अब भ्रष्टाचार पर होगा डीएम का वार.. सम्बन्धित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी की भी जिम्मेदारी तय की जायेगी

अब भ्रष्टाचार पर होगा डीएम का वार.. सम्बन्धित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी की भी जिम्मेदारी तय की जायेगी


मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने समस्त अधिकारियों व विभागाध्यक्षों केा निर्देश जारी करते हुए कहा कि जनपद मुजफ्फरनगर में कार्यभार ग्रहण करने के उपरांत मैंने यह स्पष्ट संदेश अधिकारियों को दिया था कि जनपद में भ्रष्टाचार-मुक्त प्रशासन मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता में रहेगा। वरिष्ठ अधिकारियों के माध्यम से और कहीं-कहीं सीधे फील्ड स्तर के कर्मचारियों को मैंने भ्रष्टाचार में किसी भी प्रकार की संलिप्तता को गंभीरता एवं अत्यंत कठोरता से लेने के अपने एजेण्डे को स्पष्ट कर दिया था, परन्तु यदाकदा समाचार-पत्रों एवं शिकायती-प्रार्थनापत्रों के माध्यम से अभी भी रिश्वतखोरी एवं भ्रष्टाचार की घटनाऐं पढ़ने-सुनने को मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि यह अत्यन्त गंभीर एवं सरकार की छवि कुप्रभावित करने वाली स्थितियां हैं।

जिलाधिकारी ने कहा कि विभागों मे भ्रष्टाचार को मुक्त करने के संबंध में निर्णय लिया गया है कि यदि भविष्य में भ्रष्टाचार या रिश्वतखोरी की कोई शिकायत प्राप्त होती है और जांच कराने पर शिकायत सही पाई जाती है तो भ्रष्टाचार में लिप्त कर्मचारी के साथ-साथ सम्बन्धित पर्यवेक्षण अधिकारी को भी उत्तरदायी माना जायेगा और साथ ही साथ सम्बन्धित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी की भी जिम्मेदारी तय की जायेगी।

उन्होंने समस्त विभाध्यक्षों व जिलास्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि विगत दो माह में पारदर्शी, भ्रष्टाचार-मुक्त एवं स्वच्छ प्रशासन देने के लिए आपने जो-जो कार्यवाहियां की है, उससे अवगत कराया जाय तथा आपने अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को पारदर्शिता के बारे में किस प्रकार मोटिवेट किया है तथा किस प्रकार पैनी नजर रखते हुए भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाया गया है, इन तथ्यों से भी अवगत कराया जाये। उन्होंने कहा कि इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की जाये।

Share it
Top