Read latest updates about "धर्म" - Page 3

  • पूर्ण विश्व में मनाई जाती है दीपावली

    दीपावली केवल भारतवर्ष में ही नहीं मनायी जाती वरन् यह एक ऐसा खुशियों भरा त्यौहार है जो विदेशों में भी मनाया जाता है। इस पर्व पर कहीं हजारों गुब्बारे आकाश में छोड़े जाते हैं तो कहीं पर खूब आतिशबाजी की जाती है। आइए अब हम देखते हैं कि भारत व अन्य देशों में दीपावली किस तरह मनाई जाती है। भारत में सभी...

  • धनतेरस पर झाड़ू खरीदने की अनोखी परंपरा

    दीपावली के पहले धनतेरस या धन त्रयोदशी पर खरीदारी की परंपरा है। मान्यता है कि धनतेरस पर खरीदी गयी वस्तु का नाश नहीं होता और इसमें तेरह गुना वृद्धि हो जाती है। आम लोग इसलिए धनतेरस पर सोना, चांदी, भूमि, वाहन और घर में इस्तेमाल होने वाली चीजों की खरीदारी करते हैं। इन वस्तुओं के साथ झाड़ू खरीदने की भी...

  • दीपावली में करें आतिशबाजी से बच्चों की सुरक्षा

    दीपावली खुशियों का त्यौहार है। दीपावली में खुशी का इजहार पटाखे जलाकर किया जाता है। दीपावली में सभी लोग पटाखे छोडऩे में तल्लीन रहते हैं लेकिन कभी-कभी पटाखे छोडऩे के क्रम में यदि असावधानीवश भूल हो जाती है, तब दीपावली की सारी खुशियाँ गम में बदल जाती हैं। इसलिए यह माता-पिता के लिए यह बहुत जरूरी है कि...

  • 10551 दीपों से जगमगायेगा शक्तिपीठ देवीपाटन

    पीठाधीश्वर ने लोगों से मिट्टी के दीपक जलाने का किया आवाहन बलरामपुर। दीपावली पर शक्ति पीठ देवीपाटन मन्दिर पर 10551 मिट्टी के दीपक से दीपोत्सव कार्यक्रम मनाया जायेगा। जिसके लिए मिट्टी के दीपक का संग्रहण शुरू हो गया है। दीपावली पर हर वर्ष नाथ परम्परानुसार दीपावली पर पीठ के पीठाधीश्वर द्वारा विशेष...

  • समृद्धि का पर्व-अन्नकूट महोत्सव

    कार्तिक मास के शुक्लपक्ष को अन्नकूट-महोत्सव मनाया जाता है। इस दिन गोवर्धन की पूजा कर अन्नकूट का अत्सव मनाना चाहिए। इससे भगवान विष्णु की प्रसन्नता प्राप्त होती है- 'कार्तिकस्य सिते पक्षे अन्नकूटं समाचरेत्। गोवर्द्धनोत्सवं चैव श्रीविष्णु: प्रीयतामिति।।' इस दिन प्रात: काल घर के द्वारदेश में गौ के...

  • ऋणमुक्ति एवं संपन्नता का पर्व-धनतेरस

    कार्तिक कृष्णपक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस कहते हैं। यह पर्व दीपावली से प्राय: दो दिन पहले आता है। इस दिन से तीनों दिन तक लक्ष्मी भूमण्डल का विचरण करती हैं। इसलिए इस दिन भौतिक लक्ष्मी के प्रतिस्वरूप सोना, चांदी, जवाहरात एवं आभूषण आदि खरीदकर घर लाए जाते हैं। साधारण व्यक्ति भी जो सोना-चांदी नहीं खरीद...

  • धनतेरस पर इन बातों का रखें ध्यान.. पूरे साल नहीं होगी धन की कमी

    दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है, इस दिन लोग जमकर खरीदारी करते हैं। मान्यता के अनुसार इस दिन खरीदारी करने से घर में धन और बरकत बनी रहती है। इस दिन खरीदारी करने के साथ ही व्यापार-व्यवसाय से संबंधित सौदे भी किए जाते हैं। अगर आप भी धनतेरस पर कोई व्यापारिक सौदा करने जा रहे हैं तो...

  • धनतेरस - 5 नवंबर: धनतेरस से प्रारम्भ होती है दीपावली की बहार

    हिन्दू धर्म में दीपावली का पर्व बहुत ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है। हमारे देश में सर्वाधिक धूमधाम से मनाए जाने वाले त्योहार दीपावली का प्रारम्भ धनतेरस से हो जाता है। धनतेरस छोटी दीवाली से एक दिन पहले मनाया जाता है। इस दिन कोई भी समान लेना बहुत ही शुभ माना जाता है। इस साल धनतेरस 5 नवंबर को है।...

  • पर्यटन/धर्मस्थल: मायादेवी मंदिर-हरिद्वार

    हरिद्वार को मायापुरी नाम से भी पुकारा जाता है। इसका कारण यह है कि यहां भगवती मायादेवी का मंदिर स्थित है। मायादेवी भगवती सती का ही एक स्वरूप हैं, जिन्होंने अपने पिता दक्ष प्रजापति द्वारा किये गये यज्ञ में खुद सहित भगवान शिव को न बुलाये जाने पर यज्ञाग्नि द्वारा देहोत्सर्ग कर दिया था- ...

  • मां सरस्वती से जुड़ी ये 5 चीजें घर में रखिए, पलट जाएगी किस्मत

    वास्तु शास्त्र में घर में रखी जाने वाली हर चीज़ के बारे में बताया गया है कि कैसे छोटे से छोटा उपकरण घर के सदस्यों पर अच्छा-बुरा प्रभाव डालता है। परंतु आज हम घर में रखें उपकरणों के बारे में नहीं मंदिर में रखी जाने वाली मूर्तियों के बारे में बताने जा रहे हैं। इसके साथ ही हम आपको उन चीज़ों के बारे में...

  • शुभ योग में मनाई जाएगी धनतेरस

    ग्वालियर। धनतेरस का पर्व 5 नवम्बर को धूमधाम से परंपरा अनुसार मनाया जाएगा। इस बार धनतेरस हस्त नक्षत्र एवं सोम प्रदोष के शुभ योग में मनाई जाएगी। शास्त्रों के अनुसार धनतेरस पर खरीदारी करने से 13 गुना फल प्राप्त होता है। इस दिन पूरे बाजार में जबरदस्त खरीदारी का योग बनेगा। धनतेरस को लेकर बर्तन व...

  • संतान की लंबी आयु की कामना का पर्व है अहोई अष्टमी

    अहोई अष्टमी का पर्व दीपावली के आरम्भ होने की सूचना देता है। यह पर्व विशेष तौर पर माताओं द्वारा अपनी संतान की लम्बी आयु व स्वास्थ्य कामना के लिए किया जाता है। अहोई अष्टमी का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन किया जाता है। पुत्रवती महिलाओं के लिए यह व्रत अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। जिन की संतान...

Share it
Top