शाहनवाज हत्याकाण्ड में पत्नी व नौकर को उम्रकैद...लद्दावाला में आठ वर्ष पूर्व किरयाना दुकानदार की पत्नी व नौकर ने की थी हत्या

शाहनवाज हत्याकाण्ड में पत्नी व नौकर को उम्रकैद...लद्दावाला में आठ वर्ष पूर्व किरयाना दुकानदार की पत्नी व नौकर ने की थी हत्या

मुजफ्फरनगर। शहर कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला लद्दावाला निवासी दुकानदार शाहनवाज की गर्दन काटकर की गई हत्या के मामले में आज कोर्ट ने सुनवाई पूरी कर मृतक की पत्नी व उसके नौकर को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने दोषियों पर 7-7 हजार रूपये का अर्थदण्ड भी लगाया। ज्ञातव्य है कि शहर कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला लद्दावाला में लगभग 8 वर्ष पूर्व किरयाना की दुकान करने वाले शाहनवाज की गर्दन काटकर हत्या कर दी गई थी। कई दिन बाद मृतक शाहनवाज का गर्दन कटा शव दुकान के पीछे बने गोदाम से बरामद हुआ था। सहायक शासकीय अधिवक्ता विजयपाल सिंह वर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि शहर कोतवाली क्षेत्रा के मौहल्ला लद्दावाला निवासी किरयाना दुकानदार शाहनवाज वर्ष 2010 में अचानक लापता हो गया था। उसकी पुलिस ने सम्भावित स्थानों पर तलाश की, लेकिन वह नहीं मिल सका था। लगभग एक सप्ताह बाद शाहनवाज की दुकान के पीछे बने गोदाम से दुर्गन्ध उठी, तो लोगों को किसी का शव सडने का अहसास हुआ। इस संबंध में सूचना मिलने पर शहर कोतवाली पुलिस ने दुकान के पीछे बने गोदाम को खंगाला, तो वहां पर शाहनवाज का गर्दन कटा शव बरामद हुआ था। पुलिस ने 15 जून 2010 को इस संबंध में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। जांच में सामने आया था कि शाहनवाज की पत्नी रईसा का दुकान पर काम करने वाले नौकर रिजवान से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। शाहनवाज को अपनी पत्नी की इस हरकत पर शक हो गया था। राज खुलने के डर से रईसा व नौकर रिजवान ने शाहनवाज की गर्दन काटकर हत्या कर दी थी और शव को दुकान के पीछे बने गोदाम में आटे व खल-चोकर की बोरियों के नीचे छिपा दिया था। दोनों शव ठिकाने लगाने का प्रयास ही कर रहे थे, लेकिन उन्हें ऐसा करने का मौका नहीं मिल सका था। इसी दौरान एक दिन गोदाम से शव सड़ने की दुर्गन्ध उठी, तो लोगों को शक हुआ, इसके बाद पुलिस ने गोदाम से शाहनवाज का गर्दन कटा सडा-गला शव बरामद कर लिया था। सहायक जिला शसाकीय अधिवक्ता विजयपाल सिंह वर्मा ने बताया कि घटना के मुकदमे की सुनवाई एडीजे-चतुर्थ रविन्द्र कुमार के न्यायालय में हुई। उन्होंने बताया कि अभियोजन ने इस मामले में सात गवाह पेश किये। पेश किये गये गवाहों व सबूतों के आधार पर मृतक की पत्नी रईसा व नौकर शाहनवाज को न्यायालय ने शाहनवाज की हत्या करने तथा हत्या करने के बाद सबूत छिपाने के आरोप में दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने दोनों पर सात-सात हजार रूपये का अर्थदण्ड भी लगाया है। इस घटना को लेकर मौहल्ला लद्दावाला में मृतक शाहनवाज के परिजनों ने कोर्ट के फैसले पर संतोष जताया है।

Share it
Top