मुजफ्फरनगर: डीएम का जल संरक्षण के लिए अनूठा प्रयास, जनपद रचेगा इतिहास, बीबीपुर में मनाई जल दीपावली



मुजफ्फरनगर। देश में चल रहे जल शक्ति अभियान के अन्तर्गत जल संरक्षण को लेकर अनेकों प्रयास चल रहे हैं। जिलाधिकारी द्वारा देश व प्रदेश की जनपद में जल संरक्षण की मुहिम केा और अधिक बलवती करने के उद्देश्य से एक नया व अनूठा प्रयास जल दीपावली का आयोजन किया गया। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद की समस्त ग्रामों के सार्वजनिक स्थलों पर दीये जलाकर जल संरक्षण का संकल्प ले जल दीपावली मनाई गई। इसी प्रकार जनपद के सभी 9 ब्लाॅकों के एक गांव में सम्पूर्ण जल दीपावली का आयेाजन किया गया। जिलाधिकारी ने बताया कि बुढाना ब्लाॅक के बिटावदा, सदर का बीबीपुर, बघरा का धनसैनी, मोरना का शुक्रतारी, पुरकाजी का भूराहेडी, शाहपुर का सोहजनी तगान, कितास, कमालपुर, दिनकरपुर, चरथावल का बडकली, खतौली का इस्लामाबाद तथा जानसठ का कासमपुर खोला में जल सरंक्षण को लेकर ग्राम वासियों द्वारा दीप जलाकर जल दीपावली का आयोजन किया गया। जिलाधिकारी के इस प्रयास की चारो ओर प्रशंसा की जा रही है।

जिलाधिकारी ने जनपद में मनाई जा रही जल दीपावली के अवसर पर सदर ब्लाॅक के ग्राम बीबीपुर जाकर जल दीपावली पर्व मनाया। उन्होंने इस अवसर पर ग्राम वासियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पानी की संचयन बहुत जरूरी है क्योकि पीने केा पानी बहुत कम हो रहा है। गिरते भू जल स्तर को ऊपर लाने के लिए हम सबको संयुक्त प्रयास करने होंगे। तभी हम आने वाली पीढी को पीने का पानी सुलभ करा पायेगे। हम सबको माईक्रो लेवल पर जाकर कार्य करना होगा ऐसी कार्ययोजना बनानी होगी जिससे गिरते भू जल स्तर को ऊपर लाया जा सके। हमें वर्षा ऋतु का पानी रोकने (ड्रेन हार्वेस्टिग) व दिनचर्या में इस्तेमाल होने वाले पानी को भी रोकना होगा ताकि आने वाली पीढी को हम जीवन की सौगात 'पानी' का भण्डार दे सकें। उन्होने कहा कि जल शक्ति अभियान के अन्तर्गत जनपद के तीनों डार्क जोन ब्लाॅकों में जल संरक्षण के अच्छे प्रयास किये गये हैं पर हमें यही पर नही रूकना है इसे निरन्तर आगे बढाना है। जिलाधिकारी ने कहा कि पानी जैसी धरोहर को हमे भविष्य के लिए संचय करना होगा। उन्होने कहा कि खेतों का पानी खेत में रोकने के प्रयास भी अभी से करने होंगे तथा जितना पानी की आवश्यकता है उसी का उपभोग किया जायें व प्रयोग के लायक ही पानी लिया जाये। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण एव वर्षा जल संचयन आज की महती आवश्यकता है यदि हम लोग अभी अब से नही चेते तो धीरे-धीरे पानी की सतह नीचे गिरने के साथ ही पेड़, पौधों के के साथ हमारे स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पडेगा। जल का अत्यधिक दोहन न करे। उसको आने वाली पीढी के लिए संरक्षित करके रखे। हमें जल संरक्षण एंव उसके संचयन के प्रति गम्भीर होना होगा। अन्यथा भविष्य में गम्भीर परिणाम भुगतने होगे। जनता अपनी दैनिक आवश्यकताओं के लिए भूजल पर निर्भर है विगत दो तीन दशकों में सिंचाई, पेयजल एवं औद्योगिक सैक्टर में भूगर्भ जल स्रोतों का अत्याधिक दोहन किये जाने से भूगर्भ जल स्तर में चिन्ताजनक गिरावट आई है इसी गिरावट को अभी संयुक्त प्रयासों से रोकना है। उन्होंने कहा कि जिला मुजफफरनगर में बुढाना, बघरा व चरथावल ब्लाक डार्क जोन पहुंच चुके है। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर वर्षा के पानी का संचयन या संग्रहण को या तो जलाशयों, टैंकों या झीलों में जल को संग्रहित करके रखने के माध्यम से हो सकता है अथवा भूमिगत जल के पुर्नभरण द्वारा किया जा सकता है।

इस अवसर पर प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी महेन्द्र प्रसाद, नगर मजिस्ट्रेअ अतुल कुमार, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट/बीडीओ सदर विजय कुमार सहित जल शक्ति अभियान से जुडे सभी विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Share it
Top