अवैध गन्ना सट्टा सर्वेक्षण को लेकर धरना-प्रदर्शन

अवैध गन्ना सट्टा सर्वेक्षण को लेकर धरना-प्रदर्शन

मोरना। मोरना मिल में अवैध रूप से गन्ना सट्टा सर्वेक्षण कराने और डाटा बनाकर कम्प्यूटर में फीड किये जाने के विरोध में मोरना क्षेत्र के सैकडों किसानों परिसर में धरना प्रदर्शन कर पंचायत का आयोजन किया। जिसमें किसानों ने हंगामा करते हुए मिल प्रबन्धक प्रबुद्ध चौबे को बन्धक बनाकर घण्टों बैठाये रखा। निष्पक्ष कार्य करने और अवैध गन्ना सट्टा सर्वेक्षण नहीं कराने व मिल को 25 अक्टूबर तक चलाने के आश्वासन के बाद किसानों का गुस्सा शांत हुआ। इस मौके पर किसानों ने समस्याओं का ज्ञापन देकर उनकी निस्तारीकरण करने की मांग की।

दि गंगा किसान सहकारी चीनी मिल मोरना में विवादित क्षेत्र के बिना सूचना दिये गन्ना सट्टे का सर्वेक्षण कराये जाने की सूचना मिलने पर मोरना क्षेत्र के किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त हो गया। जिसके चलते कस्बा भोकरहेडी, छछरौली, वजीराबाद, मोरना, ककराला, करहेडा, भोपा, तिस्सा, धीराहेडी, बेलडा, माजरा, निरगाजनी, रहमतपुर, गडवाडा, कादीपुर, बेहडा थू्र, सिकंदरपुर, बेहड़ा सादात, चौरावाला, किशनपुर मलपुरा, अथांई आदि के सैकडों किसानों ने मिल परिसर में आकर मिल प्रबंधन के विरूद्ध जोरदार नारेबाजी करते हुए मिल प्रशासन पर अवैध रूप से विवादित गन्ना सट्टे का सर्वेक्षण कराने का आरोप लगाते हुए हंगामा खडा कर दिया। किसानों का नेतृत्व करते हुए रामपाल आर्य ने कहा कि मोरना मिल गेट पर उसकी पेराई क्षमता से कहीं अधिक भार बना हुआ है। कुछ लोग अधिकारियों और मंत्रियों को भ्रमित कर गन्ना सप्लाई सट्टा को मोरना मिल में अवैध रूप से जोडने के लिए मिल प्रबन्धन पर दबाव बनाकर जबरदस्ती कार्य कराने पर आमादा है। जिला बिजनौर गंगा खादर के रक्बे के गन्ने को मोरना मिल में किसी भी सूरत में तोलने नहीं दिया जायेगा। इसके लिए मोरना क्षेत्र के किसान किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं। जबकि उनके गन्ना सट्टे को खाईखेडी मिल से जोडा गया है। गन्ना तोल कराने के लिए सैंटरों का आबंटन भी किया जा चुका है। इस मौके पर पूर्व चेयरमैन कैप्टन ज्ञानेंद्र, राजेश कुमार, गुलबीर राठी, धीरसिंह डायरेक्टर, बाबूराम राठी, मनोज कुमार, उदयवीर सिंह, नरेन्द्र बालियान, चंद्रवीर मास्टर, प्रमोद सिंह, फोंदी, ब्रजवीर सिंह डायरेक्टर, श्यामवीर सिंह, विमल, सोरण सिंह, तरूण सहरावत, रमन त्यागी, ओमकार सिह, संजू चौधरी, बाबू खाँ डायरेक्टर, रवि राणा, वकील, सोपाल सिंह, राजपाल राठी, प्रधान धीरज, रजत डायरेक्टर आदि सैकडों किसान मौके पर उपस्थित रहे।

Share it
Top