फर्जी पर्चियों को लेकर किसानों का हंगामा, गन्ना समिति ने चीनी मिल को भेजा नोटिस

फर्जी पर्चियों को लेकर किसानों का हंगामा, गन्ना समिति ने चीनी मिल को भेजा नोटिस

बुढ़ाना। गन्ने की फर्जी तोल पर्ची जारी किए जाने को लेकर किसानों ने चीनी मिल के विरुद्ध गन्ना समिति पर हंगामा किया। किसानों ने अवैध रूप से जारी की गई पर्चियों पर रोक लगवाने की मांग व कार्रवाई को लेकर समिति के प्रभारी सचिव को घेरा। प्रभारी सचिव के चीनी मिल को नोटिस भेजने के आश्वासन पर किसान शांत हुए। सहकारी गन्ना विकास समिति कार्यालय पर एकत्र दर्जनों किसानों ने एकत्र होकर चीनी मिल के विरुद्ध नारेबाजी की। इस दौरान किसानों ने आरोप लगाया कि बजाज चीनी मिल भैसाना के जीएम व केन मैनेजर द्वारा फर्जी पर्चियां जा रही है। उन्होंने कहा कि जीएम के पुस्तैनी गांव बामनौली के सैंकडो बांड फर्जी बनाए गये है। इन बांड के जरिए 19० रुपये प्रति कुंतल से खरीदा गया। गन्ना 325 रुपये की खरीद दिखाकर 135 रुपये प्रति कुंतल का मुनाफा कमाया जा रहा है। किसानों ने फर्जीवाडा पकडने के साथ कुछ पर्चियां भी दिखाई। किसानों के हंगामें पर समिति कार्यालय पहुंचे प्रभारी सचिव, ज्येष्ठ गन्ना निरीक्षक ब्रिजेश कुमार राय ने किसानों के शिकायती पत्र पर चीनी मिल को नोटिस देकर जांच का आश्वासन दिया। किसानों ने शिकायती पत्र में यह भी आरोप लगाया कि मलकपुर समिति का इंडेट तीन सप्ताह के पांचवे कालम में चल रहा है, जबकि बुढ़ाना समिति चीनी मिल की मदर समिति होने के बावजूद दूसरे सप्ताह के दसवें कालम पर ही है। उन्होंने इसे किसानों के साथ धोखा बताते हुए इसकी भी जांच करने की मांग की। शिकायती पत्र देने वालों में ऊधम सिंह, कालन खां, मौमीन, राजकुमार, संजय, ताहिर, संदीप उजलायन, सुरेन्द्र आदि मौजूद रहे।

रूपये के लेनदेन को लेकर दो पक्षों में कहासुनी; पुरकाजी। गांव हरिनगर में रूपए के लेनदेन को लेकर दो पक्षों मेंं कहासूनी हो गई। डायल 1०० की पुलिस दोनों पक्षों को उठाकर थाने ले आई। हरिनगर निवासी प्रदीप कुमार ने बताया कि एक साल पहले उसने गांव निवासी को हाथ उधार दिए थे। आरोप है कि उधार के रूपए मांगने पर युवक ने गाली-गलौच करते हुए मारपीट पर उतारू हो गया। सूचना पर पहुंची डायल 1०० पुलिस दोनो पक्षों को उठाकर थाने ले आई, जहां पर दोनों पक्षों के लोग मौजूद थे।

Share it
Top