छिटपुट फुहारों ने कराया लोगों को सर्दी का अहसास

छिटपुट फुहारों ने कराया लोगों को सर्दी का अहसास

मुजफ्फरनगर। उत्तराखंड में मौसम ने करवट बदली, तो उसका असर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के साथ ही मुजफ्फरनगर में भी भरपूर नजर आया। पिछले कई दिनों ने दिन की गरमाहट और रात की गुलाबी ठण्ड का असर यहां पर बना हुआ था, लेकिन पहाड़ों पर बारिश के बार अचानक हुई बर्फबारी ने मैदानों तक ठिठुरन बढ़ाने का काम किया। इस सर्दी की पहली बारिश में आज मुजफ्फरनगर भी जमकर भीगा है। यहां पर दिन में बनी गरमाहट भी इस बारिश के कारण दूर होने से लोगों को राहत मिली है। दिन में गर्मी और शाम होते ही मौसम ठण्डा हो जाने के कारण बुखार और अन्य बीमारियां तेजी से बढ़ रही थीं। मौसम की इस नई करवट के कारण अब बीमारियों से भी राहत मिलने की उम्मीद है। गुरूवार सुबह से ही उत्तराखंड में बदले मौसम के कारण प्रदेशभर में बादल छाए रहे। पश्चिमी उत्तर वहीं मैदान में बूंदाबांदी और पहाड़ी इलाकों में बारिश से ठंड में भी इजाफा हुआ है। सुबह गंगोत्री धाम में सीजन की पहली बर्फबारी हुई। बदरीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब में भी बर्फबारी से मौसम सुहावना हो गया। वहीं, यमुनोत्री धाम में भी कोहरा छाया रहा। दोपहर बाद केदारनाथ धाम में भी बर्फबारी से ठंड बढ़ गई। पहाड़ों पर बदले मौसम के इस मिजाज के कारण मैदानी निचले इलाकों में रिमझिम बारिश शुरू हो गई, जिसका असर उत्तर प्रदेश में भी बना नजर आया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सवेरे से ही काले घने बादलों का घेरा बना रहा और बारिश की उम्मीद बढ़ गयी थी। दोपहर होते-होते बादलों ने बरसना शुरू कर दिया था। मौसम विभाग ने 24 घंटों में हल्की बारिश के साथ ही पहाड़ों पर अभी और भी बर्फबारी का अलर्ट जारी किया है। गुरूवार को मुजफ्फरनगर सहित मैदानों में सर्दी की पहली बारिश ने दस्तक दी। सर्दी पहला महीना अक्टूबर पूरी तरह से सूखा बीता। नवम्बर का पहला सप्ताह भी गरमाहट भरा रहा है। आज सप्ताह के आखिरी दिन नवम्बर में मौसम ने अठखेली करते हुए करवट बदली तो लोगों को सर्दी की पहली बारिश का मजा मिला। इस हल्की बारिश ने ही ठिठुरन बढ़ाने का काम किया। हल्की से मध्यम बारिश से पूरा वेस्ट भीगता रहा। रुक-रुककर बारिश और तेज हवाओं से मुजफ्फरनगर में दिन के तापमान में 3 डिग्री सेल्सियस की डुबकी लगा दी। अभी यहां बारिश के आसार बने हैं, जिस कारण जिससे सर्दी बढ़ेगी। आज बारिश के बीच ही स्कूली बच्चों को भीगते हुए घर वापस लौटना पड़ा। जनपद में कई स्थानों पर तेज बारिश का नजारा देखने को मिला। शहर में भी कुछ इलाकों में बूंदाबांदी होती रही तो कहीं पर तेज बौछारों ने तन और मन भिगोने का काम किया। बाजारों में भी हल्की बारिश के बीच ही लोगों को अपने कामकाज निपटाते हुए देखा गया। इस हल्की बारिश ने लोगों को गरम कपड़ों की याद दिलाने का काम किया है। बारिश में भीगे लोगों को ठिठुरते हुए देखा गया। बारिश के कारण बाजार में ठेला लगाने वाले लोग भी प्रभावित नजर आये। इस बारिश के बाद लोगों को प्रदूषण से भी मुक्ति मिलने की संभावना बढ़ गयी है। वायुमण्डल में छाया स्मॉग भी इस बारिश के कारण घटेगा। दीपावली के बाद से ही एनसीआर के कई जनपदों के साथ मुजफ्रपफरनगर जनपद का भी एयर क्वालिटी इंडेक्स खतरनाक स्तर पर चल रहा था। वायु प्रदूषण के घातक स्तर को लेकर जिला प्रशासन ने भी जनपद में ग्रेप कार्यक्रम के अन्तर्गत जागरुकता अभियान चलाया हुआ है। बारिश के बाद उम्मीद की जा रही है कि वायु मण्डल में छाया काली धुंध का पर्दा भी हटेगा और वायु का स्तर सुधरेगा।

Share it
Top