खतौलीः घटतौली का आरोप जांच में हुआ फ्लॉप साबित

खतौलीः घटतौली का आरोप जांच में हुआ फ्लॉप साबित

खतौली। ऐशिया की बडी मिलों में शुमार त्रिवेणी शुगर मिल में भाकियू तोमर द्वारा घटतौली का आरोप लगाकर किये गये हंगामे का मेगा शो डीसीओ द्वारा की गयी जाँच में मिल को क्लीनचिट मिलने से फ्लॉप साबित हुआ। मिल प्रबन्धतन्त्र ने कुछ लोगों पर दबाव बनाकर अपनी राजनीति चमकाने के चक्कर मे मिल की छवि खऱाब करने का आरोप लगाया है। घटतौली की शिकायत पर शुक्रवार रात आठ बजे भाकियू तोमर के ब्लॉक अध्यक्ष विशाल अहलावत के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने चीनी मिल गेट पहुँचकर कांटा नम्बर छ: पर पचास किलो का बाँट डालकर घटतौली के आरोप की जाँच की। काँटे पर लगी डिसप्ले पर पचास के बजाये 45 किलो वजऩ आने पर भाकियू कार्यकर्ताओ ने हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर पहुँचे मिल अधिकारी एके सिंह व गन्ना महाप्रबंधक कुलदीप राठी के समझाने बुझाने का असर लेने के बजाये हंगामे ने और ज़ोर पकड़ लिया। मिल अधिकारी एके सिंह ने बताया 20 टन क्षमता वाले काँटे में बाट माप तोल विभाग द्वारा 5 किलो तक का ई वैल्यू प्रमाणित है। 20 टन क्षमता वाले कांटे में 5 किलो तक ई वैल्यू घटने बढऩे की सम्भावना बनी रहती है। बात बढऩे पर कोतवाली पुलिस मौके पर आ गयी। एक दरोगा जी द्वारा रौब ग़ालिब करने पर विशाल अहलावत ने जिलाधकारी सेल्वा कुमारी जेए एसएसपी अभिषेक यादव को प्रकरण से अवगत करा दिया। जिलाधिकारी के आदेश पर देर रात को डीसीओ आरडी द्विवेदी ने मिल में पहुँचकर अपने सामने काँटों की जाँच पड़ताल करायी। काँटा नम्बर छ: पर पचास किलो से लेकर 20 कुंटल के बाँट डलवाकर देखे गये। हर बार वजऩ 5 किलो घटता बढ़ता रहा। विवादित कांटे पर एक किसान की ट्रॉली तुलवाने के बाद इसे दूसरे काँटों के अलावा मैन्युअल कांटे पर तुलवाकर देखा गया। सब जगह एक सा वजऩ आने पर डीसीओ आरडी द्विवेदी ने अपनी जाँच आख्या लिखकर इस पर भाकियू तोमर कार्यकर्ताओं के हस्ताक्षर भी कराये। मिल गेट पर 8 बजे शुरू हुआ घटतौली प्रकरण चीनी मिल को क्लीन चिट मिलने के बाद देर रात्रि 12 बजे जाकर समाप्त हुआ। जाँच से असंतुष्ट विशाल अहलावत घटतौली के आरोप पर अड़े रहे। जबकि मिल प्रबन्धतन्त्र ने कुछ लोगों पर दबाव बनाने की राजनीति करके मिल की छवि को खराब करने का आरोप लगाया है। मिल अधिकारी एके सिंह ने बताया कि कथित घटतौली का आरोप लगाकर कुछ लोगों द्वारा आये दिन किये जाने वाले हंगामों की रोकथाम हेतु बीते दिनों गन्ना सोसायटी में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी के समक्ष किसानों की मौजूदगी में मिल प्रबन्धतन्त्र ने गेट के काँटों पर कोई सक्षम अधिकारी नियुक्त किये जाने की मांग की थी, जो कि आज तक पूरी नही हुई है।

Share it
Top