अयोध्या विवाद पर आये फैसले से रहा साम्प्रदायिक सौहार्द कायम ... सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की सभी वर्गों ने की सराहना, कहा-अब देश का विकास के रास्ते पर आगे बढऩा चाहिए

अयोध्या विवाद पर आये फैसले से रहा साम्प्रदायिक सौहार्द कायम ... सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की सभी वर्गों ने की सराहना, कहा-अब देश का विकास के रास्ते पर आगे बढऩा चाहिए

मुजफ्फरनगर। लगभग 70 वर्षों तक चली कानूनी लड़ाई व 40 दिन तक लगातार मैराथन सुनवाई के बाद अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का बहुप्रतीक्षित फैसला आ जाने के बाद जनपद सहित पूरे देश व प्रदेश में साम्प्रदायिक सौहार्द कायम रहने से हर किसी ने राहत की सांस ली है। सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले की सभी वर्गों ने सराहना की है और अब देश के विकास में एकजुट होकर आगे बढऩे की बात कहीं है। इस निर्णय का जनपद की जनता ने तहेदिल से स्वागत किया है और इस संबंध में सभी ने अपनी-अपनी राय व्यक्त की।

पैगाम-ए-इंसानियत के अध्यक्ष आसिफ राही का कहना था कि अयोध्या की ध्रती ने मंदिर और मस्जिद दोनों को अपने आंचल में जगह दी है, सरयू ने भी अपने जल को आम कर दिया, चाहे पूजा करो या वजू वो सबके लिए है। संविधन सबसे ऊपर है और उसका सम्मान हमारी जिम्मेदारी है। अब हमें इन सब बातों को भूलकर आगे बढऩा चाहिए। अदम गोंडवी ने कहा है कि...हिन्दू या मुस्लिम के अहसासात को मत छेडिये, अपनी कुर्सी के लिए जज्बात को मच छेडिय़े, गर गलतियां बाबर की थी, जुम्मन का घर फिर क्यों जले, ऐसे नाजुक वक्त में हालात को मत छेडिय़े, छेडिय़े इक जंग, मिलजुलकर गरीबी के खिलाफ दोस्त मेरे मजहबी नग्मात को मत छेडिय़े।

अनिल पंवार का मौहल्ला आर्यपुरी में मैडिकल स्टोर है। उन्होंने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि लम्बे समय से चला आ रहा विवाद समाप्त हो गया है और अब सभी को आपस में मिलजुल कर रहने से लाभ होगा तथा देश दुनिया में तरक्की करेगा। विवाद से किसी को कुछ नहीं मिलता, इससे देश की जनता का नुकसान अलग होता है।

समाजसेवी असदजमा एडवोकेट ने माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले का खुले दिल से स्वागत किया। उन्होंने कहा कि अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का जो ऐतिहासिक फैसला आया है, यह फैसला हर समाज के हर वर्ग को मान्य है। यह फैसला गणतंत्र मूल्यों के लिए एक बहुत बडी मिसाल है। इस फैसले मेें ना, तो किसी भी वर्ग की जीत है और न ही किसी भी वर्ग की हार है। सुप्रीम कोर्ट के इस ऐतिहासिक फैसले में हर सच्चे भारतीय की विजय है। गणतंत्र के इस महान देश के दुश्मनों की सबसे बडी हार भी इसी फैसले में दिखाई पड़ती है। सौहार्द को बिगाडऩे वालों के मुंह पर करारा तमाचा भी है। इस हिंदू-मुस्लिम एकता की मजबूती को और बल भी इसी फैसले पर बढता दिख रहा है।

ज्योतिषविद् पं. विष्णु शर्मा का कहना है कि अयोध्या विवाद पर देश की सर्वोच्च अदालत का निर्णय सर्वोपरि होता है, यह इस निर्णय ने दिखा दिया। देश की जनता के खून में गंगा-जमुना तहजीब का वास है। देश भाईचारे से चलता है। इस निर्णय का सभी स्वागत करते हैं। सालों से पड़े विवाद का अंत हुआ है। सभी धरम एक झंडे के नीचे आएंगे, तो देश खुद मजबूत होगा।

समाजसेवी स. सतनाम सिंह हंसपाल का कहना था कि सुप्रीम कोर्ट का यह निर्णय एक ऐतिहासिक निर्णय है। सभी को इसे मानना चाहिये और देश में अमन चैन कायम कर देश की तरक्की के लिये सोचना चाहिये। उनका कहना था कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय हमे स्वीकार है। हम सभी इसे मानेंगे।

टैक्स बार के अध्विक्ता नमन मित्तल का कहना है कि देश की सर्वोच्च अदालत ने एकदम सही निर्णय दिया है। उनका कहना है कि जो निर्णय कोर्ट ने दिया है वह हमें स्वीकार है, हम सभी को आपस में मिलकर रहना चाहिये और देश की तरक्की और खुशहाली के बारे में सोचना चाहिये।

वरिष्ठ भाजपा नेता व सरवट ग्राम प्रधानपति पं. श्रीभगवान शर्मा का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला देश व दुनिया के लिये यह एक महत्वपूर्ण निर्णय है। पिछले 70 सालों से इसके लिये प्रयास किये जा रहे थे। बहुत से लोगों के प्रयास व बलिदान के बाद यह पल आया है। सभी पक्षों को यह निर्णय स्वीकार करना चाहिये और शांति व्यवस्था कायम करने में प्रशासन का सहयोग करना चाहिये।

विश्व हिन्दू परिषद के नेता सचिन सिंघल का कहना है कि आज भारत देश निर्माण में एक कदम आगे बढ़ा है और हम भारतीय संविधन में अपना पूर्ण विश्वास रखते है। उच्चतम न्यायालय का अयोध्या में भगवान श्रीराम का मंदिर के पक्ष में व मुस्लिम समुदाय को 5 एकड जमीन देने का निष्पक्ष एवं पारदर्शी फैसले का हम स्वागत करते है। साथ ही जनपद की जनता का व प्रशासन का तहेदिल से आभार व्यक्त करते है।

सिविल बार एसोसिएशन के महासचिव बिजेन्द्र मलिक एडवोकेट का कहना है कि उच्चतम न्यायालय के सौहार्दपूर्ण निर्णय का हम स्वागत करते है। सुप्रीम कोर्ट का यह निर्णय सभी वर्गो के लिये सही है। हम सभी का कर्तव्य है उच्चतम न्यायालय द्वारा दिये गये फैसले का स्वागत करें और आपस में सौहार्द पूर्ण वातावरण बनाये रखें। उनका कहना था कि अयोध्या विवाद पर देश की सर्वोच्च अदालत ने जो निर्णय दिया है, उससे सभी पक्ष संतुष्ट है और तहे दिल से उसका स्वागत भी करते है।

भाजपा जिला मंत्री प्रवीण शर्मा का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय एकदम सही व स्वागत योग्य निर्णय है, जिसे हम सभी को मानना चाहिये। उनका कहना था कि देश की सर्वोच्च अदालत ने दशकों पुराने विवाद का अंत किया है।

राष्ट्रीय लोकदल के प.उ.प्र. प्रवक्ता अभिषेक चौध्री कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का यह एक अच्छा व ऐतिहासिक निर्णय है, जिसका जो अध्किार था, उसे देश ने दिया है। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर किसी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिये। सभी आपस में अमन-चेन कायम कर देश की तरक्की के लिये सोचें।

भाजपा किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश कोषाध्यक्ष मनोज पंवार ने कहा कि वह सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत करते है, जो भी हुआ अच्छा हुआ और अब आपस में मिलजुलकर एकता का संदेश दें। उनका कहना है कि कोर्ट ने अच्छा निर्णय दिया है। सभी इससे संतुष्ट है। यह गौरवशाली पल है। सभी इसका सम्मान करें।

Share it
Top