सौभाग्य योजना का लाभ पात्र लोगों को मिलेः मण्डलायुक्त

सौभाग्य योजना का लाभ पात्र लोगों को मिलेः मण्डलायुक्त

मुजफ्फरनगर। मण्डलायुक्त चन्द्र प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि सौभाग्य योजना का लाभ जनपद के सभी पात्रा लोगों को मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना के अन्तर्गत ग्रामों/मजरों को संतृप्त किया जाना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि ग्रामीण विद्युतीकरण मंे अधिकाधिक बिजली उपलब्ध कराने के लिए पिफडर पृथकीकरण कार्य में तेजी लायी जाये। बैठक में मुख्य अभियन्ता द्वारा अवगत कराया है कि जनपद-मुजफ्फरनगर के 809 ग्राम/मजरों में विद्युत कनैक्शन हेतु विद्युतीकरण का कार्य सम्बन्धित कार्यदायी संस्थाओं द्वारा पूर्ण कर दिया गया है। मण्डलायुक्त ने समीक्षा में पाया कि दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना-11 वी प्लान कार्यदायी संस्था मैसर्स फैब्रिकों इण्डिया लि., मेरठ द्वारा जनपद-मुजफ्फरनगर के 210 ग्राम/मजरों का संतृप्तीकरण किया गया है। बैठक में पाया कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित किये गये परिवर्तकों की संख्या -530 नग, स्थापित किये गये पोलों की संख्या-7350 नग, एच.टी.लाईन का निर्माण-45.25 कि.मी., एल.टी.ए.बी.केबिल-180 कि.मी. तथा बी.पी.एल संयोजन की संख्या-4503 साथ ही नये ए.पी.एल. एवं बी.पी.एल संयोजन भी निर्गत कर दिये गये हैं। मण्डलायुक्त चन्द्र प्रकाश त्रिपाठी आज यहां पुलिस लाईन सभागार में विद्युत विभाग के अधिकारियों के साथ जनपद में संचालित विद्युत विभाग की योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने पाया कि दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना-न्यू प्लान कार्यदायी संस्था मैसर्स के.ई.आई. इण्डस्ट्रीज लि., डी-90, ओखला इण्डस्ट्रीयल एरिया, फेज-1, नई दिल्ली के द्वारा जनपद मुजफ्फरनगर के 367 ग्राम/मजरों का संतृप्तीकरण किया गया है।

मण्डलायुक्त ने समीक्षा में पाया कि ग्रामीण विद्युतीकरण योजनान्तर्गत कार्यदायी संस्थाओं द्वारा जनपद के ग्रामीण क्षेत्रांे में 24 घण्टे बिजली देने के लिये विद्युत विभाग द्वारा कृषि पोषकों को अलग-अलग कर फीडर पृथकीकरण योजना में 30 नग 11 केवी पोषकों का निर्माण कर आपूर्ति प्रारम्भ की दी गयी है। अन्य शेष कार्य कार्यदायी संस्था द्वारा तीव्र गति से किया जा रहा है। मण्डलायुक्त ने सौभाग्य योजना (प्रधानमंत्री) सहज बिजली हर घर योजनाद्ध की समीक्षा करते हुए पाया कि जनपद मंे ग्रामीण क्षेत्रों में एबी केबिल डालकर संतृप्तीकरण का कार्य किया गया है। समीक्षा में पाया कि इस योजना में ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक गरीब परिवारों को निःशुल्क एवं सामनान्य ग्रामीण परिवारों को 50 प्रति माह की दर से 10 किस्तों में कुल धनराशि 500 में विद्युत संयोजन दिये जा रहे हैं। प्रत्येक संयोजन के लिये विद्युत पोल से उपभोक्ता के परिसर तक केबिल लगाना/मीटर/एम.सी.बी./स्पोर्ट पाईप/जी.आई.वायर एवं एक बोर्ड तथा एक एल.ई.डी. बल्ब लगाकर निःशुल्क संयोजन दिये जाने का प्राविधान है।

मण्डलायुक्त ने समीक्षा करते हुए पाया कि जनपद में ग्रामीण क्षेत्र में 3,75,756 अवास/घर हैं। जिसके सापेक्ष 3,26,166 आवास/घरों को 30 सितंबर 2018 तक विद्युत संयोजन उपलब्ध करा दिया गये हैं। सौभाग्य योजना के अन्तर्गत भी 40,275 उपभोक्ताओं को 30 सितंबर 2018 तक विद्युत संयोजन दिये जा चुके हैं। इसी अनुक्रम में मुख्य अभियन्ता (वितरण) पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि., सहारनपुर द्वारा मण्डल आयुक्त को बताया है कि जनपद में दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना-न्यू प्लान में 13 नग नये 33/11 केवी उपकेन्द्रों का निर्माण कार्य किया जा रहा है। जिसके सापेक्ष 07 नग 33/11 केवी उपकेन्द्रों का निर्माण कार्य पूर्ण कर ऊर्जीकृत कर दिये गये हैं। बैठक में जिलाधिकारी राजीव शर्मा, मुख्य अभियन्ता ;वितरणद्ध पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि., सहारनपुर, अधीक्षण अभियन्ता एवं अधिशासी अभियन्ता एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।

Share it
Top