पायनियर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ छात्रों-अभिभावकों ने खोला मोर्चा...डीएम से की बिना पफीस के परीक्षा से वंचित करने की शिकायत

पायनियर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ छात्रों-अभिभावकों ने खोला मोर्चा...डीएम से की बिना पफीस के परीक्षा से वंचित करने की शिकायत

मुजफ्फरनगर। गांव पचैंडाखुर्द में स्थित स्कूल पायनियर के छात्र अपने अभिभावकों के संग कलेक्ट्रेट पहुंचे। जहां पर उनके द्वारा पायनियर स्कूल प्रबंधन की कार्यप्रणाली पर सवालियां निशान लगाते हुए एक शिकायती पत्रा जिलाधिकारी को दिया गया। दिये गये शिकायती पत्र में कहा गया कि गांव के समीप पायनियर पब्लिक स्कूल स्थित है। जिसमें कक्षा एक से लेकर 12 तक छात्रों को अध्ययन कराया जाता है। गांव के बच्चे स्कूल की स्थापना होने के बाद से इसमें अध्ययनरत हैं। इस वर्ष स्कूल में अर्द्धवार्षिक परीक्षा 13 सितंबर से प्रारंभ हो चुकी है। छात्रों व अभिभावकों ने आरोप लगाते हुए कहा कि गांव के सात-आठ बच्चे, जिनकी आर्थिक स्थिति सही नहीं है, वह समय पर पफीस जमा नहीं कर पाये, जिसके कारण स्कूल प्रबंधन के द्वारा उन्हें अर्द्धवार्षिक परीक्षा से वंचित कर दिया गया। ग्रामवासियों के द्वारा स्कूल में कहा गया कि स्कूल प्रबंधन विलंब शुल्क के साथ पफीस जमा कर छात्रों की परीक्षा कराये, लेकिन इसके बावजूद भी स्कूल प्रबंधन के द्वारा उन्हें परीक्षा से वंचित कर दिया गया। उन्हें फीस जमा करने का एक दिन का भी समय नहीं दिया गया। अभिभावकों का आरोप है कि स्कूल में ऐसा कोई भी नंबर नहीं है। जिस पर वह अपने बच्चों से वार्ता कर सके। एक नंबर है, जो कि सात बजे प्रातः बंद करके दोपहर दो बजे खोला जाता है। अभिभावकों का कहना है कि बच्चे तनाव में आ गये हैं, वह कुछ भी नहीं खा पी रहे हैें। अभिभावकों ने डीएम से फीस जमा कर उन्हें अर्द्धवार्षिक परीक्षा में शामिल कराने की मांग की है। इस संबंध में जिलाधिकारी के द्वारा मामले को बीएसए के सुपुर्द कर दिया गया है। जिलाधिकारी से मिलने वालों में सानिया चौधरी, माही चौधरी, नंदनी, खुशी, ध्रुरू, सूरज व शिल्पा मलिक सहित उनके अभिभावक शामिल रहे।

Share it
Share it
Share it
Top