अम्बेडकर को अपमानित करने पर दलितों में रोष...डीएम कार्यालय का घेराव कर किया प्रदर्शन, भारी फोर्स रहा तैनात, ज्ञापन सौंपा

अम्बेडकर को अपमानित करने पर दलितों में रोष...डीएम कार्यालय का घेराव कर किया प्रदर्शन, भारी फोर्स रहा तैनात, ज्ञापन सौंपा

मुजफ्फरनगर। नई दिल्ली में स्वर्ण जाति के लोगों के द्वारा प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर डा. भीमराव अम्बेडकर को अपशब्द कहे जाने पर दलितों में शनिवार को भारी रोष नजर आया। सैंकड़ों की संख्या में कलेक्ट्रेट पहुंचे दलितों ने डीएम कार्यालय का घेराव कर प्रदर्शन किया और आरोपियों पर कार्यवाही की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा। इस दौरान कचहरी में भारी पुलिस बल तैनात नजर आया।

शनिवार को दलित समाज के सैंकड़ों लोगों ने दलितों पर हो रहे अत्याचार और हिंसक हमलों के साथ ही डा. भीमराव अम्बेडकर को अपमानित करने की घटनाओं को लेकर डीएम कार्यालय पर पहुंचकर प्रदर्शन किया। दलितों की ओर से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया। इसमें कहा कि दिल्ली के जन्तर मंतर पर स्वर्ण जाति के लोगों ने भारतीय संविधान की प्रतियों को जलाकर डा. भीमराव को अपशब्द कहे हैं। ये देशद्रोह की श्रेणी में आता है। प्रदर्शनकारियों ने ज्ञापन में कहा कि इस घटना से एससीएसटी, ओबीसी और माइनारिटी वर्ग के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची है। इस प्रकरण में आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है। इसके अलावा मेरठ के गांव कपसाड में दलितों को स्वर्ण जाति के लोगों के द्वारा बंधक बनाकर उत्पीड़न करने के आरोप लगाये गये हैं। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि दलितों की बहू बेटियों की बेइज्जती की जा रही है। पुलिस भी दबंगों को ही संरक्षण दे रही है। कांवड मेले के दौरान मेरठ में ठाकुरों के द्वारा एक दलित युवक की पीटकर हत्या कर दिये जाने के मामले में भी दलित प्रदर्शनकारियों ने रोष जताते हुए दोषियों पर तत्काल सख्त कार्यवाही करने की मांग की है। उन्होंने मृतक युवक के परिवार से सरकारी नौकरी और आर्थिक सहायता देने की मांग की है। दलितों के प्रदर्शन को देखते हुए कचहरी में भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया था।

प्रदर्शन के दौरान मुख्य रूप से दिनशे कुमार एडवोकेट, कर्मवीर सिंह, अमित पाल, रोहित, कपिल, विजय सिंह, सन्नी, विक्की सहित सैंकड़ों प्रदर्शनकारी मौजूद रहे।

Share it
Share it
Share it
Top