Read latest updates about "धर्म-दर्शन" - Page 3

  • जानिए! सुबह उठकर सबसे पहले क्यों नहीं देखना चाहिए दर्पण..?

    सुबह का समय ब्रह्म मुहूर्त का समय होता है और इस समय भगवान के ध्यान का समय माना जाता है, इसी कारण पुराने जमाने में लोग सुबह 4 बजे उठकर स्नान करके पूजा-पाठ में लग जाते थे। आज भी बुजुर्ग लोग इस नियम का पालन करते हैं। सुर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि करने से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है और व्यक्ति...

  • इंसान को जीने की राह दिखाती है बांसुरी, जानिए क्या देती है संदेश

    भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव जन्माष्टमी आने वाली है, इस जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण की प्रिय वस्तुएं घर में लेकर आएं। इससे भगवान कृष्ण प्रसन्न होंगे और हमेशा उनकी कृपा आप पर बनी रहेगी। हम आपको यहां भगवान कृष्ण की सबसे प्रिय चीज बांसुरी के बारे में बता रहे हैं। बांसुरी भगवान कृष्ण को बहुत ही प्रिय है...

  • अजूबा अंक है 7

    माना जाता है कि संसार की रचना सात दिनों में ही हुई थी। सात दिनों का एक सप्ताह होता है। आदिकाल से उन ग्रहों की संख्या भी सात ही मानी जाती थी जिनके बारे में विश्वास था कि वे पृथ्वी पर होने वाली सभी घटनाओं को प्रभावित करते हैं। संगीत के सुर क्रम में भी सात सुर होते हैं। सात महासागर और सात महाद्वीपों...

  • इन नियमों को ध्यान में रखकर लगाएं घर में दर्पण

    दर्पण या शीशा तो सभी घरों में होता है, लोग इसे अपनी आवश्यकता के अनुसार घर की किसी भी जगह पर लगा लेते हैं। उन्हें ये पता नहीं होता है कि अगर दर्पण को सही स्थान पर न लगाया जाए और इससे जुड़े वास्तु के नियमों को ध्यान में न रखा जाए तो घर में लगे दर्पण से वास्तुदोष उत्पन्न होता है। ये वास्तुदोष घर में कई...

  • ज्योतिष: व्यवसाय व व्यापार वृद्धि को प्रभावित करता है आपका विजिटिंग कार्ड

    वास्तु शास्त्र में स्थान, भवन, घर में रखे जाने वाले आधुनिक यंत्रों के साथ साथ व्यापार वृद्धि के काम आने वाली वस्तुओं का भी विशेष महत्त्व है। इनमें सबसे अधिक आपके व्यापार (व्यवसाय) आदि को प्रभावित करता है आपका विजिटिंग कार्ड। अगर आपका विजिटिंग कार्ड आपके अनुकूल रंग, सुन्दर आकर्षक व वास्तु के अनुसार...

  • प्रमोशन की चाह है तो वास्तुशास्त्र के अनुसार करें ये छोटा सा उपाय

    एक छोटी सी इलायची के कई सारे फायदे हो सकते हैं ये जानकर आपको हैरानी होगी। इलायची विभिन्न बीमारियों का इलाज करने के काम तो आती ही है साथ ही इससे वास्तुदोष दूर होते हैं। वास्तुशास्त्र में इलायची को अलग-अलग तरीकों से इस्तेमाल करके कैसे अपनी किस्मत को चमकाया जा सकता है इसके बारे में उपाय बताए गए हैं।...

  • अनेक तरह के होते हैं शिवलिंग, मनोकामना के अनुसार करें पूजा

    भगवान शिव की पूजा करने से हर मनोकामना की पूर्ति होती है, वहीं शिवलिंग की पूजा करने से भोलेनाथ जल्द ही प्रसन्न होते हैं। क्या आप जानते हैं शिवलिंग कई प्रकार के होते हैं और अलग-अलग कामना की पूर्ति के लिए अलग-अलग शिवलिंग की पूजा की जाती है। आइए आपको विस्तार से बताते हैं इसके बारे में...... किसी को...

  • जानिए! घर में बने मकड़ी के जालों को वास्तुशास्त्र में शुभ माना जाता है या अशुभ

    वास्तु शास्त्र में कई ऐसी चीजों के बारे में बताया गया है जो व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव डालती हैं। इन्हीं में से एक है घर में होने वाले मकड़ी के जाले। मकड़ी अधिकतर सभी घरों में अपने जाले बनाती है। वास्तु के अनुसार मकड़ी के जाले घर में बनना बहुत अशुभ होता है। अगर घर में मकड़ी के जाले होते हैं तो घर की...

  • रक्षाबंधन पर अपनी बहन को राशि अनुसार दें ये गिफ्ट

    रक्षाबंधन का पर्व भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधकर उसकी लंबी उम्र की कामना भगवान से करती है वहीं भाई अपनी बहन को उपहार देते हैं। रक्षाबंधन पर दिए जाने वाले उपहार यदि राशि के अनुसार दिए जाएं तो ये और भी ज्यादा शुभ फल प्रदान करते हैं। आइए आपको बताते हैं आप...

  • 26 अगस्त को रक्षाबंधन, 4 साल के बाद बना ऐसा संयोग, जानिए राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

    सावन मास की पूर्णिमा को रक्षा बंधन का पवित्र त्योहार मनाया जाता है, यह दिन भाई -बहन के लिए विशेष महत्व रखता है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है, उसके माथे पर तिलक करती है और मिठाई खिलाकर अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती है। वहीं भाई भी अपनी बहन को ये वादा करता है कि वह उसकी उम्र भर...

  • घर में नहीं रखनी चाहिए भगवान शिव की ये मूर्तियां

    अधिकतर सभी हिंदू घरों में भगवान शिव की प्रतिमाएं या मूर्तियां होती हैं, जिनकी पूजा की जाती है। सावन का महीना चल रहा है और इस माह में भोलेनाथ की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। आपको बता दें कि भोलेनाथ की कुछ मूर्तियां ऐसी हैं जिन्हें घर के मंदिर में रखना शुभ नहीं माना जाता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार...

  • साल में एक बार मात्र 24 घंटे के लिए खुलता है ये मंदिर

    मध्यप्रदेश के उज्जैन में स्थित भगवान नागचन्द्रेश्वर का मंदिर साल में एक ही दिन 24 घंटे के लिए खुलता है। इस बार ये मंदिर 14 अगस्त की मध्य रात्रि को खुला और 15 अगस्त को पूरे दिन खुला। देश में यह एक मात्र भगवान नागचंदेश्वर का मंदिर है जिसके पट नागपंचमी के एक दिन पहले 24 घंटे के लिए खोले जाते हैं। यह...

Share it
Share it
Share it
Top