अयोध्या प्रकरण में न्यायालय के फैसले को करें स्वीकार: कल्बे जव्वाद ...भ्रष्टाचार का अड्डा बने हुए हैं वक्फ बोर्ड

अयोध्या प्रकरण में न्यायालय के फैसले को करें स्वीकार:  कल्बे जव्वाद ...भ्रष्टाचार का अड्डा बने हुए हैं वक्फ बोर्ड

मोरना। ग्राम जौली में शिया समाज द्वारा वार्षिक हुसैनी मजलिस का आयोजन किया गया, जिसमें करबला के युद्ध के उपरान्त हुसैनी काफिले के वापस मदीना लौटने पैगम्बर मुहम्मद के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में सम्बोधन किया। कार्यक्रम को आरम्भ में सैयद शबी हैदर, शादाब हैदर काजमी, हैदर जैदी ने मुनकबत व मरसिया प्रस्तुत की। मौलाना कल्बे जव्वाद नकवी ने अपने सम्बोधन में कहा कि अयोध्या मामले में न्यायालय के फैसले को सभी पक्ष स्वीकार करें। अयोध्या मामले को लेकर पहले ही बहुत घट चुका है। जीतने वाला व हारने वाला पक्ष धैर्य का परिचय देकर शांति सौहार्द कायम करने में प्रशासन का सहयोग करें। अयोध्या प्रकरण पर राजनीति लाभ के लिए अधिक प्रयोग हुए हैं। शान्ति के साथ ही विकास के मार्ग पर आगे बढा जा सकता है। राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमान शिक्षा पर ध्यान दें। उच्च शिक्षा के लिए धन की आवश्यकता होती है जो अधिकतर मुसलमानों के पास नहीं है। मुस्लिमों की संस्था शिया वक्फ बोर्ड व सुन्नी वक्फ बोर्ड भ्रष्टाचार के केन्द्र बने हुए हैं। बार बार मांग करने के बावजूद सरकार वक्फ बोर्ड की जांच सीबीआई से क्यों नहीं कराती। एकता व भाईचारे के साथ सभ्य समाज की स्थापना करें। जिससे देश विश्व का नेतृत्व करने में सक्षम हो। तकरीर के दौरान करबला के वाक्ये को पेश किया गया, जिस पर श्रोताओं के आंसू निकल आये। इस अवसर पर जावेद असगर, अरूज असगर, शहजाद असगर, कामरान असगर आयोजक के रूप में रहे तथा मौलाना अली मेंहदी, मूसा रजा जैदी, रिहान काजमी, मुमताज अली जैदी, पफर्रूख रजा जैदी, सरताज जैदी, अली असगर, मौ. मुज्तबा आदि उपस्थित रहे।

Share it
Top