आज लखनऊ कूच करेंगे शिक्षामित्र...बीएसए कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन के बाद सिटी मजिस्ट्रेट को दिया ज्ञापन

आज लखनऊ कूच करेंगे शिक्षामित्र...बीएसए कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन के बाद सिटी मजिस्ट्रेट को दिया ज्ञापन

मुजफ्फरनगर। शनिवार को एक बार फिर से शिक्षामित्रों द्वारा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन किया गया। धरना-प्रदर्शन करने के बाद शिक्षामित्रों द्वारा वहां से कलेक्ट्रेट के लिए प्रस्थान करते हुए महावीर चौक पर एक बार फिर से मानव श्रंखला बनायी गयी। उसके बाद पौने तीन बजे कलेक्ट्रेट पहुंच कर सिटी मजिस्ट्रेट को प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम एक अपनी मांगों संबंधी एक ज्ञापन दिया गया। सभी ने एक मत से निर्णय लिया कि सभी कल (आज) लखनऊ में 21 अगस्त को होने वाली पूरे प्रदेश के शिक्षामित्रों की सभा में शिरकत करेंगे।
शनिवार को फिर से शिक्षामित्रों ने अपनी आवाज बुलंद करते हुए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन किया। उसके बाद सभी वहां से प्रस्थान करते हुए महावीर चौक पहुंचे। जहां पर एक बार पिफर से शिक्षामित्रों के द्वारा मानव श्रंखला बनायी गयी। जिसके उपरांत शिक्षामित्र शांति मार्च निकालते हुए कलेक्ट्रेट में पहुंचे। जहां पर प्रदर्शन करते हुए अपनी मांग संबंधी एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट वैभव मिश्रा को दिया। इस मौके पर शिक्षामित्र गीता बालियान का कहना था कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जाती, उनका आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि कल (आज) जनपद के लगभग 1440 शिक्षामित्र, जिसमें से 600 जो समायोजित हो गये थे व 633 के लगभग जो समायोजित नहीं को सके थे, सभी प्रदेश की राजधनी लखनऊ में होने वाली पूरे प्रदेश के शिक्षामित्रों की सभा में शिरकत करेंगे। दिये गये ज्ञानप में शिक्षामित्रों ने कहा कि प्रदेश के एक लाख 70 हजार शिक्षामित्रों व उनके परिवारों का भविष्य सुरक्षित करने को लेकर उन्हें समायोजित किया जाए। दिये गये ज्ञापन में कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा सहायक अध्यापक पद पर समायोजित किये गये शिक्षामित्रों का समायोजन निरस्त कर दिया गया था। जिससे शिक्षामित्रों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। वह 16 सालों से लगातार प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षण कार्य कर रहे शिक्षामित्रों से आगे अधिक उम्र हो जाने के कारण अब रोजगार जैसा और कोई विकल्प नहीं बचा है। समस्त शिक्षामित्र स्नातक व बीटीसी योग्यताधरी हैं। उन्होंने मांग की कि 25 जुलाई के अनुपालन में तात्कालिक रूप से सरकार द्वारा नया अध्यादेश लाकर नया कानून बनाया जाए, जिससे एक लाख 70 हजार सहायक अध्यापक के पद पर बने रहे। नया अध्यादेश लाये जाने तक प्रदेश में समायोजित शिक्षकों को सहायक अध्यापक के पद के बराकर समान कार्य समान वेतन दिया जाए। ज्ञापन देने वालों में गीता बालियान, चौ. खुर्शीद अली, संजीव बालियान, रोहित कौशिक, प्रमोद त्यागी, सतीश बालियान, कुलदीप शर्मा, प्रतिभा,सरिता शर्मा, इंद्रपाल सिंह, राकेश, चंद्रपाल, सुमन, अर्चना, बेबी, ब्रजपाल सिंह, पंजाब सिंह, एकता रानी, सोनू पंवार, गजेंद्र कुमार, इकलेश कुमार, नाजिश, हसीन बानो, पुष्पा, राखी, एकता, नीलम रानी, विभूति आदि शामिल रहे।

Share it
Top