मुज़फ्फरनगर : बोरे में मिला लापता पशु चिकित्सक का शव...ककरौली क्षेत्र के गांव दौलतपुर के जंगल से मिला शव, रुपयों के लेनदेन को लेकर हत्या

मोरना। सवेरे घर से निकले पशु चिकित्सक के शुक्रवार शाम तक घर न लौटने पर गुमशुदगी की तहरीर चचेरे भाई ने भोपा पुलिस को दी थी पशु चिकित्सक के बारे में जानकारी पर पता चला वह फाइनेंसर का कार्य भी करता था, जिस पर क्षेत्राधिकारी राममोहन शर्मा थाना भोपा प्रभारी निरीक्षक बृजेश प्रताप सिंह ने अपनी जांच के एंगल को दूसरी ओर घुमाया, तो उसे सुराग मिलने शुरू हो गये, जिस पर पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में लेकर पूछताछ आरम्भ की। वहीं देर रात तक चिकित्सक के घर न लौटने व मोबाइल बंद रहने से परिजनों में अनहोनी की आशंका घर करने लगी। शनिवार सवेरे चिकित्सक की बरामदगी को लेकर ग्रामीणों ने थाना भोपा का घेराव किया। बढ़ते हंगामे को लेकर पुलिस अधीक्षक देहात आलोक शर्मा क्षेत्राधिकारी जानसठ सोमेन्द्र सिंह नेगी, जानसठ थाना प्रभारी निरीक्षक आनन्द देव मिश्र भी थाना भोपा पहुँचे तथा दो घण्टे में घटना के खुलासे का आश्वासन ग्रामीणों को दिया। कुछ समय पश्चात गुस्साये ग्रामीणों ने बिजनौर जा रही बस को थाना भोपा के सामने रोककर मुजफ्फरनगर मार्ग पर जाम लगा दिया थाना भोपा क्षेत्र के गाँव मोरना निवासी डॉ. सतीश मलिक पुत्र सत्यपाल सिंह मोरना क्षेत्र के ग्रामों में जाकर पशु चिकित्सा के साथ-साथ फाइनेंसर का कार्य भी करता था। प्राप्त जानकारी के अनुसार रुपये के लेनदेन को लेकर डॉक्टर सतीश मोरना के नजदीकी ग्राम ककराला में कामिल के पास गये थे। कामिल ने डॉक्टर सतीश से पैसों को लेकर लिया हुआ है, जिसको लेकर कोई विवाद दोनों में हुआ, जिस पर कामिल ने चिकित्सक की सम्भवतः हत्या कर दी तथा शव को ठिकाने लगाने के लिये खानाबदोश समाज के व्यक्तियों को ठेका दिया। अज्ञात व्यक्तियों द्वारा शव को रेहड़ा में रखकर कहीं ठिकाने लगा देने की चर्चा प्रकाश में आयी है। वहीं रेहडे को मीरापुर थाना क्षेत्र के गाँव चुड़ियाला से बरामद होने की बात पुलिस ने बात बताई। वहीं शाम के समय चिकित्सक का शव थाना ककरौली क्षेत्र के गांव दौलतपुर के जंगल में बरामद हो गया। [रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध, ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप]

Share it
Top