त कर लिया गया। दोनों स्थानों पर आने जाने का मार्ग छोटा होने के कारण पशुओं को पैदल ही नुमाईश कैंप लाया गया। जहां पर पशु चिकित्सक को बुलाकर सभी का मैडिकल कराया गया। इसके बाद जब्त किये गये पशुओं को कांजीहाउस व गौशाला में भेज दिया गया। इस सम्बंध् में जिला कार्यक्रम अधिकारी स्वच्छ भारत मिशन बलजीत सिंह ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेशों के तहत उक्त कार्यवाही की गई है। काफी समय पहले डेयरी संचालकों को नोटिस दिये गये थे, लेकिन उन्होंने इसे हल्के में लिया, जिसके बाद उक्त कार्यवाही की गई। जिसमें दो डेयरी संचालकों पर कार्यवाही की गई। इस प्रकार का अभियान जारी रहेगा। पूरी कार्यवाही के दौरान किसी प्रकार की अनहोनी न हो इसलिये सुरक्षा की दृष्टि से भारी पुलिस बल साथ रखा गया था।

Share it
Top