पीड़ितों को न्याय दिलाने में अधिवक्ताओं का विशेष योगदानः अरूण कुमार त्यागी

मुजफ्फरनगर। शनिवार को पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति अरुण कुमार त्यागी ने जिला बार संघ परिसर में नवनिर्मित अधिवक्ताओं के चैंबर्स का उद्घाटन किया। इस मौके पर उनके साथ जिला बार एसो. अध्यक्ष राजेश्वर दत्त त्यागी और महासचिव सुनील दत्त शर्मा सहित बार एसो. की कार्यकारणी के सदस्य और प्रमुख अधिवक्तागण मौजूद रहे। इसके बाद फैंथम हॉल में जस्टिस अरुण कुमार त्यागी का सम्मान समारोह आयोजित किया गया। जिला बार सहित प्रमुख अधिवक्ताओं ने उन्हें बुके देकर और माल्यार्पण कर भव्य स्वागत किया। इस मौके पर बोलते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के जस्टिस अरुण कुमार त्यागी ने कहा कि बार और बेंच दोनों का मकसद पीड़ितों को त्वरित न्याय दिलाना है। दोनों एक रथ के दो पहिए हैं और दोनों का अटूट संबंध है। उन्होंने आशा जताई कि न्यायिक व्यवस्था में अधिवक्ता और न्यायिक अधिकारियों के सहयोग से पीड़ितों को सस्ता सुलभ शीघ्र न्याय मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि उन्हें बेहद खुशी हुई है कि आज वह अपने गृह जनपद में सम्मानित हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह इस जनपद के बरला गांव के मूल निवासी हैं। यद्यपि उनकी पूरी शिक्षा दिल्ली में हुई और बाद में वह हरियाणा जुडिशल सर्विस में चयनित हुए और आज चंडीगढ़ हाईकोर्ट में न्यायमूर्ति हैं। उन्होंने जनपद के अधिवक्ताओं को आश्वस्त किया कि जिस वक्त अधिवक्ता समाज को उनकी जरूरत होगी, वह उनसे बेरोकटोक मिलेंगे। उन्होंने बताया कि अपनों के बीच में अपने अधिवक्ता द्वारा सम्मान पाना बड़े हर्ष का विषय है। उन्होंने एक प्रश्न के जवाब में बताया कि वादों की पेंडेंसी को दूर करने के लिए सभी न्यायालयों में सकारात्मक कदम उठाए गए हैं और तेजी से कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के अलावा सभी उच्च न्यायालय की अपनी गरिमा है, अपने-अपने कार्य करने का तरीके हैं, लेकिन सबका एक मकसद है कि पीड़ित को सस्ता सुलभ और शीघ्र न्याय मिले। अधिवक्ताओं के चैंबर्स के बारे में बताया कि यह बेहद हर्ष का विषय है कि जो अधिवक्ता बिना सीट के वकालत कर रहे थे, आज उन्हें अपने चेंबर जिला बार ने दिए हैं । इसके लिए उन्होंने अधिवक्ताओं को शुभकामनाएं भी दीं। फैंथम हॉल में वरिष्ठ अधिवक्ता महफूज खां राठौर ने जस्टिस अरुण कुमार त्यागी का सम्मान करने के उपरांत कहा कि जो सादगी और न्यायिक छवि जस्टिस एके त्यागी में देखने को मिली, वह सबसे जुदा है। उन्होंने कहा कि जस्टिस त्यागी ना सिर्फ अपने मधुर व्यवहार से बल्कि अपने महत्वपूर्ण निर्णय व आदेशों तथा न्यायिक विभाग में अपनी साफ स्वच्छ छवि के लिए जाने जाते हैं। इस अवसर पर अपर जिला एवं सत्रा न्यायाधीश कोर्ट नंबर प्रथम गौरव श्रीवास्तव, फैमिली कोर्ट के प्रिंसिपल जज डाक्टर अजय कुमार भी मुख्य रूप से मौजूद रहे। इनके अलावा वरिष्ठ अधिवक्ता ओंकार सिंह, कलीराम, योगेंद्र शर्मा, नासिर अली, राजीव त्यागी, योगेंद्र शर्मा, संजीव कुमार त्यागी, सुखपाल सैनी, ब्रजभूषण त्यागी, सतेंद्र त्यागी, विश्वराज कुमार, राजकुमार गर्ग, प्रदीप कुमार मलिक, राजबीर सिंह, अमित कुमार तायल, दुष्यंत त्यागी, प्रमोद त्यागी, फैयाज हसन, मौ. वसी अंसारी, सानुज मलिक, सतीश लाटियान, हेमंत त्यागी, जय कुमार शर्मा, एमआई नौशाद, वसी अंसारी, अनूप सिंह, मुजम्मिल, सुखपाल सिंह, प्रदीप मलिक, भगवत सिंह कश्यप, मोहम्मद इस्लाम, इनाम इलाही त्यागी, मुनव्वर राना, बुरहान कुरैेशी, आरिफ शीश महली,नाहिदा, मुजस्सिम, अमजद अली आदि अधिवक्ता मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन महासचिव सुनील दत्त शर्मा ने किया व अध्यक्षता राजेश्वर दत्त त्यागी ने की।

Share it
Top