जल रही पॉलिथीन घुट रहा दम.... प्रशासन की सांठगांठ के चलते गुड कोल्हू की चिमनियां उगल रही जहर

जल रही पॉलिथीन घुट रहा दम.... प्रशासन की सांठगांठ के चलते गुड कोल्हू की चिमनियां उगल रही जहर

मोरना। प्रदूषण के कारण स्कूल की छुट्टी हो जाने की कल्पना शायद ही किसी ने की हो। दूरगामी परिणामों से बेपरवाह तन्त्र चुल्लू भर पानी के लिए जहाज में सुराख कर रहा है। प्रदूषण का भूत अब राष्ट्रीय राजधानी से बाहर एनसीआर क्षेत्र में पैर पसार गया है। बेपरवाह कोल्हू संचालक थोडे से फायदे के लिए बेखौफ होकर कोल्हूओं में पॉलीथीन, रबर आदि जलाकर हवा में जहर घोलने का कार्य कर रहे हैं। ग्रामीणों की बार-बार शिकायत के बावजूद प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर प्रदूषण को रोकने की गुहार लगाई है। मोरना ब्लॉक क्षेत्र के गांवों में सैकडों गुड कोल्हूओं में गुड बनाने का कार्य चल रहा है। गुड कोल्हूओं में गन्ने की खोई व पत्ती को ईंधन के रूप में प्रयुक्त किया जाता रहा है। पिछले कुछ समय से गुड कोल्हू संचालकों का सम्पर्क ऐसे व्यापारियों से हो गया है, जो पॉलीथीन व रबर के जूते चप्पल आदि बेहद सस्ते दामों पर गुड कोल्हूओं में बेचते है, जहां व्यापारी कूडा-करकट बेचकर पैसे कमाते हैं। वहीं कोल्हू संचालकों को सस्ता ईंधन प्राप्त होता है। कोल्हू संचालक गन्ने की खोई को पेपर मिलों में बेचते हैं। आबादी के बराबर में ही स्थित कोल्हूओं में पॉलीथीन रबर के जूते चप्पल जलाने से कोल्हूओं की चिमनियों से उठता काला धुआं आकाश में स्याही फैला रहा है। वहीं आ रही दुर्गन्ध से ग्रामीणों का जीना मुहाल हो रहा है। कोल्हूओं से निकलता काला धुआं प्रदूषण फैला रहा है। ग्रामीणों की बार बार शिकायत के बावजूद प्रदूषण विभाग की टीम खानापूर्ति कर वापस लौट जाती है। ग्रामीणों ने प्रदूषण विभाग पर सांठगांठ के आरोप लगाये हैं तथा मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत कर प्रदूषण पफैलाने वालों के विरूद्ध कडी कार्रवाई की मांग की है।

Share it
Top