डीएम ने किया 'सघन पल्स पोलियो अभियान' का शुभारम्भ

डीएम ने किया सघन पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ

मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने आज जिला चिकित्सालय में फीता काटकर व बच्चों केा पोलियो ड्रॉप पिलाकर सघन पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि अभिभावकगण 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो बूथ पर लाये और पोलियो प्रतिरक्षण हेतु अपने बच्चों को पोलियो ड्रॉप अवश्य पिलवायें। उन्होंने कहा कि माता-पिता का दायित्व है कि वे अपने बच्चों को पोलियो बूथ पर अवश्य लेकर आये और बूथ दिवस पर पोलियों ड्रॉप पिलवाये। उन्होंने कहा कि कुछ लोग किसी भ्रम वश अपने बच्चों को पोलियो ड्रॉप नहीं पिलवाते। उन्होंने कहा कि ऐसे परिवारों की काउंसिलिंग करायी जाये और उनका भ्रम दूर किया जाये। उन्होंने कहा कि यद्यपि पोलियो का एक भी रोगी भारत में नहीं है, किन्तु पोलियो की सम्भावनाओं को समूल नष्ट करने के लिए हर बार अपने बच्चों को पोलियों बूथ पर लाये। उन्होंने कहा कि एक भी बच्चा छूटेगा, तो सुरक्षा चक्र टूटेगा।

जिलाधिकारी राजीव शर्मा एवं आकांक्षा समिति की अध्यक्षा/जिलाधिकारी की धर्मपत्नी सुधा शर्मा ने आज नन्हे-मुन्ने बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाकर पोलियो अभियान का शुभारम्भ किया। जिलाधिकारी ने कहा कि अभियान से जुडे अधिकाररियों/कर्मचारियों को पूर्ण मनोबल के साथ अपने कर्तव्यों का निवर्हन करें, ताकि पांच वर्ष तक के अधिक से अधिक बच्चे बूथ पर पोलियों की दवा पी सके। उन्होंने कहा कि आप सभी बूथ दिवस पर पूर्ण मनोबल व उत्साह के साथ कार्य करें। उन्होंने कहा कि बुलावा टोली/आशा/आंगनवाडी के माध्यम से बच्चों को बूथ पर बुलवाये और उनके सहयोग को हम पोलियो को सम्भावनाओं को जड से समाप्त करें। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद मुजफ्फरनगर में 0 से 5 वर्ष के बच्चों का लक्ष्य 527882 है, जिसमें आज कुल 1461 पोलियों बूथों पर पोलियो से बचाव की खुराक पिलायी जायेगी। इस दौरान जो पोलियो की दवा पीने से वंचित रह जायेंगे, उनके लिए घर-घर जाकर 1039 टीमें पोलियों की दो बूंद पिलायेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि आपका थोडा सा प्रयास बच्चों को हमेशा के लिए विकलांग बना देने वाली पोलियो बीमारी से बचा सकता है। जिलाधिकारी ने कहा कि आज बूथ दिवस पर जो बच्चे नहीं आ पाये, उन्हेें डोर-टू-डोर पोलियो ड्रॉप पिलायी जायेगी। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में अधिकारियों की टीम गठित कर सघन रूप से भ्रमण कर पोलियो बूथों पर पिलाई जा रही पोलियो खुराक की गुणवत्ता एवं पर्यवेक्षण का कार्य भी किया जा रहा है। जिलाधिकारी कहा कि शत प्रतिशत बच्चों को पल्स पोलियो वैक्सीन दी जाये। उन्होंने कहा कि डीपीओ व एमओआईसी उन स्थानों/बस्तियों में जाये जहां पोलियो खुराक को लेकर किसी प्रकार का भ्रम है, ऐसे माता-पिता की काउंसीलिंग करें। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए नोडल अधिकारी भी लगाये गये है। उन्होंने कहा कि एमओआईसी की ड्यूटी होगी कि नोडल अधिकारियो को फोन कर बताये कि सैक्टर अधिकारी की ड्यूटी किस क्षेत्र में है। उन्होंने कहा कि पोलियो ड्रोप हर बार पिलवाया जाना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि कोई भी बच्चा ऐसा न रहे, जिसे पोलियो ड्रॉप न पिलाई जा सके। इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (प्रतिरक्षण) डा. शरण सिंह, मुख्य चिकित्सा अधीक्षिका, जिला महिला चिकित्सालय डा. अमृता भाम्बे, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एसके अग्रवाल, जिला कार्यक्रम प्रबंधक हरीप्रसाद एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण आदि उपस्थित रहे।

Share it
Share it
Share it
Top