रेलवे ट्रैक पर पंचकुला की आग का कब्जा...दिल्ली-अमृतसर मार्ग की अधिकांश ट्रेनें अनिश्चितकाल को रद्द, आरक्षण रद्द कराने में लगे यात्री

मुजफ्फरनगर। शु़क्रवार को पंचकुला की हिंसा के बाद ट्रेनों के पहिये ट्रैक पर ही थम गये, जो कि अनिश्चितता लिये हुए हैं। जिसका खामियाजा यात्रियों को उठाना पड़ रहा है। यात्री अपनी यात्रा को लेकर परेशान नजर आ रहे हैं। कुछ ने तो अपनी यात्रा का कार्यक्रम ही स्थगित कर दिया। अपना आरक्षण रद्द कराने को लेकर मुजफ्फरनगर के आरक्षण केंद्र पर लोगों की भीड़ नजर आयी। वहीं दूसरी ओर स्टेशन पर यात्री अपनी ट्रेनों को लेकर पूछताछ केंद्र पर जानकारी करते हुए नजर आये। स्टेशन पर वहीं यात्राी रूके रहे, जिनकी ट्रेन आने की घोषणा की गयी। वहीं ट्रेनों के बारे मंे यात्रियों को जानकारी देने को लेकर पूछताछ केंद्र पर बैठे रेलवे के कर्मचारी असमंजस की स्थिति में नजर आ रहे हैं, क्योंकि उन्हें खुद इसके बारे में जानकारी नहीं मिल पा रही है।
मामले की गंभीरता को देखते हुए व किसी प्रकार का रिस्क न लेते हुए रेलवे की ओर से दिल्ली-सहारनपुर-अमृतसर मार्ग की सभी पैसंेजर सहित एक्सप्रेस लगभग डेढ़ दर्जन ट्रेनों को अनिश्चितकाल के लिए रद्द कर दिया गया है। उन्हें सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ आदि बड़े स्टेशनों पर रोका गया है। जिनका 28 तारीख को आने वाले सजा के फैसले को देखते हुए अभी संचालित हो पाना मुश्किल नजर आ रहा है।
शनिवार को रेलवे की ओर से और कड़ा कदम उठाते हुए कुछ और ट्रेनों को रद्द कर दिया गया। इस बारे में रेलवे के सूत्रों का कहना था कि विभाग मामले की गंभीरता को देखते हुए किसी प्रकार का रिस्क यात्रियों के जीवन को लेकर नहीं लेना चाहता। जिसके चलते जहां शुक्रवार को कुछ ट्रेनों को, जो कि पंजाब व हरियाणा को जाती हैं, रद्द किया गया था। वहीं दूसरी ओर फैसला आने के बाद भड़की हिंसा के बाद के हालात को देखते हुए दिल्ली-सहारनपुर-अमृतसर मार्ग पर संचालित होने वाली सभी एक्सप्रेस ट्रेनों सहित पैसंेजर ट्रेनों को भी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। इनका संचालन कब तक प्रारंभ किया जाएगा, इसको लेकर कोई भी कुछ कहने को तैयार नहीं है। जब इस बारे में मुजफ्फरनगर के स्टेशन अधीक्षक विपिन त्यागी से पूछा गया, तो उनका कहना था कि इस बारे में कुछ भी बता पाना मुश्किल है, क्यांेकि उपर से ही इस बारे में किसी प्रकार के आदेश नहीं आये हैं। जिसके चलते शुक्रवार को सुपर (14681) को मुजफ्फरनगर स्टेशन पर ही समाप्त कर दिया गया था। इसके साथ ही मेरठ में समाप्त की गयी शालीमार (146450 को भी मेरठ से खाली करके लाया गया था। इसे शनिवार को वाल्मीकि बस्ती के सामने स्थित माल उतरने वाली लाइन पर खड़ा किया गया है तथा सुपर को प्लेटफार्म नंबर तीन की लूप लाइन पर रखा गया है। ट्रेनों के बारे में जानकारी लेने को लेकर लोगों की पूछताछ कंेद्र पर भारी भीड़ नजर आयी। पूछताछ केंद्र पर बैठे रेलवे कर्मचारियों के सामने दोहरी समस्या आन खड़ी हुई है। एक तो उनका ट्रेनों के बारे में सही जानकारी देने वाला सिस्टम दो सप्ताह से खराब पड़ा है, दूसरे उफपर से ही ट्रेनों को लेकर किसी प्रकार की संचालन को लेकर जानकारी न मिलने के चलते वह परेशान नजर आ रहे हैं। इसके साथ ही आरक्षण केंद्र पर भी लोगों की भीड़ नजर आ रही है। वह अपना आरक्षण समाप्त कराने को लाइन में लगे हैं। लोगों को कहना था कि अभी तो 28 तारीख का इंतजार करना होगा, क्यांेकि इस तारीख को सजा का ऐलान किया जाएगा। क्या पता उस समय क्या हालात होें। आरक्षण समाप्त कराना ही बेहतर है। शनिवार को जिन ट्रेनों को रद्द किया गया है। उनमें गाड़ी संख्या 12903-12304 गोल्डन टैम्पिल मेल, गाड़ी संख्या 18237-18238 छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, गाड़ी संख्या 04401 दिल्ली-उधमपुर एक्सप्रेस, गाड़ी संख्या 14521 दिल्ली-अंबाला एक्सप्रेस (इंटरसिटी), गाड़ी संख्या 14522 अंबाला-दिल्ली एक्सप्रेस, गाड़ी संख्या 14681-14682 सुपर, गाड़ी संख्या 14645-14646 शालीमार, गाड़ी संख्या 54541 मेरठ-अंबाला पैसंेजर, गाड़ी संख्या 64562 अंबाला-दिल्ली पैसंेजर, गाड़ी संख्या 54539 निजामुद्दीन-अंबाला पैसेंजर, गाड़ी संख्या 19325-19326 इंदौर-अमृतसर एक्सप्रेस-अमृतसर-इंदौर एक्सप्रेस, गाड़ी संख्या 54304 कालका पैसंेजर शामिल हैं। गाड़ी संख्या 64557 दिल्ली-सहारनपुर पैसंेजर का संचालन केवल देवबंद तक ही किया गया।

Share it
Top