रासुका में जिला कारागार में बंद भीम आर्मी जिलाध्यक्ष उपकार बावरा रिहा...एससीएसटी एक्ट को लेकर हुई हिंसा में जेल में लगी थी रासुका

रासुका में जिला कारागार में बंद भीम आर्मी जिलाध्यक्ष उपकार बावरा रिहा...एससीएसटी एक्ट को लेकर हुई हिंसा में जेल में लगी थी रासुका

मुजफ्फरनगर/भोपा। बीते वर्ष दो अप्रैल को एससीएसटी को लेकर हुई हिंसा के आरोपी भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष उपकार बावरा को आज जिला कारागार से रिहा कर दिया गया है। रिहा होने के बाद उपकार बावरा भोपा क्षेत्र के गांव गादला में मृतक अमरेश के घर पहुंचे। उल्लेखनीय है कि 2 अप्रैल 2018 को एससीएसटी एक्ट बवाल प्रकरण में भीम आर्मी जिलाध्यक्ष उपकार बावरा समेत तीन लोगों पर रासुका लगी थी, जिसमें उपकार बावरा भी जिला कारागार में बंद थे। आज सुबह जिला कारागार से रिहा होने के बाद जेल के बाहर भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने पगड़ी और फूल-मालाएं पहनाकर उपकार बावरा का स्वागत किया। जिला मुख्यालय पर बीते दो अप्रैल 2018 को एससी-एसटी एक्ट में गिरतारी पर रोक लगाए जाने के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान बवाल हो गया था, जिसमें भोपा थाना क्षेत्र के गांव गादला निवासी युवक अमरेश की मौत हो गई थी, जिसमें भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष उपकार बावरा पर रासुका की कार्रवाई की गई थी। बीते बुधवार की देर रात को उपकार बावरा जिला कारागार से रिहा हो गए तथा गुरुवार की सुबह गांव गादला में मृतक अमरेश के घर पर पहुंचे तथा अमरेश के पिता सुरेश कुमार, माता जलसो, दादी बिशनदेई, बहन रूबी, भाई इंद्रेश, भाभी रेखा से मुलाकात कर हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

Share it
Top