एआरएम ने संभाली बसों के संचालन की कमान

एआरएम ने संभाली बसों के संचालन की कमान

मुजफ्फरनगर। पांच दीपों के अंतिम त्योहार भैयादूज पर यात्रियों को किसी प्रकार की असुविधा न हो, इसके लिए उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम मुख्यालय से मिले निर्देशों के तहत उचित व्यवस्था की गयी। जिसके चलते मुजफ्फरनगर डिपो के सहायक क्षे0 प्रबंधक के द्वारा अपने अधिनस्थ अधिकारियों व कर्मचारियों सहयोग से एक रणनीति बनायी गयी, ताकि यात्रियों को किसी प्रकार की परेशानी त्योहार पर न हो। इसके चलते सहायक क्षे0 प्रबंधक ने बसों के संचालन की कमान खुद अपने हाथों में ली। इस त्योहार पर हमेशा यात्रियों से भरी रहने वाली रोडवेज की बसें आज भी भरी तो नजर आयीं, लेकिन उनमें चढऩे को लेकर पहले की भांति धक्का-मुक्की नहीं हुई। वहीं शामली बस स्टैंड व चरथावल बस स्टैंड पर स्थिति इसके एकदम विपरीत नजर आयी। यात्रियों की भारी भीड़ होने के कारण बसोंं में चढऩे को लेकर यात्रियों में धक्का-मुक्की होती नजर आयी। भैयादूज को लेकर मुजफ्फरनगर रोडवेज डिपो के सहायक क्षे0 प्रबंधक ब्रह्मप्रकाश अग्रवाल की ओर से एक विशेष रणनीति बनायी गयी थी। भैयादूज पर उन्होंने कमान खुद अपने हाथों में ले ली थी। वह पूरे दिन अपने अधिनस्थों के साथ बसों के संचालन पर नजर रखे रहे। इस बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए सहायक क्षे0 प्रबंधक बीपी अग्रवाल का कहना था कि केवल भैयादूज ही नहीं बल्कि पांचों त्योहारों को लेकर लेकर विशेष रणनीति बनायी गयी थी। जिसके चलते यह तय किया गया था कि यात्रियों को अपने गंतव्य को जाने व आने में किसी प्रकार की परेशानी न हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। इसी परिपाटी पर चलते हुए जिन मार्गों पर यात्रियों की संख्या अधिक होने का अनुमान लगाया गया, उन पर अधिक बसों की व्यवस्था की गयी। इसके साथ ही परिस्थिति को देखते हुए भी बसों का तत्काल संचालन किया गया। जिसके चलते आज स्थिति यह हुई कि हमेशा भरा रहने वाला वक्र्सशॉप पूरी तरह से सुनसान अर्थात बस रहित नजर आया। वहीं हमेशा बसों में चढऩे को लेकर होने वाली धक्का-मुक्की भी आज नजर नहीं आयी। यह सब कुशल रणनीति के तहत ही संभव हो पाया। उन्होंने आगे बताया कि डिपो से 10 बसों का बेड़ा तो काफी समय पहले ही आनंद विहार भेज दिया गया था छठ पर्व को लेकर। वहीं त्योहारी सीजन को देखते हुए सभी रोडवेज कार्मिकों के अवकाश पर पूर्णतया रोक लगा दी गयी थी। बसों को उनके (सहायक क्षे0 प्रबंधक के) द्वारा बनायी गयी रणनीति के तहत संचालित किया गया। जिसके चलते यात्रियों को बसों में चढऩे में किसी प्रकार की असुविधा का सामना नहीं करना पड़ा। हर दस मिनट में एक बस का संचालन किया गया। बसों की व्यवस्था बनानें में सहयोग करने वालों में वरिष्ठ स्टेशन प्रभारी अमरीश त्यागी, वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर, स्टेशन प्रभारी याकूब अली, अशोक शर्मा, वीरेंद्र कुमार, टिकट निरीक्षक सुधीर बालियान, कार्यालय सहायक प्रथम अनुज त्यागी व आशुद्दीन आदि शामिल रहे।

Share it
Top