मा. विजय सिंह मामले में प्रशासन के व्यवहार से दुखी हूँ: डा. संजीव बालियान

मा. विजय सिंह मामले में प्रशासन के व्यवहार से दुखी हूँ: डा. संजीव बालियान

मुजफ्फरनगर। जनपद मुजफ्फरनगर का प्रभारी मंत्री बनने के बाद जनपद में पहली बार आये मंत्री चेतन चौहान कलेक्ट्रेट के लोकवाणी भवन मेें मीडिया से रूबरू हुए, जहां पर उन्होंने यूपी सरकार के ढाई साल पूरे होने पर योगी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया। वहीं दूसरी ओर प्रभारी मंत्री के साथ आये केन्द्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान का मास्टर विजय सिंह को लेकर प्रशासन के प्रति रैवया कड़ा नजर आया।

गुरूवार को जनपद के प्रभारी मंत्री चेतन चौहान नगर में आये, जहां पर उनके द्वारा तय कार्यक्रम के उपरांत मीडिया से रूबरू होने के लिए कलेक्ट्रेट स्थित लोकवाणी भवन में पत्रकार वार्ता का आयोजन दोपहर साढे तीन बजे किया गया। पत्रकार वार्ता में मंत्री रहे योगी सरकार के ढाई साल पूरे होने के उपलक्ष्य में सरकार की उपलब्धियों को बखान करते हुए बताया कि सरकार ने तय किये वादों को पूरा करने का भ्रसक प्रयास किया। सर्वप्रथम कानून व्यवस्था को पटरी पर लाया गया। ईनामियों के एनकांउटर किये गये, जिसमें साठ से अधिक को ऊपर पहुंचाया गया। अधिकांश ने डर के मारे सरेंडर किया। उन्होंने बताया कि उनके जनपद अमरोहा में 15 लाख की लूट के आरोपी ने सरेंडर किया। उन्होंने बताया कि दूसरा वादा किसानों की कर्ज माफी का पूरा किया गया। इसमें साढे 86 लाख किसानों का 36 हजार करोड़ रुपया माफ किया गया। देहात में 14 से 16 घंटे बिजली आपूर्ति दी गयी। एक अन्य वादा बकाया गन्ना भुगतान का पूरा करते हुए 74 हजार करोड भुगतान पिछले सप्ताह तक कराया। उन्होंने कहा कि नदियों को पुनर्जीवित करने व तालाबों को सक्रिय करने के लिए भी कार्य किया जा रहा है। मास्टर विजय सिंह के मामले को लेकर पूछे जाने पर उन्होंने किया कि प्रशासन को मास्टर विजय सिंह के साथ वार्ता करनी चाहिए थी। यदि वह चाहेंगे, तो उन्हें यहां पर स्थान उपलब्ध करा दिया जायेगा। सरकारी सम्पत्ति पर किसी को कब्जा नहीं करने दिया जायेगा, वहीं दूसरी ओर जब प्रभारी मंत्री इस विषय पर बोल रहे थे, तो बुढाना के विधायक उमेश मलिक ने इस विषय में कुछ कहना चाहा, जिस पर केन्द्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान द्वारा उन्हें चुप करा दिया गया और प्रभारी मंत्री से कहा कि आपको गुमराह किया जा रहा है। वह अभी मास्टर विजय सिंह से मिलकर आये है। मास्टर विजय सिंह ने उनसे कहा कि वह हमेशा से अहिंसावादी रहे है, कभी कानून अपने हाथ में नहीं लिया। डा. संजीव बलियान ने कहा कि प्रशासन के मास्टर विजय सिंह के प्रति किये गये व्यवहार से वह अत्यंत दुखी है। मास्टर विजय सिंह एक सम्मानित व्यक्ति है। प्रशासन द्वारा उन्हें काशीराम आवास आवंटित करने पर उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि मास्टर विजय सिंह सम्पन्न परिवार से है। मकान का आवंटन कर प्रशासन ने उनका अपमान किया है। प्रशासन को उनसे बातचीत करनी चाहिए थी, जब इस विषय पर प्रभारी मंत्री से प्रश्न किया जा रहा था कि मास्टर विजय सिंह को बेइज्जत कर निकाला गया है, तो उस समय सेल्वा कुमार जे. पीछे बैठी मुस्कुराती रही।

Share it
Top