Read latest updates about "धर्म-दर्शन" - Page 3

  • घर के मंदिर में सूर्य देव की प्रतिमा जरूर रखें और हर दिन उनकी पूजा करें

    रविवार का दिन सूर्य देव का दिन माना जाता है। इस दिन सूर्य देव की पूजा की जाती है और अर्घ्य दी जाती है। हिन्दू धर्म में पांच ईष्ट देव बताए गए है, उनमे से एक सूर्य देव भी हैं। कहा जाता है कि ईष्ट देव की पूजा विघि के अनुसार करने फल की प्राप्ति होती है। कहा जाता है कि ईष्ट देव की पूजा हर दिन करने पर घर...

  • घर में है व‌िष्‍णु या श्री कृष्‍ण की मूर्त‌ि तो पूजा में नहीं करें यह गलती..

    आपके घर के मंद‌िर में भगवान व‌िष्‍णु और श्री कृष्‍ण की मूर्त‌ि जरुर होगी। शास्‍त्रों के अनुसार ज‌िन घरो में बाल गोपाल और श्री व‌िष्‍णु की मूर्त‌ियां हो उन्हें भगवान की पूजा में बहुत ही सावधानी रखनी चाह‌िए और पूजा में कुछ चीजों को लेकर गलत‌ियां नहीं करनी चाह‌िए। भगवान व‌िष्‍णु और बाल गोपल को ब‌िना...

  • गरीब हो या अमीर दान से जुड़ी यह बातें हर किसी को जानना चाहिए..

    दान का सीधा सा अर्थ है देना। लेकिन इसका जिक्र जब भी किसी सराहनीय और अवश्य किए जाने लायक काम के तौर पर किया जाता है तो उसका अर्थ है किसी की सेवा सहायता के लिए कुछ देना। उस तरह देना कि किया गया अवदान जिसे दिया गया है, उसे किसी न किसी तरह समृद्ध और समर्थ बनाता हो। देने का यह भाव खुद की दुनिया का...

  • कुंडली के इस योग से मानव की तीर्थस्थल में होती है मृत्यु..!

    मृत्यु अटल और जीवन का अंतिम सत्य है। मानव धरती पर जन्म लेकर अपने कर्मों को करता है और आखिरी में मृत्यु का वरण कर मोक्ष की यात्रा पर निकल जाता है। मानव की कुंडली से उसके जन्म से लेकर मृत्यु तक के योग निर्धारित होते हैं। उसके जीवन में कर्म कैसे होंगे, धन, दौलत, एश्वर्य उसकी जिंदगी में कैसा रहेगा और...

  • अंबुबासीः श्रद्धालुओं के लिए खुला कामाख्या मंदिर का कपाट

    गुवाहाटी। राजधानी के नीलाचल पहाड़ी पर स्थित विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ कामाख्या मंदिर का कपाट बुधवार तड़के श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिया गया। सबसे पहले मुख्यमंत्री ने पूजा-अर्चना की। इसके बाद लाखों की संख्या में आए श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन किए। प्रतिवर्ष अंबुबासी मेले के दौरान चार दिनों तक...

  • तुलसी की शक्ति है राम भक्ति

    'राम' भक्तों में कविवर गोस्वामी तुलसीदास का नाम बड़े ही प्रेम और भाव से लिया जाता है। गोस्वामी तुलसीदास ने इस मानव समाज को 'रामचरित मानसÓ जैसी संजीवनी देकर अपना तथा इसको पढऩे वाले, सुनने वाले हर मानव जीव का उद्धार कर दिया है।तुलसी ने रामचरितमानस में जिस रामकथा का निरूपण किया, उसका संयोजन...

  • व्यक्ति के जीवन में उथल-पुथल मचाते हैं ये दो ग्रह

    व्यक्ति की कुंडली में स्थित नौ ग्रह उसके जीवन पर अच्छा और बुरा प्रभाव डालते हैं। अगर ग्रहों की स्थिति ठीक हो तो इससे व्यक्ति के जीवन में खुशियों का संचार होता है वहीं ग्रहों की स्थिति ख्रराब होने पर व्यक्ति को अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आपको बता दें कि ज्योतिष...

  • वैष्णो, चन्द्रिका और विन्ध्यांचल देवी मंदिर में चढ़े फूलों से बनेगी अगरबत्ती

    -'सीमैप' की ट्रेनिंग से शिरडी के फूलों से मिल रहा पचास हजार आपके द्वारा मंदिर में चढ़ाए गये फूल से केवल देवी-देवता ही खुश नहीं होंगे। फूल चढ़ाने के बाद सैंकड़ों महिलाओं की दुआएं भी मिलेंगी। देवी मंदिरों में चढ़े फूलों को रोजगार से जोड़ा जा चुका है। ये फूल अब कूड़ेदान में न फेंककर मंदिरों...

  • ऋग्वेद में अग्नि उपासना

    अग्नि ऋग्वेद के प्रतिष्ठित देवता हैं। ऋग्वेद के मंत्रोदय के पहले से ही भारत के लोग अग्नि उपयोग व तत्वदर्शन से सुपरिचित थे। वैदिक ऋषियों ने अग्नि की सर्वव्यापकता और सर्वसमुपस्थिति का साक्षात्कार किया था। वैदिक साहित्य के विद्वान डॉ. कपिलदेव द्विवेदी ने वेदों में अग्नि उल्लेख के 2483 मंत्र बताये हैं।...

  • इस मंदिर में गोबर से बनी हुई है भगवान गणेश की प्रतिमा, पूजा करने से होती हैं सभी इच्छाएं पूरी

    भारत में भगवान गणेश के बहुत से मंदिर हैं जो भक्तों के लिए आस्था का प्रमुख केंद्र हैं। हम आपको यहां भगवान गणेश के एक खास मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो पुराना तो है ही साथ ही यहां विराजमान भगवान गणेश की मूर्ति भी अलग ही तरीके की है, आइए जानते हैं इस मंदिर के बारे में ........... ...

  • भगवान विष्णु ने शिवजी को क्यों किया अपना एक नेत्र अर्पित

    भगवान विष्णु को कमल नयन भी कहा जाता है, वैसे तो कमल नयन का अर्थ होता है कमल के समान नयन वाला, लेकिन भगवान विष्णु का नाम कमल नयन क्यों पड़ा इसके पीछे एक बहुत ही रोचक कथा है। ये पौराणिक कथा क्या है आइए जानते हैं इसके बारे में ........................... पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, दैत्यों के...

  • जानिए! क्यों गरूण देव की तस्वीर को घर में लगाना माना जाता है शुभ

    गरूड़ एक पक्षी है लेकिन इसकी गिनती देवताओं में होती है क्योंकि ये भगवान श्री हरी विष्णु को बहुत प्रिय हैं और इसी वजह से भगवान विष्णु ने इसे अपना वाहन बनाया है। गरूड़ को अपनी तीव्र उडान के लिए भी जाना जाता है। भगवान विष्णु का वाहन होने के कारण गरूड़ का धार्मिक महत्व तो है ही इसके साथ ही इसे चाइनीज...

Share it
Top