Read latest updates about "धर्म" - Page 4

  • साल में एक बार मात्र 24 घंटे के लिए खुलता है ये मंदिर

    मध्यप्रदेश के उज्जैन में स्थित भगवान नागचन्द्रेश्वर का मंदिर साल में एक ही दिन 24 घंटे के लिए खुलता है। इस बार ये मंदिर 14 अगस्त की मध्य रात्रि को खुला और 15 अगस्त को पूरे दिन खुला। देश में यह एक मात्र भगवान नागचंदेश्वर का मंदिर है जिसके पट नागपंचमी के एक दिन पहले 24 घंटे के लिए खोले जाते हैं। यह...

  • एक गोत्र में विवाह को वर्जित माना जाता है...जानिए क्यों..?

    हिंदू धर्म में विवाह से पहले वर और कन्या पक्ष के चार गोत्र मिलाए जाते हैं। अगर कोई एक गोत्र भी समान होता है तो ऐसे कन्या और वर का विवाह नहीं होता है। आपको बता दें कि एक गोत्र में विवाह को वर्जित माना जाता है, ये माना जाता है कि एक गोत्र में जन्में लड़की-लड़के एक दूसरे के भाई-बहन होते हैं और एक ही...

  • धर्म संस्कृति: पूर्वजों का प्रियपेय-सोमरस

    हर युग में सम्पन्न लोगों ने अपने लिये कोई न कोई पेय चुना है, ऐसा पेय जिस के पीने से स्फूर्ति, तृप्ति और ताजगी मिले और काम की थकावट मिटे। प्राचीन काल में देवो और आर्यों का पसंदीदा पेय सोमरस था। इसकी चर्चा प्राचीन ग्रथों में बार-बार हुई है। ऋग्वेद में इसका प्रयोग लगभग एक हज़ार बार हुआ है। सोम का...

  • पर्यटन/तीर्थस्थल: जहां सशरीर विराजित हैं मां विंध्यवासिनी

    विंध्य पर्वत पर विराजमान आदिशक्ति माता विन्ध्यवासिनी की महिमा अपरम्पार है। इनके गुणों का बखान देवताओं ने भी किया है। भक्तों का कल्याण करने के लिए सिद्धपीठ विंध्याचल में सशरीर विराजित माता विंध्यवासिनी का धाम मणिद्वीप के नाम से विख्यात है। मां के धाम में दर्शन-पूजन करने से भक्तों की सारी मनोकामनाएं...

  • तरक्की के सारे रास्ते बंद कर देते हैं घर के ये वास्तुदोष

    वास्तु शास्त्र में ऐसी बातें बताई गई हैं जिनका ध्यान रखें तो आपको नौकरी एवं व्यवसाय में उन्नति के साथ ही धन लाभ भी मिलता रहेगा। घर में रहने वाले लोगों का स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। वहीं अगर इन बातों का ध्यान न रखा जाए तो घर में धन वृद्धि रूक जाती है। खर्चे बढ़ जाते हैं और आमदनी के सभी रास्ते बंद हो...

  • पूजा के बाद बची सामग्री को रखें इस स्थान पर

    हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का बहुत महत्व होता है, कोई भी शुभ कार्य पूजा और हवन के बिना पूरा नहीं होता है। हवन और पूजा करने से पूरा घर शुद्ध हो जाता है, जब पूजा होती है तो उस समय कुछ नियमों का पालन किया जाता है। पूजा के समय नियमों के पालन करने के साथ ही पूजा समाप्त होने के बाद भी कुछ बातों को ध्यान में...

  • भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप

    धन के देवता कुबेर भगवान शिव के परमप्रिय सेवक हैं। सावन के महीने में अगर भगवान शिव की पूजा के साथ - साथ धन के देवता कुबेर की भी पूजा की जाए तो इससे धन वृद्धि होती है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार कुबेर देवता धन के देवता हैं अगर ये किसी पर प्रसन्न हो जाएं तो उसे कभी भी धन की कमी नहीं होती है वहीं अगर ये...

  • घर में इन पौधों को लगाने से दूर होता है वास्तुदोष

    कुछ पौधे ऐसे होते हैं जिन्हें घर में रखना बहुत शुभ माना जाता है, ये पौधे वास्तु दोष को घर से दूर रखते हैं। अगर इन पौधों को घर में लगाकर रखा जाए तो इससे घर में सुख-शांति बनी रहती है। इसी के साथ तरक्की के रास्ते भी खुलते हैं। आइए जानते हैं इन खास पौधों के बारे..... नींबू का पौधा :- ...

  • करें गंगाजल का ये उपाय, घर में रहेगा सुख-संपदा का वास

    भगवान शिव ने मां गंगा को अपनी जटाआें में समेट रखा है और उन्हें गंगा जल बहुत प्रिय है। इसी कारण अगर भगवान शिव का गंगाजल से अभिषेक किया जाए तो वे बहुत प्रसन्न होते है। सावन माह में कांवड़िए दूर-दूर से गंगाजल भरकर अपनी कांवड़ में लाते हैं और भोलेनाथ का अभिषेक करते हैं। शास्त्रों में गंगाजल को बहुत...

  • भगवान शिव को बहुत प्रिय है ये पक्षी..

    भगवान शिव को नीलकंठ कहा जाता है, आपको बता दें कि नीलकंठ नाम का एक पक्षी भी होता है। इस पक्षी को भगवान शिव ( नीलकंठ ) का प्रतीक माना जाता है। उड़ते हुए नीलकंठ पक्षी का दर्शन करना सौभाग्य का सूचक माना जाता है। सावन का महीना भगवान शिव की भक्ति का महीना होता है ऐसे में अगर सावन माह में किसी व्यक्ति को...

  • कलेक्टर ,एसपी की मौजूदगी में वन मंत्री ने फहरा दिया उल्टा तिरंगा

    बीजापुर। छत्तीसगढ़ के वन मंत्री महेश गागड़ा ने अपने विधानसभा क्षेत्र बीजापुर में बुधवार को ध्वजारोहण के दौरान उल्टा तिरंगा झंडा फहरा दिया। फिर आनन-फानन में राष्ट्रीय ध्वज को सीधा किया गया। इस घटना के बाद मंत्री गागड़ा सहित बीजापुर प्रशासन पर न सिर्फ सवाल खड़े किए जा रहे है, बल्कि गंभीर चूक बताई जा...

  • 15 अगस्त को है नागपंचमी , इस शुभ मुहूर्त में करें नाग देवता की पूजा

    नाग पंचमी का त्योहार श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। इस दिन नागों की पूजा की जाती है और उन्हें दूध पिलाया जाता है। इस बार नागपंचमी 15 अगस्त को है। पंचमी तिथि 15 अगस्त को सुबह 03ः27 बजे शुरू प्रारंभ होगी और 16 अगस्त को सुबह 01ः51 बजे खत्म होगी। नागपंचमी पर शुभ मुहूर्त में...

Share it
Share it
Share it
Top