जर्जर दीवार गिरने से बालक की दर्दनाक मौत...मां के साथ बाजार से सामान लेने के बाद वापस लौट रहा था मासूम अरमान

जानसठ। कस्बा जानसठ के मोहल्ला बेरियान में जर्जर हालत में खडी दीवार गिरने से बच्चे की दर्दनाक मौत पर परिजनों ने हंगामा किया। आर्थिक सहायता मिलने के आश्वासन पर मामला शांत हुआ।

कस्बा जानसठ के मोहल्ला जन्नताबाद का अरमान 12 वर्षीय पुत्र अकील अहमद अपनी मां रिजवाना के साथ बाजार से सामान लेने के बाद अपने घर आ रहा था। जैसे ही वह मूला वाला कुआं के निकट मोहल्ला वरियान में पहुंचा, तभी जर्जर हालत में खडी हुई एक दीवार अचानक धड़ाम से नीचे गिर गई, जिसमें अरमान गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को सीएचसी जानसठ पहुंचाया गया, जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर पुलिस क्षेत्राधिकारी एसकेएस प्रताप सिंह, तहसीलदार पुष्कर नाथ चौधरी ने मौके पर पहुंचकर घटना का जायजा लिया। अरमान के परिजनों ने मौत की सूचना पर हंगामा काटना शुरु कर दिया। स्थिति को देखते हुए तहसीलदार पुष्कर नाथ चौधरी ने आपदा विभाग से बच्चे के परिजनों को 4 लाख की राशि देने की घोषणा की। उसके बाद कहीं जाकर मामला शांत हुआ तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया। प्रशासन की अच्छी व्यवस्था को देखते हुए तुरंत बच्चे के पिता अकील अहमद को नायब तहसीलदार इंद्रदेव शर्मा ने 4 लाख रुपये का चौक बच्चे के घर पर जा कर दे दिया। जानसठ नगरवासियों ने प्रशासन की भूरी-भूरी प्रशंसा की है। मृतक का शव कस्बे में पोस्टमार्टम होकर आया भी नहीं था कि उसके परिजनों को चैक घर पर दे दिया गया। इस दौरान राजस्व निरीक्षक शमशाद अली, हल्का लेखपाल इंद्रेश गुप्ता, डॉक्टर आबिद हुसैन आदि मौजूद रहे।

Share it
Top