रोहतक फैसले को लेकर जीआरपी-आरपीएफ अलर्ट मोड पर

रोहतक फैसले को लेकर जीआरपी-आरपीएफ अलर्ट मोड पर

मुजफ्फरनगर। एक ओर सोमवार को जहां सभी की निगाहें रोहतक की कारागार पर लगी थीं। वहीं दूसरी ओर मामले की गंभीरता व सुरक्षा की दृष्टि से जीआरपी व आरपीएफ पूरी तरह से एक्टिव मोड पर नजर आये। जिसके चलते मुजफ्फरनगर के रेलवे स्टेशन परिसर सहित ट्रेनों में सघन चैकिंग अभियान संयुक्त रूप से चलाया गया। चैकिंग अभियान में हर संदिग्ध सहित यात्रियों के सामान की तलाशी ली गयी। इस संयुक्त चैकिंग अभियान में लगभग डेढ़ दर्जन के आसपास बेटिकट भी पकड़े गये। पूरे स्टेशन परिसर को बारिकी से छाना गया। इसके साथ ही दोनों ;जीआरपी-आरपीएपफद्ध के द्वारा यात्रियों से भी सहयोग की अपील की गयी। उनसे कहा गया कि यदि कोई संदिग्ध नजर आये, तो उसकी सूचना तुरंत दी जाए।
पंचकुला की 25 अगस्त की घटना के बाद से ही जनपद मुजफ्फरनगर में एक प्रकार का अघोषित अलर्ट सा जारी किया गया था। जनपद में गुरूमीत राम रहीम के हजारों अनुयायी होने के चलते खुपिफया विभाग सहित पुलिस, जीआरपी व आरपीएफ के द्वारा मामले पर बारिकी से नजर रखी जा रही थी। इसी मामले में सोमवार को रोहतक की जिला कारागार मंे सीबीआई कोर्ट के न्यायाधीश के द्वारा सजा सुनाए जाने को लेकर किसी भी अप्रिय घटना को लेकर जीआरपी व आरपीएफ पूरी तरह से एक्टिव मोड अर्थात सक्रिय नजर आये। जीआरपी (राजकीय रेलवे पुलिस) व आरपीएफ (रेलवे सुरक्षा बल) की ओर से मुजफ्फरनगर रेलवे स्टेशन पर सघन चैकिंग अभियान चलाया गया। जीआरपी की ओर से कमान थाना प्रभारी किशन अवतार ने संभाली, वहीं दूसरी ओर आरपीएफ की कमान एएसआई भीम सिंह मीणा द्वारा संभाली गयी। चैकिंग की शुरूआत प्लेटफार्म नंबर एक से की गयी। इस दौरान टिकट निरीक्षक मनीष कुमार को भी लिया गया। इस दौरान प्रतीक्षालय, प्लेटफार्म व टिकटघर आदि सभी स्थानों को पूरी सघनता के साथ खंगाला गया। स्टेशन परिसर में बैठे यात्रियों की सामान सहित तलाशी ली गयी। इसके अलावा आने जाने वाली सभी ट्रेनों को भी चैक किया गया। ट्रेन में चैकिंग के दौरान यात्रियों के सामानों सहित हर संदिग्ध की सघनता के साथ तलाशी ली गयी। इस दौरान अनेक बेटिकट यात्राी भी पकड़े गये। जो कि लगभग डेढ़ दर्जन के आसपास रहे। सभी को आरपीएफ थाने ले जाया गया। जहंा पर उनके जुर्माना वसूला गया। इस बारे में जीआरपी प्रभारी किशन अवतार का कहना था कि यह एक प्रतिदिन होने वाली चैकिंग का ही हिस्सा था, लेकिन पंचकुला की घटना व रोहतक के सजा के फैसले को देखते हुए एहतियातन सतर्कता बरती गयी। उनका कहना था कि हर संदिग्ध पर बारिकी से नजर रखी जा रही है। चैकिंग के दौरान यात्रियांे सहयोग की भी अपील की गयी है। उनसे कहा गया है कि यदि यात्रा के दौरान किसी प्रकार की लावारिस वस्तु या संदिग्ध व्यक्ति मिले, तो इसकी सूचना तुरंत ही जीआरपी थाना, आरपीएफ थाना, स्टेशन अधीक्षक, टिकट निरीक्षक, यदि ट्रेन में हैं, तो ड्यूटी पर तैनात जीआरपी व आरपीएफ के जवानों सहित गार्ड, टिकट निरीक्षक आदि को दे सकते हैं।

Share it
Top