वृद्ध महिला का मकान गिरा, बाल-बाल बची

मुजफ्फरनगर। पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही तेज बारिश ने लोगों को गर्मी से तो राहत जरूर दी हैं, लेकिन लगातार हो रही तेज बारिश से लोगों का कापफी नुकसान भी हुआ हैं। ताजा मामला रामलीला टिल्ला का हैं, जहां एक 65 वर्ष की वृद्ध गरीब महिला सरोज और उसका एक बेटा नानू पिछले 40 सालों से एक कच्चे मकान में रह रहे थे। आज अचानक जैसे ही सरोज अपने मकान में सामान लेने के लिए जाने लगी, तो अचानक ही मकान की पूरी छत नीचे जा गिरी, लेकिन गनीमत रही कि छत गिरे से पहले ही वृद्ध महिला मकान से बाहर आ गयी थी। सरोज गरीब होने के साथ साथ असहाय भी हैं और उसका बेटा मेंहनत मजदूरी कर अपना और अपनी माँ का पालन पोषण करता हैं, लेकिन अचानक ही इतना बढ़ा नुकसान होने से परिवार पर मुसीबत का पहाड़ टूट पडा हैं। दोनों मां-बेटे का सर छुपाने का एक ही आशियाना था। जो अब बारिश के कारण गिर गया हैं। वृद्ध महिला ने बताया कि प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई गयी योजना प्रधानमन्त्री आवास योजना का लाभ लेने के लिए 2 महीनों से अधिकारियों के चक्कर काट रही हैं, लेकिन आज तक सिर्फ ध्ूल और ध्क्कों के अलावा कुछ हाथ नहीं लगा। अब देखना होगा कि इस गरीब वृद्ध महिला के लिए सरकार जागती हैं या महिला ऐसे ही पूरी जिंदगी अधिकारियों के चक्कर कटती रहेगी।

Share it
Top