खादर क्षेत्र में भूमाफियाओं पर प्रशासन ने की कार्रवाई

मोरना। गंगा खादर क्षेत्र में सैंकडों गाय मर जाने के बाद मौके पर पहुंचे आला अधिकारियों ने घटना पर संज्ञान लेते हुए भूमाफियाओं पर कार्रवाई करने के आदेश दिये हैं।

गंगा खादर क्षेत्र में भूमाफियाओं द्वारा सरकारी वन भूमि पर स्थित चरागाहों पर अवैध कब्जा कर चरागाहों को समाप्त कर देने की शिकायत गौपालकों ने प्रशासन से की थी। जहां मौके पर पहुंचे अधिकारियों भूमाफियाओं द्वारा अवैध रूप से उगाई गयी। फसल के चारों ओर तार की बाड कर उसमें विद्युत करंट छोडने की व्यवस्था होना देखकर भौचक्का रह गये। गौपालकों ने अधिकारियों से बताया कि भूमाफिया करंट के द्वारा गौहत्या कर रहे हैं।

अपर जिलाधिकारी(वित्त) आलोक कुमार ने समाचार पत्रों को पत्र लिखकर जानकारी देते हुए बताया कि प्रकाशित खबर का संज्ञान लेते हुए जानसठ तहसील क्षेत्र के जलालपुर बेहडा में मृत गौवंश के सम्बंध में मौके पर जांच की गयी, जहां जलालपुर बेहडा की सीमा से नदी क्षेत्र के मध्य स्थित भूमि पर नवजोत चानन, बलजिन्दर, गुरजीत सिंह, रियाज, राजा आदि भूमाफियाओं द्वारा अवैध कब्जा कर फसल उगाये जाने को लेकर जिलाधिकारी द्वारा सिंचाई विभाग की जमीन से अवैध कब्जा हटाये जाने के निर्देश दिये हैं तथा उपजिलाधिकारी जानसठ, अधिशासी अभियन्ता मध्य गंगा नहर खण्ड 5 सिंचाई विभाग बिजनौर उप प्रभागीय वनाधिकारी मुजफ्फरनगर क्षेत्रीय वनाधिकारी मोरना की एक समिति का गठन किया गया है, जो संयुक्त रूप से जांच कर सिंचाई विभाग की जमीन पर भूमाफियाओं द्वारा किये गये अवैध कब्जे को हटवाकर 2 दिन के भीतर रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। कार्रवाई में देरी होने पर सम्बंधित विभागीय अधिकारी को उत्तरदायी बनाते हुए उनके विरूद्ध भी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी जायेगी। भू माफियाओं पर कार्रवाई के दौरान भोपा थाना पुलिस को पर्याप्त पुलिस बल के साथ उपस्थित रहने के आदेश भी दिये गये हैं।

Share it
Top