मुजफ्फरनगर: खनन माफियाओं पर कसा पुलिस ने शिकंजा...गंगनहर पर रेत निकालते मजदूरों को भैंसा-बुग्गी समेत कोतवाली लाया गया

मुजफ्फरनगर: खनन माफियाओं पर कसा पुलिस ने  शिकंजा...गंगनहर पर रेत निकालते मजदूरों को भैंसा-बुग्गी समेत कोतवाली लाया गया

खतौली। दीपावली पर बन्द हुई गंगनहर से रेत का खनन कर रहे छः भैंसा व घोड़ा-बुग्गी चालकों को कोतवाली पुलिस ने खनन अधिनियम की धाराओं में निरुद्ध कर जेल रवाना किया है। दूसरी और चर्चा है कि भाकियू नेताओं के दबाव में पुलिस ने बड़े स्तर पर खनन कर रहे कुछ ग्रामीणों को छोड़कर केवल मजदूर पार्टी को जेल भेजकर अपने कर्तव्य की इतिश्री की है। बुधवार को तडके तडक एसडीएम कन्हैई सिंह, सीओ राजीव कुमार, कोतवाल पीपी सिंह व तहसीलदार अमित कुमार द्वारा गंगनहर पर छापामार कार्यवाही किये जाने से रेत खनन में लगे माफियाओं में हडकम्प मच गया। बड़ी संख्या में रेत खनन कर रहे लोग अपने साधन लेकर मौके से फरार हो गये। घेराबंदी करके पुलिस ने आधा दर्जन भैंसा व घोडा बुग्गी चालकों को हिरासत में लेकर थाने पहुंचा दिया। इस दौरान मौके पर आये भाकियू जिलाध्यक्ष राजू अहलावत की पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के साथ तीखी नोकझोंक हुई। चर्चा है कि झडप के बाद पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के दबाव में आने पर भाकियू जिलाध्यक्ष राजू अहलावत खनन में लगे कुछ ग्रामीणों को पुलिस से छुडाकर अपने साथ ले गये। मेरठ खण्ड गंगनहर के सींचपाल अनिल कुमार की तहरीर पर पुलिस ने अवैध खनन कर रहे अमर कुमार पुत्र रामशरण प्रजापति, पवन पुत्र नत्थन प्रजापति निवासी रायपुर नंगली, हाशिम पुत्र बन्दा, साजिद पुत्र हाशिम नावला, भालू पुत्र विरेन्द्र धीवर, सतेन्द्र पुत्र ओमप्रकाश धीवर निवासी रायपुर नंगली को खनन अधिनियम की धारा 4/21, 431, 379,411 में निरुद्ध कर जेल भेजा है। उल्लेखनीय है कि दीपावली के आसपास गंगनहर के बन्द होने पर खनन माफिया पुलिस व सिंचाई विभाग से मिलीभगत कर रेत पर चील कौव्वो की तरह टूट कर बड़ी मात्रा में रेत का स्टाक करके लाखों के वारे-न्यारे करते है। इस वर्ष शासन के सख्त आदेश होने पर पुलिस प्रशासनिक अधिकारी ने बीते दो दिनों से खनन माफियाओं की रेल बना रखी है। दूसरी और चर्चा है कि बड़े खनन माफिया छापे की सूचना लीक होने के चलते पहले ही मौके से खिसक चुके थे। कुछ ग्रामीणों को भाकियू जिलाध्यक्ष राजू अहलावत अपने कोटे से छुड़ाकर ले गये। बाकी बची मजदूर पार्टी को पुलिस ने जेल भेजकर अपनी पीठ थपथपा ली।

Share it
Top