रिश्वत लेते लेखपाल का वीडियो हुआ वायरल

रिश्वत लेते लेखपाल का वीडियो हुआ वायरल

मुजफ्फरनगर। मामला जनपद मुजफ्फरनगर के थाना पुरकाजी व सदर तहसील क्षेत्र के गांव तेजलहेड़ा का है, जहां एक किसान वेदपाल की कुछ महीनों पहले मृत्यु हो गई थी, जिसके नाम गांव में कई स्थानों पर 21 बीघा कृषि भूमि अभिलेखों में दर्ज थी। घर के मुखिया की मृत्यु के बाद उसकी संपत्ति मृतक के वारिसों पत्नी व पुत्रों के नाम दर्ज होनी थी। उत्तर प्रदेश सरकार के आदेशों के अनुसार किसी भी किसान की मृत्यु के बाद उसकी प्रॉपर्टी उसके वारिसों के नाम 15 दिन के अंदर करने के सख्त आदेश हैं, मगर मृतक किसान वेदपाल के पुत्र संजीव कुमार ने पिता की मृत्यु के बाद से ही पिता के नाम दर्ज कृषि भूमि को अपनी मां बाप व अन्य दो भाईयों देविन्द्र व रविन्द्र के नाम कराने और हिस्सा प्रमाण पत्र बनवाने के लिए तहसील के चक्कर काटने शुरू कर दिए। उसने अपने हल्का (मौजा रायपुर झोझा) गांव तेजलहेड़ा के तत्कालीन लेखपाल, मौजा ताजपुर सिमर्थी के लेखपाल व बसेडा द्वितीय के लेखपाल से पिता की सम्पत्ति उनके वारिसों के नाम कराने के लिए प्रार्थनापत्र दिए। आरोप है कि पीडि़त संजीव से बिना रिश्वत लिए फाईलें आगे नहीं बढ़ाई गई। रिश्वतखोर लेखपालों की करतूत से तंग आकर पीडि़त ने लेखपाल का रिश्वत लेते हुए वीडियो अपने मोबाइल में बना लिया और फिर उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। वीडियो में देखा जा रहा है किस तरह लेखपाल पीडि़तों से बिना रिश्वत लिए काम नहीं करते। गौरतलब है कि मुजफ्फरनगर में चरथावल से विधायक विजय कश्यप को उत्तर प्रदेश सरकार में राजस्व विभाग का राज्य मंत्राी बनाया गया है, जो शनिवार को ही मंत्राी बनने के बाद मुजफ्फरनगर में पहली बार पहुंचेंगे। अब देखना होगा कि रिश्वतखोर लेखपालों से राजस्व मंत्री विजय कश्यप कैसे निपटेंगे। हालांकि इस मामले में अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित सिंह ने कहा कि लेखपाल के रिश्वत लेते हुए वीडियो को संज्ञान में लिया जा रहा है, जिसकी जांच के बाद आरोपी लेखपालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Share it
Top