Read latest updates about "धर्म" - Page 3

  • भवन निर्माण सामग्री और वास्तु शास्त्र

    किसी भी भवन के निर्माण के लिए कई सामग्रियों की आवश्यकता होती है। इनमें ईंट, लोहा, सीमेंट, पत्थर, लकड़ी आदि होते हैं। वास्तु शास्त्र में विभिन्न सामग्रियों के उपयोग का विस्तृत वर्णन मिलता है। वास्तु शास्त्र में प्राकृतिक सामग्रियों का उपयोग अच्छा बताया गया है जबकि कृत्रिम या सिंथेटिक सामग्री को...

  • पर्यटन/तीर्थस्थल: सिंहेश्वर स्थान: जहां दशरथ ने पुत्रेष्टि यज्ञ किया था

    देवाधिदेव महादेव बाबा सिंहेश्वर नाथ की नगरी मुंगेर से बीस मील दूर दौराम मधेपुरा नामक स्टेशन के नजदीक है। कहा जाता है कि इस स्थान पर प्राचीन काल में महर्षि श्रृंगी का आश्रम था। इस स्थान के विषय में प्रचलित है कि यह क्षेत्र प्राचीन काल में जंगल से भरा हुआ था। दूर-दूर से चरवाहे अपनी गाय-भैंस लेकर यहां...

  • अपने बेडरूम के वास्तु को इस तरह रखें सही

    शयनकक्ष के वास्तु का हमारी शांति और सुकून से गहरा संबंध है। शयनकक्ष ही वह जगह है जहां जाकर शांति और आराम के कुछ पल बिताए जाते हैं। वास्तु सम्मत शयनकक्ष हमारे कष्टों को दूर करता है और हमारे जीवन में प्रसन्नता लाता है। वहीं अगर शयनकक्ष में वास्तुदोष हो तो न ठीक से नींद आती है और न ही किसी काम में...

  • महिलाओं के नाखूनों से जानें उनके स्वभाव के बारे में..

    वास्तुशास्त्र में जहां घर और व्यवसाय को लेकर क्या सही है और क्या नहीं इसके बारे में बताया गया है वहीं भारतीय ज्योतिष के एक प्रमुख अंग सामुद्रिक शास्त्र में व्यक्ति के अंगों को लेकर वर्णन किया गया है। इसमें ये बताया गया है कि व्यक्ति के किस अंग का क्या प्रभाव उसके जीवन पर पड़ता है। व्यक्ति के अंगों...

  • जानिए! क्यों रखा जाता है भगवान कृष्ण की इस प्रिय चीज को घर में

    भाद्रपद माह की अष्टमी तिथि को जन्माष्टमी मनाई जाती है, इस दिन लोग पूरी श्रद्धा से व्रत रखते हैं और पूरे दिन भगवान श्री कृष्ण की भक्ति में लीन रहते हैं। इस बार 2 सितंबर रविवार को अष्टमी तिथि रात्रि 8 बजकर 46 मिनट से 3 सितंबर को शाम 7 बजकर 19 मिनट तक रहेगी। इसी कारण कुछ लोग 2 सितंबर को जन्माष्टमी...

  • प्राकृतिक तरीके से फिट रहने के कुछ मंत्र

    - फल खाने से पहले, खाने के साथ या खाने के बाद में न खाएं। फल एक समय के भोजन के स्थान पर खाएं। - फल हमेशा एक समय पर ही तरह का खाएं। जैसे सेब, केला, संतरा एक साथ दो से तीन खा सकते हैं, पर एक एक मिला कर साथ में न खाएं। - जितना श्रम करें, उतना ही खाना खाएं । - खाना भूख लगने पर ही चबा चबा कर खाएं। -...

  • सैकड़ों साल पुराने बांके बिहारी मंदिर में जन्माष्टमी की मचेगी धूम, बेमिसाल व अद्भुत नक्काशी के लिए विख्यात है मंदिर

    हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में सैकड़ों साल पुराने बांके बिहारी मंदिर में सोमवार से जन्माष्टमी की धूम मचेगी। इसके लिए तैयारी शुरू कर दी गई हैं। यह मंदिर अतीत में स्वतंत्रता संग्राम की यादें आज भी संजोए है तथा इसी मंदिर से अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने हल्ला बोला था।...

  • जानिए! सुबह उठकर सबसे पहले क्यों नहीं देखना चाहिए दर्पण..?

    सुबह का समय ब्रह्म मुहूर्त का समय होता है और इस समय भगवान के ध्यान का समय माना जाता है, इसी कारण पुराने जमाने में लोग सुबह 4 बजे उठकर स्नान करके पूजा-पाठ में लग जाते थे। आज भी बुजुर्ग लोग इस नियम का पालन करते हैं। सुर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि करने से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है और व्यक्ति...

  • इंसान को जीने की राह दिखाती है बांसुरी, जानिए क्या देती है संदेश

    भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव जन्माष्टमी आने वाली है, इस जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण की प्रिय वस्तुएं घर में लेकर आएं। इससे भगवान कृष्ण प्रसन्न होंगे और हमेशा उनकी कृपा आप पर बनी रहेगी। हम आपको यहां भगवान कृष्ण की सबसे प्रिय चीज बांसुरी के बारे में बता रहे हैं। बांसुरी भगवान कृष्ण को बहुत ही प्रिय है...

  • इन नियमों को ध्यान में रखकर लगाएं घर में दर्पण

    दर्पण या शीशा तो सभी घरों में होता है, लोग इसे अपनी आवश्यकता के अनुसार घर की किसी भी जगह पर लगा लेते हैं। उन्हें ये पता नहीं होता है कि अगर दर्पण को सही स्थान पर न लगाया जाए और इससे जुड़े वास्तु के नियमों को ध्यान में न रखा जाए तो घर में लगे दर्पण से वास्तुदोष उत्पन्न होता है। ये वास्तुदोष घर में कई...

  • ज्योतिष: व्यवसाय व व्यापार वृद्धि को प्रभावित करता है आपका विजिटिंग कार्ड

    वास्तु शास्त्र में स्थान, भवन, घर में रखे जाने वाले आधुनिक यंत्रों के साथ साथ व्यापार वृद्धि के काम आने वाली वस्तुओं का भी विशेष महत्त्व है। इनमें सबसे अधिक आपके व्यापार (व्यवसाय) आदि को प्रभावित करता है आपका विजिटिंग कार्ड। अगर आपका विजिटिंग कार्ड आपके अनुकूल रंग, सुन्दर आकर्षक व वास्तु के अनुसार...

  • प्रमोशन की चाह है तो वास्तुशास्त्र के अनुसार करें ये छोटा सा उपाय

    एक छोटी सी इलायची के कई सारे फायदे हो सकते हैं ये जानकर आपको हैरानी होगी। इलायची विभिन्न बीमारियों का इलाज करने के काम तो आती ही है साथ ही इससे वास्तुदोष दूर होते हैं। वास्तुशास्त्र में इलायची को अलग-अलग तरीकों से इस्तेमाल करके कैसे अपनी किस्मत को चमकाया जा सकता है इसके बारे में उपाय बताए गए हैं।...

Share it
Share it
Share it
Top