एसएसपी ने की जीरो ड्रग्स अभियान की शुरूआत .... मुजफ्फरनगर में नशे की समस्या को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए पुलिस-पब्लिक मिलकर करेगी काम

मुजफ्फरनगर। जनपद मुजफ्फरनगर से नशे की समस्या को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए आज से एसएसपी अभिषेक यादव ने जीरो ड्रग्स अभियान की शुरूआत की। इस अभियान में पुलिस व पब्लिक मिलकर नशे की समस्या को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए काम करेगी और जनपद को ड्रग्स प्रफी किया जायेगा। एसएसपी ने आश्वस्त किया कि ड्रग्स सेवन/बिक्री सूचना देने वाले व्यक्ति का नाम गोपनीय रखा जायेगा और वह मोबाईल नम्बर 9690112112 या 112 पर सूचना पुलिस को दे सकता है। पुलिस लाईन में पत्रकारों से वार्ता करते हुए एसएसपी अभिषेक यादव ने कहा कि आज के समय में नशा बहुत तेजी से हमारे समाज में पफैल रहा है, यह न केवल हमारे आज को, बल्कि आने वाले कल को भी बर्बाद करने की क्षमता रखता है। विशेषतौर पर हमारी युवा पीढ़ी को, चाहे वह नशे की पुडिया हो या नशीले इंजेक्शन, ये युवा समाज को बहुत जल्दी अपनी गिरफ्त में ले लेते है। जनपद मुजफ्फरनगर में इस समस्या को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए एक नवम्बर से जीरो ड्रग्स अभियान की शुरूआत की गयी है। पुलिस विभाग के अन्य अभियानों से यह एकदम अलग है, क्योंकि पहली बार यह अभियान केवल पुलिस का नहीं, बल्कि मुजफ्फरनगर की जनता व पुलिस का संयुक्त अभियान है। इस अभियान को मुजफ्फरनगर के नागरिकों की सहायता से ही सफल बनाया जा सकता है। एसएसपी ने जनपदवासियों से आग्रह किया है कि यदि आप अपने आसपास किसी भी प्रकार के नशे/नशीले पदार्थ का सेवन व बिक्री होते देखते हैं या जानकारी पाते हैं, तो तत्काल मोबाईल नम्बर 9690112112 या 112 पर सूचना पुलिस को दे सकते है। एसएसपी ने आश्वस्त किया कि सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जायेगी व उस जानकारी के बाद कोई पूछताछ कभी भी नहीं की जायेगी। उन्होंने इतना जरूर कहा कि झूठी या रंजिशन सूचना देने वाले के खिलाफ कार्यवाही भी की जायेगी। उन्होंने बताया कि यह नम्बर 9690112112 जीरो ड्रग्स अभियान के लिए सुरक्षित रहेगा। इस पर केवल ड्रग्स/नशे की जानकारी नोट की जायेगी एवं उन पर कार्यवाही की जायेगी। सूचना कॉल करने अथवा व्हाट्सएप मैसेज के द्वारा भी दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि यदि आपके आसपास कोई व्यक्ति/युवा नशे का आदी है, तो उससे यह जरूर पूछे की उसको नशे का सामान कहां से मिलता है और वह कौन देते है। उन्होंने माता-पिता से भी बच्चों का ध्यान रखने का अनुरोध करते हुए कहा कि स्कूल/कॉलेज में पढऩे वाले बच्चों के अभिभावकों व शैक्षिक संस्थानों के अध्यापक/प्रबंध्न का दायित्व है कि यदि स्कूल/कॉलेज या घर पर कोई बच्चा नशे का आदी हो गया है, तो उससे पता करें कि उसे नशे करने का सामान कौन उपलब्ध् करा रहा है और अविलम्ब मुजफ्फरनगर पुलिस को सूचित करें। एसएसपी ने बताया कि उन्होंने सभी स्कूल/कॉलेजों के प्रबंधको को पत्र लिखकर ड्रग्स के बारे में सूचना देने को कहा है। उन्होंने कहा कि इस अभियान में पब्लिक के जुडऩे से जल्दी से जल्दी नशे के कारोबार पर अंकुश लग जायेगा। उन्होंने कहा कि ड्रग्स ऐसे बीमारी है, जिससे आने वाली पीढिय़ों का भविष्य पूर्णरूप से खराब हो सकता है। ये हमारा कर्तव्य ही नहीं, अपितु दायित्व भी है कि हम इस अपराध का जड़ से खात्मा कर अपने भविष्य को अंधकार की तरफ न बढने दें और हमें पूरी उम्मीद है कि जिले की जनता व पुलिस एकसाथ खडे होकर इस अपराध व इस बीमारी पर जोरदार प्रहार करेंगे। जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से पुलिस अफसरों की गाडिय़ों पर भी स्टीकर्स लगाये जा रहे है। मीडिया से भी इस अभियान में सहयोग की अपील की।

Share it
Top